ब्रूस ली की जीवनी Bruce Lee Biography in Hindi

इस लेख में ब्रूस ली की जीवनी Bruce Lee Biography in Hindi आप पढ़ेंगे। इसमें उनका, परिचय, जन्म, प्रारंभिक जीवन, शिक्षा, मार्शल आर्ट फाइट और मूवी करिअर, विश्व रिकार्ड, विचार जैसी की जानकारियाँ दी गई है।

नाम- ब्रूस ली (Bruce Lee),
पूरा नाम- ली जून फेन (Lee Jun Fan)
व्यवसाय- फिल्म अभिनेता, मार्शल आर्ट के विशेषज्ञ, टीवी अभिनेता तथा जीत कुन डो के संस्थापक (Action Film Actor, Martial Arts Expert and Tutor, Television Actor and Founder of Jeet Kune Do)
जन्म- 27 नवम्बर, 1940
जन्म स्थान- चाइनाटाउन, सन फ्रांसिस्को, कैलिफ़ोर्निया, अमेरिका (Chinatown, San Francisco, California, U.S.)
मृत्यु- 20 जुलाई, 1973
मृत्यु स्थान- होंग कांग, चीन (Hong Kong, China)
शिक्षा- यूनिवर्सिटी ऑफ़ वाशिंगटन (University of Washington)

ब्रूस ली की जीवनी Bruce Lee Biography in Hindi

किसी इंसान की काबिलियत उसके शारीरिक दिखावे से नहीं, बल्कि उसके अपने काम के प्रति समर्पण और जुनून से मापी जाती है। 

क्योंकि यदि ऐसा संभव होता तो किसने सोचा था, कि 5 फुट 8 इंच की लंबाई और 64 किलो वजन वाला एक सामान्य दिखने वाला आदमी मार्शल आर्ट का बादशाह बन सकता है। हम बात कर रहे हैं, ब्रूस ली की जिन्हें मार्शल आर्ट की दुनिया का भगवान कहते हैं।

ब्रूस ली की फुर्ती और उनके ताकत के पीछे का कारण आज भी रहस्य है। वे एक सामान्य इंसान से कई गुना अधिक फुर्तीले थे। मार्शल आर्ट के किंग ब्रूस ली 18 साल की उम्र तक लगभग 20 फिल्मों में किरदार निभा चुके थे। 

उन्होंने अपने जीवन काल में सात हॉलीवुड फिल्में भी की थी, जिनमें से तीन फिल्में उनके मरणोपरांत रिलीज की गई थी। ब्रूस ली के नाम दुनिया के कई सारे वर्ल्ड रिकॉर्ड हैं। 

आश्चर्य की बात यह है कि द ग्रेट ब्रूस ली ने कभी भी क्लासिकल मार्शल आर्ट नहीं सीखा था। उन्होंने कुंग-फू की बेहतरीन कला को बिना किसी बड़े कुंग-फू स्कूल के खुद ही सिखा। 

ब्रूस ली एक इंच दूर रहकर सिर्फ एक पंच से सामने वाले को धराशाही कर सकते थे। वे गामा पहलवान और महान बॉक्सर मोहम्मद अली के बहुत बड़े फैन थे। 

उनका यह सपना था कि एक बार अपने आदर्शों के साथ फाइट करें। आज भी ब्रूस ली के बनाए गए रिकॉर्ड को कोई भी तोड़ नहीं सका है।

ब्रूस ली का जन्म व प्रारंभिक जीवन Birth and Early Life of Bruce Lee in Hindi

27 नवंबर सन 1940 में अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को के चाइना टाउन में एक चीनी अस्पताल में ब्रूस ली का जन्म हुआ था। उनके पिता का नाम ली होई – चुएन और मां का नाम ग्रेस हो था। 

नके कुल चार भाई बहन थे, जिनका नाम फोएबे ली, एग्नेस ली, पीटर ली और रोबर्ट ली था। जब वह 3 साल के हुए तब पूरा परिवार हांगकांग में रहने चला गया। 

कहा जाता है कि ब्रूस ली बचपन में बड़े चिड़चिडे किस्म के बच्चे थे। अक्सर उनके माता-पिता उनके ऐसे बर्ताव से बहुत परेशान रहा करते थे। एक अच्छे खासे परिवार से ताल्लुक रखने के बाद भी ली बचपन में वे गैंग रिवलरीस और स्ट्रीट फाइट में शामिल होते थे। 

