सिंधु घाटी सभ्यता का इतिहास Indus Valley Civilization History in Hindi

सिंधु घाटी सभ्यता का इतिहास Indus Valley Civilization History in Hindi

सिंधु घाटी सभ्यता एक प्राचीन सभ्यता थी, जो आज पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिमी भारत में स्थित है, जो सिंधु नदी के उपजाऊ मैदान और इसके आसपास के क्षेत्र में फैली है। इस क्षेत्र में धार्मिक प्रथाओं का साक्ष्य लगभग 5500 ईसा पूर्व का है।

लगभग 4000 ईसा पूर्व के आसपास खेती की शुरुआत हुई और लगभग 3000 ईसा पूर्व में पहली बार वहां शहरी-करण के संकेत दिखाई दिए। 2600 ईसा पूर्व तक, दर्जनों कस्बों और शहरों की स्थापना की गई थी, और रेडियोकार्बन डेटिंग के अनुसार 2500 से 1750 ईसा पूर्व के बीच सिंधु घाटी सभ्यता प्रगति की अपनी चरम सीमा पर थी।

सिंधु घाटी सभ्यता का इतिहास Indus Valley Civilization History in Hindi

हड़प्पा संस्कृति और मोहन जोदड़ो Harappan culture & Mohenjo-daro Lifestyle

दो महान शहर मोहन जोदड़ो और हड़प्पा लगभग 2600 BCE में सिंधु नदी(Indus River) घाटी के साथ पंजाब और सिंध में थे। साक्ष्य बताते हैं कि उनके पास एक बेहद विकसित शहर का जीवन था। कई घरों में कुओं और स्नानघर थे और साथ ही एक विस्तृत भूमिगत जल निकासी व्यवस्था भी थी। ये शहर एक अच्छी तरह से योजनाबद्ध शहरीकरण प्रणाली का प्रदर्शन करते थे।

सिंधु घाटी सभ्यता और निकट पूर्व के हिस्से के बीच कुछ स्तर तक संबंध होने का प्रमाण हैं। इतिहासकारों के अनुसार सिन्धु सभ्यता और सुमेरियन सभ्यता के बीच घनिष्ठ व्यापारिक एवं सांस्कृतिक संबंध थे। सुमेरियन साक्ष्यों में सिन्धु सभ्यता का उल्लेख “दिलमुन” नाम से है। सुमेरियन एवं मेसोपोटामिया सभ्यता में भी पक्की ईंटों के भवन, पीतल व तांबे का प्रयोग, चित्रमय मुहरें आदि प्रचलित थी।

इसे भी पढ़ें -  हड़प्पा सभ्यता का इतिहास History of Harappa Civilization in Hindi

सिंधु सभ्यता की एक लेखन प्रणाली थी, जो आज भी एक रहस्य है। इसको समझने के लिए सभी प्रयास विफल रहे हैं। सिंधु घाटी सभ्यता प्राचीन काल की महत्वपूर्ण प्रारंभिक सभ्यताओं में से एक थी। इस लेखन प्रणाली के उदाहरण मिट्टी के बर्तनों, ताबीज, नक्काशीदार स्टैम्प, और यहां तक ​​कि वजन और तांबे की गोलियों में भी पाए गए ।

विचार-विमर्श के एक अन्य बिंदु इन शहरों के बीच संबंधों की प्रकृति दर्शाती है चाहे वह स्वतंत्र शहर-राज्य हों या बड़े राज्य का हिस्सा पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है। क्योंकि सिंधु के लोगों का लेखन अकुशल था और न तो शासकों की मूर्तियां और लड़ाइयों और सैन्य अभियानों का चित्रण पाया गया है, इसलिए दोनों दिशाओं की ओर इशारा करते साक्ष्य निर्णायक नहीं हैं।

