हड़प्पा सभ्यता का इतिहास History of Harappa Civilization in Hindi

इस अनुच्छेद मे हमने हड़प्पा सभ्यता का इतिहास (History of Harappa Civilization in Hindi) विस्तार से बताया है। यह सिंधु घाटी सभ्यता का ही एक हिस्सा है। यहाँ आप जानेंगे इसका विस्तार कैसे हुआ, इसकी नगर योजना कैसी थी, लोगों की अर्थव्यवस्था,पहनावे, कला, पूजा, लिपि, धर्म, के विषय मे पूरी जानकारी।

क्या आप जानते हैं हड़प्पा संस्कृति भारत की सबसे प्राचीन सभ्यता है। हड़प्पा और मोहन जोदड़ो पंजाब के मांटेगोमेरी जिले, पाकिस्तान में स्थित हैं। हड़प्पा सभ्यता वर्तमान शताब्दी के तीसरे दशक में मोहन जोदड़ो में आयोजित की गई थी। हड़प्पा का रहस्य बहुत ही अनोखा है

आईए जानें: हड़प्पा संस्कृति का इतिहास History of Harappa Civilization in Hindi (हड़प्पा का रहस्य)

सिंधु घाटी सभ्यता Indus Valley Civilization (हड़प्पा मोहन जोदड़ो)

सिंधु घाटी सभ्यता, सिंधु नदी की घाटी का उल्लेख करती है। मोहन जोदड़ो सिंधु घाटी क्षेत्र अत्यंत व्यापक था। हड़प्पा और  मोहन जोदड़ो की खुदाई करने से इस सभ्यता के प्रमाण मिले हैं। अतः इस तरह विद्वानों ने इसे सिंधु घाटी की सभ्यता का नाम दिया, क्योंकि यह क्षेत्र सिंधु और उसकी सहायक नदियों के क्षेत्र में आते हैं।

पर बाद में रोपड़, लोथल, कालीबंगा, वनमाली, रंगापुर आदि क्षेत्रों में भी इस सभ्यता के अवशेष मिले जो सिंधु और उसकी सहायक नदियों के क्षेत्र से बाहर थे। सिंधु सभ्यता दुनिया की सबसे पुरानी संस्कृतियों में से एक थी। यह सभ्यता शहरी प्रकृति से संबंधित थी।

हड़प्पा सभ्यता का विस्तार Expansion of the Harappan civilization

हड़प्पा सभ्यता एक नगरीय संगठन था, जहां कुछ चिन्हों के दौरान सात भिन्नता पायी गयी। मोहन जोदड़ो  के विनाश के दौरान, हड़प्पा सभ्यता ने मोहन जोदड़ो के शहर को पुनर्निर्माण किया। उस समय हड़प्पा सभ्यता  शहरी जीवन की प्रगति पर आधारित थी।

हड़प्पा सभ्यता की नगर योजना Town planning of Harappa civilization

हड़प्पा के लोगों का जीवन बहुत ही सुखद और शांतिपूर्ण था। हड़प्पा समुदाय ग्रामीण इलाके में रहता था। वे लोग बहुत ही अच्छे विचारों के और मददगार लोग थे, वे बिलकुल भी खतरनाक नहीं थे। जिन बड़े शहरों के घरों में लोग रहते थे, वे घर पांच फुट की लंबाई और 97 फुट की चौड़ाई के हुआ करते थे। उनके भवनों में दो कमरे वाले घर होते थे।

हड़प्पा सभ्यता के शहरों को बहुत अच्छी योजना और बड़ी खूबसूरती से बनाया गया था। सड़क के दोनों किनारों पर पंक्तियों में घर बनाए गए थे। भवन का निर्माण करने के लिए उन्होंने धूप में सूखी हुई ईंटों का प्रयोग किया था। कुछ घर गलियों में भी बनाये गये थे। अमीर लोग बड़े घरों में रहते थे, उनके पास कई कमरे वाले घर होते थे। मुख्य रूप से, गरीब लोग छोटे घरों और झोपड़ियों में रहते थे।