उनके पिता अपने बेटे के इस काबिलियत को पहचान गए थे, जिससे उन्होंने ब्रूस ली को घर पर ही प्रारंभिक मार्शल आर्ट ट्रेनिंग देना शुरू कर दिया।

और पढ़ें -  औरंगजेब की जीवनी व इतिहास Aurangzeb Biography & History in Hindi

ब्रूस ली की शिक्षा Bruce Lee’s Education in Hindi

ब्रूसली की शुरुआती शिक्षा उनके पिता द्वारा संपन्न की गई, जिन्होंने उन्हें प्रशिक्षण की मूल बातें समझाई थी। इसके पश्चात जब वे 13 साल के हुए तब उन्हें यीप मैन के अंतर्गत विंग चुन की ट्रेनिंग करने के लिए भेजा गया।

ब्रूस ली के मिश्रित वंश के कारण उन्हें “वोंग शुन लयूंग” और “यीप मैन” से ‘विंग चुन’ का प्रशिक्षण लेने के लिए भेजा गया।

अपनी प्रारंभिक शिक्षा ब्रूस ली ने ‘ला सल्ले’ कॉलेज से संपन्न की। यहां ब्रूस ली के लो परफॉर्मेंस के कारण “सेंट फ्रांसिस जेवियर्स कॉलेज” में उनका दाखिला करवाया गया। 

कुछ समय बाद वे सैन फ्रांसिस्को से सिएटल रहने के लिए चले गए, जहां अपने आगे की शिक्षा एडिशन तकनीकी स्कूल से करने के लिए एडमिशन लिया।

इसी दौरान लिव – इन वेटर के रूप में उन्होंने “रूबी चाउ’स रेस्तरां” के लिए काम भी किया। इसके पश्चात साल 1961 में वाशिंगटन विश्वविद्यालय में पढ़ने के लिए चले गए। 

ब्रूस ली का मार्शल आर्ट फाइट करिअर Bruce Lee’s Martial Arts Fight Career in Hindi

1964 में ब्रूस ली ने अपने मूवी करियर को छोड़कर मात्र मार्शल आर्ट फाइट में करियर बनाने का निश्चय कर लिया। वे मार्शल आर्ट में अपना करियर बनाना चाहते थे, इसीलिए सिएटल में रहते हुए उन्होंने “ली जुन फेन गुंग फु इंस्टिट्यूट” नामक एक मार्शल आर्ट स्कूल खोला। 

तत्पश्चात वे ‘ली कुंग फू’ में शिक्षक के रूप में काम करने लगे। ब्रूस ली, जेम्स ली जोकि ऑकलैंड के बेहद लोकप्रिय मार्शल आर्ट प्रशिक्षक थे, उनके साथ मिलकर वर्ष 1964 में एक मार्शल आर्ट स्कूल खोला, जिसका नाम “जुन फेन मार्शल आर्ट स्टूडियो” था। 

उसी साल उन्होंने ‘लॉन्ग बीच अंतरराष्ट्रीय कराटे चैंपियनशिप’ में हिस्सा लिया जहां ली मुख्य रूप से 2 फिंगर पुश-अप और 1 इंच पंच के प्रदर्शन के पश्चात लोकप्रिय बन गए। इसके बाद ली की मुलाकात ‘तायक्वोंडो मास्टर झूँ गू री’ से हुई इसके पश्चात दोनों की दोस्ती बहुत गहरी हो गई। 

लॉन्ग बीच अंतरराष्ट्रीय कराटे चैंपियनशिप में ब्रूस ली के असाधारण प्रदर्शन के बाद वे कई बड़े-बड़े हॉलीवुड मूवी प्रोड्यूसर्स की आंखों के सामने आए। 

ब्रूस ली को जो भी लाइव परफॉर्मेंस के दौरान मार्शल आर्ट करते देखता था, वह अपनी आंखों पर विश्वास नहीं कर पाता था। कड़ी मेहनत और बार-बार प्रैक्टिस के बाद उन्होंने खुद को इस प्रभावशाली कला में निपुण बना लिया। 

आने वाले सालों में ब्रूस ली ने फिल्मों की जगत में भी प्रवेश किया, जहां अपने अभिनय के जरिए उन्होंने वहां भी अपने परिपूर्णता की छाप छोड़ी। 

ब्रूस ली मूवी करिअर Bruce Lee Movie Career in Hindi

ब्रूस ली के पिता फिल्म जगत से तालुकात रखते थे। वे  एक ‘केंटोनीज़ ओपेरा स्टार’ थे, जिसके कारण ब्रूस ली  के मूवी करियर की शुरुआत में काफी सरलता हुई। बहुत छोटी उम्र में ही उन्होनें फिल्मी जगत में कदम रखा।

