विश्व एड्स दिवस पर निबंध Essay on World AIDS Day in Hindi

विश्व एड्स दिवस पर निबंध Essay on World AIDS Day in Hindi

विश्व एड्स दिवस प्रति वर्ष 1 दिसंबर को पूरे विश्व भर में एड्स AIDS (Acquired Immuno Deficiency Syndrome) के विषय में लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। एड्स ह्यूमन इम्यूनोडिफीसिअन्सी वायरस (एचआईवी) के संक्रमण के कारण होने वाला एक महामारी रोग है। इस महत्वपूर्ण दिन को सरकारी संगठन, गैर सरकारी संगठन, नागरिक समाज और अन्य स्वास्थ्य अधिकारि मनाते हैं और  एड्स से जुड़े भाषण वह इससे जुड़े प्रश्नों के ऊपर चर्चा  किए जाते हैं।

विश्व भर के ज्यादातर नेताओं ने मिलकर इस दिन को आधिकारिक रूप से मनाने का फैसला लिया। सबसे पहले अमेरिका के राष्ट्रपति ने साल 1995, 1 दिसंबर को आधिकारिक तौर पर एड्स दिवस मनाने का ऐलान किया उसके बाद धीरे-धीरे विश्व के अन्य देश भी इस दिन को मनाने लगे।

एक साधारण गणना के अनुसार पूरे विश्व भर में साल 1981 से 2007 के बीच लगभग 25 से 30 मिलियन लोगों की मौत HIV इंफेक्शन के कारण हुई थी जिस में ज्यादातर मौत बच्चों की हुई थी। HIV में खासकर मृत्यु का कारण जागरूकता ना होना एक बड़ा कारण है इसलिए विश्व स्तर पर वर्ल्ड एड्स डे की शुरुआत की गई।

यह दिन लोगों को एड्स के विषय में ज्यादा से ज्यादा जानकारी प्राप्त करने का एक बेहतरीन अवसर बन चुका है और ज्यादातर लोग आज अन्य साधारण व्यक्तियों की तरह ही अपना जीवन व्यतीत कर पा रहे हैं।

विश्व एड्स दिवस पर निबंध Essay on World AIDS Day in Hindi

विश्व एड्स दिवस का इतिहास World AIDS Day History in Hindi

सर्वप्रथम विश्व एड्स दिवस के विषय में थॉमस नेटर और जेम्स बन्न ने 1987 में सोचा। वह दोनों एड्स ग्लोबल प्रोग्राम, WHO, जिनेवा स्विजरलैंड के पब्लिक इंफॉर्मेशन ऑफिसर थे। उन्होंने अपने इस सोच को डॉक्टर जोनाथन मन, डायरेक्टर ऑफ़ एड्स ग्लोबल प्रोग्राम के सामने पेश किया।

इसे भी पढ़ें -  कृत्रिम परिवेशी निषेचन / टेस्ट ट्यूब बेबी IVF - In Vitro Fertilization Treatment Details Hindi

उन दोनों की बात सुनने के बाद जोनाथन को उनकी सोच पसंद आई और उन्होंने साल 1988 में 1 दिसंबर को प्रतिवर्ष विश्व एड्स दिवस (World AIDS Day) के रूप में मनाने एलान किया।

इस दिन को मनाने के लिए खासकर दिसंबर का महीना चुना गया क्योंकि इसमें ज्यादातर लोग क्रिसमस और नव वर्ष के उत्साह मैं व्यस्त रहते हैं और इसी समय ज्यादातर मीडिया चैनल भी ज्यादा से ज्यादा कवरेज करते हैं। इससे लोगों का ध्यान ज्यादा से ज्यादाएड्स प्रोग्राम के ऊपर रहता है और लोग इसके विषय में ज्यादा से ज्यादा जागरुक बनते हैं।

यूनाइटेड नेशन के साथ मिलकर एचआईवी एड्स के विषय में लोगों को जागरुकता प्रदान किया जा रहा है जिस प्रोग्राम को UNAIDS कहा जाता है जिसकी शुरुआत साल 1996 को विश्व स्तर पर की गई थी। साल 2007 में विश्व एड्स दिवस को एक लाल क्रॉस रिबन को प्रतिष्ठित प्रदर्शन के रूप में माना जाने लगा जिसकी शुरुआत व्हाइट हाउस में सबसे पहले की गई थी।

विश्व एड्स दिवस का उत्सव और कार्यक्रम WORLD AIDS DAY ACTIVITIES AND CELEBRATION

विश्व एड्स दिवस के दिन कई प्रकार के उत्सव और जागरूकता प्रोग्राम किए जाते हैं। इस दिन आयोजित किए जाने वाले ज्यादातर कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य लोगों को ज्यादा से ज्यादा एचआईवी एड्स से जुड़े तथ्यों को बताना और ज्यादा से ज्यादा एड्स के विषय में जागरूकता फैलाना है।