इसे भी पढ़ें -  भारत की जनजातियाँ व उनका वर्गीकरण Tribes of India in Hindi

अनाज रखने का कोठार, जो 45.71 मीटर लंबा और 15.23 मीटर चौड़ा हुआ करता था। हड़प्पा के दुर्ग में छः कोठार मिले हैं, जो ईंटों के चबूतरे पर दो पांतों में खड़े  हैं। जनता के लिए मोहन जोदड़ो द्वारा स्नानागार की खोज की गई। यह सिंधु सभ्यता की मुख्य सुविधा में से एक थी। हड़प्पा सभ्यता के शहरों में मकान बनाने के लिए भी धूप में सूखी हुई ईंटों का इस्तेमाल किया जाता था।

शहर में मंदिर बनाने के लिए कई ईंटें और मिट्टी का इस्तेमाल होता था। जल निकासी से बचने के लिए उन्होंने जलाशय बनाये और उसमें मिट्टी का उपयोग किया। बौद्ध धर्म के लोगों के लिए स्नानागार का निर्माण किया गया था, पूजा करने वाले कपड़े बदलने के लिए छोटे कमरे इस्तेमाल करते थे तथा इसके बाद देवी की पूजा करते थे।

सिंधु घाटी सभ्यता में, जल निकासी प्रणाली बहुत व्यवस्थित क्रम में थी, हर घर में सबसे अच्छी सुविधा के लिए नाली व्यवस्था का प्रयोग किया गया था। प्रत्येक घर से पानी की निकासी का स्थान ईंटों से बनाया गया था।

घरों में पानी का उपयोग करने के बाद पानी बहकर नाली में जाता था। पानी की निकासी के लिये नालियां बनाई गई थी। नाले को बंद करने के लिए उन्होंने बड़े पत्थर का इस्तेमाल किया, जिससे हानिकारक रोगों बचा जा सके। नालियों को सड़क के भूमिगत मैदान के किनारे पर बनाया गया था। नालियों की जल निकासी सड़क के साथ जुड़ी हुई थी।

लोगों की अर्थव्यवस्था People’s economy

हड़प्पा सभ्यता का इतिहास History of Harappa Civilization in Hindi

Image Credit – (CC BY-SA 3.0)

हड़प्पा सभ्यता की अर्थव्यवस्था व्यापार पर निर्भर करती थी। हड़प्पा की प्रगति का मुख्य कारण परिवहन व्यापार था। परिवहन प्रौद्योगिकी के प्रमुख अग्रिमों ने हड़प्पा के लोगों के लिए सहायता भी की थी।

वे व्यापार के लिये बैल-गाड़ियाँ और नाव का इस्तेमाल करते थे और यही परिवहन का मुख्य स्रोत था। बैल-चालित गाड़ियां दक्षिण एशिया की पहचान थीं। वे नौकाओं और बैलगाड़ियों के उपयोग करके व्यापार करते थे। अधिकांश नौका छोटे और समतल तल की बनी थी, और नाविक के द्वारा संचालित होती थी, जिसको आज भी सिंधु नदी पर देख सकते हैं।

हड़प्पा का पहनावा Harappan’s dressings

हड़प्पा के लोग कॉटन और ऊन से बने कपड़ों की पोशाक पहनते थे। ज्यादातर लोगों को इन कपड़ों के बारे में पता नहीं था। वे लोग कपड़े के दो अलग-अलग हिस्सों का इस्तेमाल करते थे, जो शरीर के ऊपरी और निचले हिस्से को ढ़कने में मदद करता था। उस समय आदमी दाढ़ी रखते थे, लेकिन आम तौर पर उनकी मूंछें नहीं होती थी ।

महिलायें अपने बालों की लट को रिबन द्वारा बांधती थी, वह अपने बालों को कपड़े से ढ़कना पसंद करती थी। उस समय पुरुष और महिलायें दोनों गहने पहनना पसंद करते थे।