सबसे पहले ली ने मोनोसिलेबिक शब्दों का संवाद करना सिखा। जब वह 3 साल के हुए , तो अपने जीवन का सबसे पहला फिल्म “गोल्डन गेट गर्ल” में किरदार निभाया। 

मार्शल आर्ट्स के साथ छोटे ब्रूस ली ने कई फिल्में की, इससे उनके अंदर एक अभिनेता बनने की रूचि पैदा हुई। 18 साल का होते हुए वे पूरे 20 फिल्मों में काम कर चुके थे। 

1959 से लेकर 1964 तक ब्रूस ली ने कई फिल्मों में अभिनय किया, इसके बाद उन्होंने अपने मूवी करियर को बीच में ही छोड़ने का निर्णय लिया।

उन्होंने अपने कुंग फू कैरियर को अधिक समय दिया, लेकिन उनके बेहतरीन परफॉर्मेंस के कारण वे दुनिया में लोकप्रिय बन गए। ऐसे में बड़े-बड़े टीवी चैनल्स उनका इंटरव्यू लेते थे। 

उनकी बढ़ती प्रतिष्ठा के कारण उन्हें कई टीवी सीरीज में मुख्य अतिथि बनकर शामिल होने का मौका भी मिला। ब्रूस ली ने अब एक बार फिर सिनेमा जगत में अपनी एंट्री की। 

1966 में उन्हें “ग्रीन हॉरनेट” नाम की एक सीरीज में काम करने के लिए अवसर मिला। हालांकि यह ज्यादा प्रसिद्धि नहीं बटोर पाई थी।

और पढ़ें -  अमिताभ बच्चन के 51 अनमोल कथन Amitabh Bachchan Quotes in Hindi

तत्पश्चात 1969 में ब्रूस ली को हॉलीवुड में काम करने का अवसर मिला। उन्होंने अपनी सारी हॉलीवुड फिल्मों में नेक्स्ट लेवल की परफॉर्मेंस देकर सभी का दिल जीत लिया। 

वर्ष 1971 में “द बिग बॉस” नमक मूवी में ली ने ताबड़तोड़ किरदार निभाया, जिसके बाद वे एक बड़े चमकते सितारे बन गए थे। अगले साल 1972 में उन्होंने “फर्स्ट ऑफ फ्यूरी” नमक दूसरी फिल्म में काम किया, वह मूवी भी बहुत लोकप्रिय हुई।

मास्टर यिप मेन के साथ ब्रूस ली ट्रैनिंग करते हुए Source (Wikimedia)

तमाम शोहरत और प्यार बटोरने के बाद ब्रूस ली ने अपना एक खुद का प्रोडक्शन कंपनी खोलने का निर्णय लिया। “कोनकोर्ड प्रोडक्शन” नामक प्रोडक्शन कंपनी ब्रूस ली द्वारा शुरू की गई, जिसमें वह खुद डायरेक्टर और कोरियोग्राफर का काम करते थे। 

फिल्मों की शूटिंग में ब्रूस ली के पंच और किक की रफ्तार इतनी ज्यादा होती थी, कि लोग उन्हें देखकर हक्के बक्के रह जाते थे। कहीं दर्शकों को यह ना लगे कि फिल्मों में नकली एडिटिंग की गई है, इस कारण उनके हर एक मूव को लगभग 34 फ्रेम धीमा कर के दिखाया जाता था।

“वे ऑफ़ द ड्रैगन” 1972 में आई ब्रूस ली की तीसरी मूवी थी, जो उनके ही अनुसार बनाई गई थी। इस मूवी में वे निर्देशक, अभिनेता, लेखक और कोरियोग्राफर भी खुद ही बने थे। 

एंटर द ड्रैगन मूवी ब्रूस ली के पूरे जीवन की सबसे बेहतरीन मूवी साबित हुई। ईसने उनको पूरी दुनिया में एक मशहूर अभिनेता बना दिया। फिल्म प्रदर्शन के मात्र 6 दिन पहले ही ब्रूस ली का स्वास्थ्य अत्यंत बिगड़ता गया, जिसके पश्चात उनका निधन हो गया। 

एंटर द ड्रैगन उस साल में सबसे ज्यादा कमाई करने वाला फिल्म बन गया, जिसने ली को मार्शल आर्ट लेजेंड के रूप में स्थापित कर दिया।  

