गोमूत्र के स्वास्थ्य लाभ Health Benefits of Gomutra (Cow Urine) in Hindi

गोमूत्र के स्वास्थ्य लाभ Health Benefits of Gomutra (Cow Urine) in Hindi

हमारे देश में गाय को माता कहा जाता है। जहां गाय का दूध पीने से बच्चों की भूख मिटती है, वही उसका गोबर घर लीपने के काम आता है। गोमूत्र के बहुत से लाभ हैं। ऐसा कहा जाता है कि गोमूत्र का सेवन करने से 100 से अधिक बीमारियां दूर होती हैं। गोमूत्र का इस्तेमाल दवा के रूप में प्रसिद्ध है।

इसमें बहुत से रोगों को ठीक करने की क्षमता होती है। आज के लेख में हम आपको गोमूत्र से होने वाले फायदों के बारे में बताएंगे। रोज सुबह उठकर 50 ग्राम गोमूत्र का सेवन करना चाहिए। इससे बहुत से लाभ होते हैं। गोमूत्र में नाइट्रोजन, यूरिक एसिड, कॉपर, पोटैशियम, फास्फेट, क्लोराइड, सोडियम, कैल्शियम, विटामिन- ए बी सी डी और एंजाइम जैसे लाभदायक तत्व होते हैं।

गोमूत्र के स्वास्थ्य लाभ Health Benefits of Gomutra (Cow Urine) in Hindi

गोमूत्र के फायदे

मोटापा कम करने के लिए

आजकल मोटापा एक आम समस्या हो गई है। हर तीसरा व्यक्ति मोटा है और भारी वजन, भीमकाय शरीर की समस्या से ग्रस्त है। वर्तमान जीवन शैली भी मोटापे के लिए जिम्मेदार है।

गोमूत्र में विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन डी, क्रिएटिनिन जैसे खनिज पाए जाते हैं जो वजन कम करने में मदद करते हैं। मोटापा दूर करने के लिए एक गिलास पानी में चार बूंद गोमूत्र के साथ दो चम्मच शहद और एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से मोटापा दूर होता है।

इसे भी पढ़ें -  अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस निबंध International Yoga Day Essay in Hindi

पेट के रोग दूर करता है

आजकल हर व्यक्ति पेट की समस्या से ग्रस्त है। ज्यादातर व्यक्ति कब्ज, गैस, कमजोर लीवर, अपच जैसी समस्याओं से जूझ रहे हैं। इस तरह के रोगों के लिए गोमूत्र का सेवन करना चाहिए।

गैस की समस्या दूर करने के लिए गोमूत्र में नींबू का रस और नमक मिलाकर पीना चाहिए। इसे पीने के 1 घंटे बाद ही नाश्ता करना चाहिए। दिन में तीन से चार बार गोमूत्र पीने से कब्ज दूर होता है।

लीवर को स्वस्थ बनाता है

गोमूत्र के सेवन से रक्त शुद्ध होता है। इसका नियमित सेवन करने से लीवर की सूजन कम होती है।

आंखों के रोग दूर करता है

गोमूत्र के सेवन से मोतियाबिंद, ग्लूकोमा, रेटिनल डिटैचमेंट जैसी आंखों की बीमारियां दूर होती हैं। आंखों से पानी निकलना, जलन होना, आंखों का लाल होना जैसी बीमारियों में गोमूत्र सेवन करना चाहिए। सूती कपड़े से छानकर एक बूंद गोमूत्र को आंखों में डालना चाहिए। इससे बहुत लाभ होता है।

तिल्ली रोग में लाभदायक

बहुत से लोग तिल्ली बढ़ जाने की समस्या से ग्रस्त होते हैं। ऐसे लोगों को सुबह 50 ग्राम गोमूत्र में नमक मिलाकर प्रतिदिन पीना चाहिए।

त्वचा की खूबसूरती वापस दिलाता है

बहुत से लोगों का चेहरा सूखा मुरझाया सा दिखता है। त्वचा में कोई चमक नहीं रहती है। मुहांसों की समस्या से जूझते रहते हैं।

गोमूत्र का सेवन करने से त्वचा की खूबसूरती वापस आती है। त्वचा चमकदार और निखरी हुई दिखती है। खुजली, खाज और दाद जैसी समस्याओं में गोमूत्र से उस जगह पर मालिश करनी चाहिए। इससे अनेक तरह के चर्म रोग दूर होते हैं।

गोमूत्र का सेवन करते समय सावधानियाँ

  • गोमूत्र की तासीर गर्म होती है। इसलिए गर्मियों में इसका सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।
  • गोमूत्र हमेशा मिट्टी, कांच या स्टील के बर्तन में ही रखना चाहिए। प्लास्टिक के डिब्बे में इसे ना रखें।
  • जो पुरुष नींद की कमी की समस्या से पीड़ित हैं उन्हें गोमूत्र का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • बूढी, बीमार और गर्भवती गाय का गोमूत्र नहीं पीना चाहिए। सदा स्वस्थ गाय का गोमूत्र पीना चाहिए। इसे सूती कपड़े से अच्छी तरह छानना चाहिए। उसके बाद सेवन करना चाहिए।
  • स्वच्छ स्थान में रहने वाली, हरा चारा खाने वाली गाय का गोमूत्र पीना चाहिए। जर्सी गाय की तुलना में देसी गाय का गोमूत्र अधिक फायदेमंद होता है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.