इसमें कुछ मुख्य चीजें जैसे ‘ग्रेट बात’ (मोहन जोदड़ो) और हड़प्पा के पंक्ति में स्तिथ भंडार। साथ ही  माना जाता है सिंधु सभ्यता के लोगों को गेहूं, चने, तिल, धान और अन्य कई प्रकार के अनाजों का भी ज्ञान था और वह इनकी अच्छी खेती भी करते थे। कुछ अन्य साक्ष्य के अनुसार कहा जाता है उन्हें सभी प्रकार के पालतू जानवरों जैसे भेड़, भैंस, बकरी, सूअर, कुत्ते, ऊंट पाला करते थे।

सिंधु घाटी सभ्यता का पतन या अंत Decline of Sindhu Ghati Sabhyata

1800 ईसा पूर्व तक, सिंधु घाटी सभ्यता ने उनकी गिरावट की शुरुआत देखी। लेखन अकुशल होने के कारण , व्यापार के लिए मानकीकृत मापन का उपयोग किया गया और कराधान के उद्देश्य के उपयोग बंद कर दिया गया। निकट पूर्व के साथ संबंध बाधित होते गये, इस गिरावट के कारण पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हैं।

लेकिन यह माना जाता है कि सरस्वती नदी का सूखना, 1900 ईसा पूर्व के आसपास शुरू हुई थी, यह मुख्य कारण था। अन्य विशेषज्ञ क्षेत्र में एक महान बाढ़ इसका कारण बताते हैं। इस घटना से कृषि की गतिविधि पर भयानक प्रभाव पड़ा, जिससे अर्थव्यवस्था स्थायी नहीं रह सकी और इस वजह से  शहरों के नागरिक ने भी आदेश को तोड़ना प्रारंभ कर दिया।

इसे भी पढ़ें -  बोधिधर्मन का इतिहास व कहानी Bodhidharma History Story in Hindi

लगभग 1500 ईसा पूर्व, भतकते हुए मवेशियों का एक बड़ा समूह, आर्य, मध्य एशिया से इस क्षेत्र में चले गए। आर्यों ने हिंदू कुश पर्वत को पार किया और सिंधु घाटी सभ्यता के संपर्क में आये। यह एक बड़ा प्रवास स्थान था और इसे एक आक्रमण के रूप में देखा जाने लगा, जिसे सिंधु घाटी सभ्यता के पतन का कारण माना गया था, लेकिन आज भी यह परिकल्पना सर्वसम्मति से स्वीकार नहीं की गई है।

इस प्रकार, सिंधु घाटी सभ्यता का अंत हो गया। कई शताब्दियों के दौरान, आर्यों यहाँ धीरे-धीरे बस गए और उन्होंने कृषि के व्यवसाय को अपनाया। आज दक्षिण एशिया में सबसे अधिक व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषाओं की उत्पत्ति आर्यों द्वारा लाई गयी है, जिन्होंने भारतीय उपमहाद्वीप में इंडो-यूरोपीय भाषाओं की शुरुआत की।

धार्मिक प्रथाओं और जाति विभाजन जैसे आधुनिक भारतीय समाज की अन्य विशेषताएं आर्यन के समय में भी पता लगाई जा सकती थी। कई पूर्व-आर्यन रीति रिवाज़ आज भी भारत में प्रचलित हैं। इस दावे का समर्थन करने वाले साक्ष्य भी शामिल हैं।

भारतीय समाज के कई क्षेत्रों के पूर्व-आर्यन परंपराओं की निरंतरता और यह भी संभावना है कि हिन्दू देवताओं के कुछ प्रमुख देवताओं का वास्तव में सिंधु घाटी सभ्यता के समय उद्भव हुआ था और जिन्हें सदियों से मूल निवासियों द्वारा “पूजा ” जा रहा था।

Featured Image Source –

Ancient Harappa Civilisation(CC BY-SA 3.0)
Indus Valley Civilization, Early Phase (3300-2600 BCE) – (CC BY-SA 3.0)

2 thoughts on “सिंधु घाटी सभ्यता का इतिहास Indus Valley Civilization History in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.