ब्रूस ली वर्ल्ड रिकॉर्ड Bruce Lee World Records in Hindi

  • 135 किलोग्राम वजन और 5 मीटर ऊंचे रेत के एक बैग को किक से कई मीटर ऊपर छत की तरफ उछालने का विश्व रिकॉर्ड ब्रूस ली के नाम है।
  • 3 फुट की दूरी से हमला करने में ब्रूसली को मात्र 0.05 सेकंड का समय लगता था, जो आज तक एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है।
  • 1 सेकंड में 9 बार पंच करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी ली के नाम है। इनमें से हर एक किक से वे 75 किलो से अधिक अपने प्रतिद्वंदी को 5- 6 मीटर दूर धकेल सकते थे।
  • बॉक्सिंग की दुनिया का सरताज कहे जाने वाले मोहम्मद अली की पंचिंग पावर जितनी ब्रूस ली की पंचिंग पावर भी थी। ब्रूसली का वजन केवल 130 पाउंड्स था और उनका पंचिंग पावर 350 पाउंड्स। 
  • वे 1 सेकंड में 6 बार किक मारने की क्षमता रखते थे। उनके केवल एक किक से 200 पाउंड्स वजनिय इंसान 20 मीटर दूर जाकर गिरता था।
  • ब्रूस ली ने 400 एक हाथ से, 200 दो उंगलियों से, 100 अपने एक अंगूठी से इस प्रकार कुल मिलाकर 1500 पुश-अप करके विश्व रिकॉर्ड बनाया है। 

ब्रूस ली की मौत कैसे हुई? How Did Bruce Lee Die?

मार्शल आर्ट के सरताज ब्रूस ली के मौत के पीछे कई कारण बताए जाते हैं। 10 मई वर्ष 1973 में मात्र 32 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया था। इससे पहले भी कई बार मूवी के सेट पर ही वे बेहोश हो गए थे। 

एक बार ऐसा होने पर जब उन्हें क्वीन एलिजाबेथ अस्पताल में भर्ती करवाया गया तब डॉक्टर ने ली को मृत घोषित कर दिया। उनके शरीर की जांच की गई उनके शरीर में  मेप्रोबेमेट घटक पाया गया, जिसके एलर्जिक रिएक्शन  की वजह से उनके मस्तिष्क में सूजन आ गई थी। 

ब्रूसली को सिर दर्द की गंभीर दिक्कत थी। इतने स्वस्थ  होने के बाद भी छोटी उम्र में यूं अचानक ब्रूस ली के निधन से पूरी दुनिया हैरान रह गई थी। ब्रूस ली की मौत के बाद यह अफवाह उड़ाई जा रही थी, कि उनकी मौत किसी श्राप की वजह से हुई।

और पढ़ें -  डॉ. बी. आर. अम्बेडकर के अनमोल कथन Dr. B. R. Ambedkar Quotes in Hindi

यहां तक कि उनके असामयिक मृत्यु के पीछे हत्या की गुंजाइश भी लगाए जा रहे थे। ब्रूस ली की मृत्यु के पश्चात उन्हें सिएटल के लेकव्यू कब्रिस्तान में उनकी पत्नी के होम टाउन में दफन किया गया।

ब्रूस ली के 10 अनमोल विचार 10 Priceless Thoughts of Bruce Lee in Hindi

  1. एक बुद्धिमान इंसान एक मूर्ख से प्रश्न करके उससे बहुत कुछ सीख सकता है, लेकिन वह मूर्ख इंसान बुद्धिमान व्यक्ति से प्रश्न करके कुछ भी नहीं सीखता।
  2. ज्ञान हमेशा शक्ति प्रदान करता है, लेकिन एक अच्छा चरित्र आपको सम्मान देता है।
  3. किसी चीज के बारे में ज्यादा देर तक सोचते रहने से वह घटित नहीं हो सकती, इसके लिए आपको उस कार्य को शुरू करने की आवश्यकता होती है।
  4. जो जैसा सोचता और करता है, वह वैसा ही बन जाता है।
  5. आप अपनी परिस्थितियों का निर्माण स्वयं करते हैं, इसीलिए तकदीर को कोसना मूर्खता है।
  6. आपको तब तक कोई चीज नहीं मिलती, जब तक आप उसके लायक नहीं बन जाते। क्योंकि यदि बिना लाएकात के कोई सफलता प्राप्त होती है, तो वह अधिक देर नहीं ठहरती।
  7. जो काम आप आज कर सकते हो, उसे कल पर मत छोड़ो क्योंकि कल सिर्फ एक कल्पना है।
  8. हमेशा याद रखिए कोई इंसान तब तक नहीं हारता, जब तक वह अपने मन से हार नहीं मान लेता। 
  9. जो चीज जैसी है उसे उसी रूप में देखें। जब पंच मारना हो, तो केवल पञ्च मारे और जब किक मारना हो, तो सिर्फ किक मारे।
  10. खुश रहना अच्छी बात है, लेकिन अपने परफॉर्मेंस से संतुष्ट रहना यह आपकी सफलता में बड़ी बाधा साबित हो सकती है। 