विश्व एड्स दिवस पर आयोजित किए जाने वाले कुछ मुख्य गतिविधियाँ व कार्यक्रम-

  • इस दिन कई समुदाय और संगठन मिलजुल कर विश्व एड्स दिवस पर कुछ कार्यक्रम आयोजित करने के लिए मीटिंग करते हैं और साथ ही अपने आसपास के स्थानीय क्लीनिक, अस्पतालों, सामाजिक सेवा एजेंसियों, स्कूलों, एड्स वकालत समूहों और आदि से अपना जागरूकता अभियान शुरु करते हैं।
  • कई जगहों में लोग स्पीकर और प्रदर्शनी के माध्यम से रेलिया निकालते हैं, और कई जगहों पर स्वास्थ्य से जुड़े है छोटे मेलों का भी आयोजन किया जाता है जहां एड्स के विषय में बैनर और पोस्टर लगा कर लोगों को इसके विषय में जागरुकता प्रदान की जाती है।
  • विश्व एड्स दिवस की पहचान के लिए पहचान एजेंसी बोर्ड को एक सार्वजनिक विवरण प्रस्तुत किया जा सकता है।
  • लगभग सभी एड्स से जुड़े स्कूलों-कॉलेजों और कंपनियों के कार्यक्रमों में लोग लाल क्रॉस रिबन को अपनी शर्ट पर लगाते हैं
  • लोगों को एड्स से जुड़े जागरुकता वीडियोस और स्लाइड व्यापार क्षेत्र, स्कूलों, स्वास्थ्य क्षेत्र और स्थानीय एजेंसियों को दिखा कर उन्हें जानकारी दी जाती है।
  • शाम के समय मशहूर कलाकारों और गीतकारों को बुलाकर भी प्रोग्राम आयोजित करने के साथ-साथ उनके द्वारा HIV एड्स के विषय में लोगों को जागरुकता प्रदान की जाती है।
  • आज इंटरनेट से विश्व के करोड़ों लोग जुड़ चुके हैं ऐसे में किसी भी प्रकार की जागरूकता को फैलाने का इंटरनेट एक अच्छा माध्यम बन चुका है। इंटरनेट पर ब्लॉग या सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट के माध्यम से भी कई ऐसे ग्रुप हैं जो एड्स के विषय में लोगों को जागरूकता प्रदान कर रहे हैं।
  • इसी दिन देश के बड़े नेता भी लोगों को इस दिन टीवी के माध्यम से भाषण देकर एड्स के विषय में जानकारी प्रदान करते हैं और एड्स से जूझते हुए लोगों को एक नई आशा की प्रेरणा देते हैं।
इसे भी पढ़ें -  माँ दुर्गा के 9 अवतारों की कहानियाँ Maa Durga Stories in Hindi

विश्व एड्स दिवस के उद्देश्य OBJECTIVES OF WORLD AIDS DAY

विश्व एड्स दिवस की शुरूआत मात्र स्वास्थ्य के क्षेत्र को और मजबूत बनाना और लोगों को एचआईवी एड्स के विषय में पूर्ण जानकारी प्रदान करना है क्योंकि एचआईवी एड्स से बचने का एकमात्र उपाय है एचआईवी एड्स के विषय में जागरुकता।

  • विश्व स्तर पर एचआईवी, एड्स के लिए रोकथाम और नियंत्रण उपायों में वृद्धि के लिए सदस्य राज्यों को निर्देशित करना
  • सदस्य को रोकथाम, देखभाल और एचआईवी / एड्स के उपचार और योजना को लागू करने के लिए एक तकनीकी सहायता की पेशकश, बच्चे को माँ से संक्रमण को रोकना, एसटीआई नियंत्र(STI) और एंटीरेट्रोवाइरल थेरेपी।
  • लोगों को एंटीरेट्रोवायरल दवाइयों के विषय में जागरुकता प्रदान करना जिनसे उन्हें एचआईवी एड्स से लड़ने में मदद मिल सके।
  • सबसे प्रभावी परिणाम प्राप्त करने के लिए अभियान में सहकर्मी समूहों को शामिल करना।
  • स्कूलों, विश्वविद्यालयों और सामाजिक संरचनाओं से अधिक छात्रों को एड्स के लिए आयोजित प्रतियोगिताओं में योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • एचआईवी / एड्स से संक्रमित रोगियों की संख्या को कम करने और नियंत्रित करने के साथ-साथ यौन संबंध के दौरान कंडोम के उपयोग लिए सहकर्मी समूहों को प्रोत्साहित करना

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.