हड़प्पा सभ्यता की प्रमुख विशेषता और कला Key Features and Art

हड़प्पा सभ्यता का इतिहास History of Harappa Civilization in Hindi

Image Credit – (CC BY 2.0)

हड़प्पा सभ्यता के लोगों में कला को पहचानने की योग्यता थी। वे लोग विभिन्न प्रकार के पुताई और चमकने वाले मिट्टी के बर्तनों का इस्तेमाल किया करते थे। वे कई प्रकार के सामान को रंग लेते थे, यहाँ तक कि वे गाय, भेड़, बंदर, हाथी, भैंस, सूअर, आदि जानवरों को भी रंग दिया करते थे। उन्होंने विभिन्न प्रकार की मूर्तियों की खोज की और उन्हें रंग दिया करते थे।

टेररा-कोटा के कामों में, खिलौने की गाड़ियां पाई गईं। वे आधुनिक युग के बैल-गाड़ियों की तरह दिखती थी। मोहन जोदड़ो के खंडहर में बड़ी संख्या में चांदी, तांबा और कांस्य, कंघी और सुई, दर्पण, विभिन्न हथियारों से बने कई सामान और बर्तन पाए गए।

हड़प्पा सभ्यता की लिपि Script of Harappan civilization

हड़प्पा लोगों के लेखन सिरेमिक बर्तनों की मुहरों पर और शिला लेख पर पाए गए थे और लंबाई में 4 से 5 अक्षरों से अधिक नहीं थे; जिसमें सबसे लंबा अक्षर 26 था।

सिंधु घाटी सभ्यता एक और तरीके से रहस्यमय थी। विद्वान भी सिंधु की पटकथा को नहीं समझ सके, जो उन्होंने लिखा है कोई भी नहीं जानता कि कौन सी भाषा सिंधु लोग बोलने के लिए उपयोग कर करते थे। विद्वानों को भी इसका कोई सही सुराग नहीं मिल सका।

हड़प्पा संस्कृति घरेलू जानवर Domestic animals

घरेलू पशुओं जैसे गाय, सूअर, भैंस, कुत्ते और मेमने को विद्वानों के लेखन में संदर्भ किया गया है।  

हड़प्पा संस्कृति के लोगों का भोजन Food & Agriculture

धान की खोज में हड़प्पा मुख्य रूप से कृषि का स्थान था। हड़प्पा लोगों का मुख्य भोजन मुख्यतः गेहूं, जौ और बादाम था।

हड़प्पा सभ्यता का धर्म Religion of civilisation

मोहन जोदड़ो और हड़प्पा में कोई मंदिर और देवता की छवि नहीं थी। हड़प्पा और सिंधु लोग अपने स्थान को लेकर बहुत ही धार्मिक थे। वे  मां को पूजते थे जिसमें शिव पशुपति प्रख्यात थे। वे “लिंग” और वृक्ष, सांप, पशु आदि की पूजा भी करते थे ।

हड़प्पा सभ्यता के लोगों के गहने People of Harappan civilization

हड़प्पा और सिंधु के गहने सोने और अन्य धातुओं द्वारा बनाए गए थे। गहने में मुलायम धातुओं का प्रयोग किया गया था। महिलाएं सोने के गहने का इस्तेमाल उसी पत्थर के टुकड़े के साथ करती थीं जिस प्रकार के रंग के वे वह कपड़े पहनती थी।

Featured Image Source – (CC BY-SA 3.0)

16 thoughts on “हड़प्पा सभ्यता का इतिहास History of Harappa Civilization in Hindi”

  1. मुझे हड़प्पा की और जानकरी चाहिए और जो भी जानकारी मिली है बहुत ही बढिए है और हर जानकरी मुझे मिली है सारी लाभ दयाक है

    Reply
  2. Its a brief history of the Harappa civilization…really thankful of your content where we get about its culture, business, animals about each and everything about this Harapan civilization.

    Reply
  3. sindhu ghati sabhyta par maine 400 pages k notes bnaye hai . her site pe kuch na kuch neya hota hai. but thanks aapki site se bhi acha likhne ko mila jiii.

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.