ब्रूस ली के विषय में 20 दिलचस्प तथ्य जो आप नहीं जानते Facts About Bruce Lee You Don’t Know in Hindi

  1. ब्रूस ली ने अपनी अधिकतम फिल्मो में स्वयं अंग्रजी भाषा खुद कहा है।
  2. ब्रूस ली आधे तौर पर जर्मन थे क्योंकि उनके दादाजी पूरे जर्मनी के थे।
  3. वे बहुत ही खतरनाक और जबरदस्त ड्राईवर थे।
  4. ब्रूस ली कि नज़र कमजोर थी।
  5. ब्रूस ली के परिवार वाले उन्हें लिटिल फ़ीनिक्स(Little Phoenix) के नाम से बुलाते थे।
  6. वे होंग कोंग के चा-चा नृत्य के चैंपियन रह चुके थे।
  7. ब्रूस ली एक दिन में 5000 पंच मार कर प्रैक्टिस करते थे।
  8. वे अपनी ऊँगली कि ताकत से टिन कैन में छेद कर देते थे।
  9. हलाकि ब्रूस ली नें पढाई के माध्यम से कराटे नहीं सिखा परन्तु तब भी वह कराटे सही तरीके से जानते थे।
  10. ब्रूस ली नें एक फिल्म के लिए कहानी भी लिखा था जिसका नाम थे “The Silent Flute” हलाकि यह फिल्म कभी शूट नहीं हो पाई।
  11. ब्रूस ली नें अपने जीवन में कई प्रसिद्ध लोगों को और हीरो-हीरोइने को भी मार्शल आर्ट सिखाया।
  12. कहा जाता है जब ब्रूस ली छोटे थे तो उन्हें मिरगी की प्रॉब्लम थी।
  13. ब्रूस ली नें अपने शारीर से पसीने निकलने वाली ग्रंथि को निकलवा दिया था।
  14. ब्रूस ली बहुत ही अच्छे स्केच आर्टिस्ट थे।
  15. ब्रूस ली नें बहुत सारी कवितायेँ भी लिखी थी।
  16. ब्रूस ली को The Times Magazine वालों नें टॉप 100, 20वीं सदी के सबसे प्रभावशाली लोगों की लिस्ट में रखा था।
  17. ब्रूस ली नें कहा था कि उनके पिता उनके सबसे पहले मार्शल आर्ट्स के गुरु थे।
  18. ब्रूस ली के घर में 2000 किताबों की लाइब्रेरी थी।
  19. ब्रूस ली को तैरना नहीं आता था ऐसा उनके भाई रोबर्ट का कहना था।
  20. ब्रूस ली का सबसे मशहूर उद्धरण जो उन्होंने कहा था : If I should die tomorrow, I will have no regrets. I did what I wanted to do. You can’t expect more from life. अगर में कल मर जाता हूँ, मुझे कोई दुख नहीं होगा। मैं जो जीवन में करना चाहता था वह कर चूका हूँ, आप जिंदगी से ज्यादा उम्मीद नहीं कर सकते।

अगर आपको ब्रूस ली का जीवन परिचय Bruce Lee Biography in Hindi अच्छी लगी हो तो कमेंट के माध्यम से अपने विचार भेजना ना भूलें।

22 thoughts on “ब्रूस ली की जीवनी Bruce Lee Biography in Hindi”

  1. ब्रूस ली के बारे में रोचक जानकारी है । हिंदी typing से आर्टिकल में कुश गलतिया है जिन्हें सुधारा जा सकता है

    No 9 ब भी वह करटे सही ( कराटे होना चाहिये )

    15.ब्रूस ली नें बहुत साड़ी कवितायेँ भी लिखी थी। ( बहुत सारी )

    Reply
  2. आपका धन्यवाद इतनी अच्छी कहानी लिखने के लिए।

    Reply
    • इतनी अच्छी जानकारी के लिए धन्यवाद।

      Reply
  3. बहुत अच्छी जानकारी दी आपने ब्रूस ली वाकई एक महान व्यक्ति थे “bruce lee son of god”

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.