रक्तदान जीवनदान पर भाषण Blood Donation Speech in Hindi

रक्तदान जीवनदान पर भाषण Blood Donation Speech in Hindi

रक्तदान-जीवनदान, रक्तदान-महादान – यह स्लोगन तो आपने सुना ही होगा। इस छोटे से स्लोगन में कितनी गहराई है आज इस भाषण के माध्यम से हमने प्रस्तुत किया है।

आज के इस लेख में आप रक्तदान जीवनदान पर भाषण (Blood Donation Speech in Hindi) पढ़ेंगे। इस भाषण से स्कूल और कॉलेज के विद्यार्थी अपने परीक्षा के लिए और व्यक्ति विभिन्न विश्व रक्तदान दिवस कार्यक्रमों के लिए मदद ले सकते हैं।

रक्तदान जीवनदान पर भाषण Blood Donation Speech in Hindi

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, उप-प्रधानाचार्य महोदय, माननीय शिक्षक गण एवं मेरे प्रिय साथियों। आज विश्व रक्तदान दिवस के मौके पर मैं आप सबके सामने रक्तदान-जीवनदान, रक्तदान-महादान पर अपने कुछ विचार लेकर उपस्थित हूं।

जब कोई व्यक्ति रक्तदान करता है तो वह सीधे तौर पर दूसरे व्यक्ति की जान को बचाता है। हो सकता है वह व्यक्ति आप ही का कोई दोस्त रिश्तेदार हो या आपको ही कभी रक्त की आवश्यकता पड़े।

विश्व रक्तदान दिवस

आज 14 जून को हम सभी उत्साह के साथ विश्व रक्तदान दिवस मनाते हैं। यह दिन हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है क्योंकि इस दिन हम कार्ल लैंडस्टेनर को याद करते हैं जिन्होंने ए बी ओ ब्लड ग्रुप सिस्टम (ABO Blood Group System) का आविष्कार किया और साथ ही पूरे विश्व भर में रक्तदान के महत्व को समझाया।

रक्तदान से जुड़े कुछ मुख्य बातें

क्या आपको पता है मित्रों संयुक्त राज्य अमेरिका में लगभग 6.8 मिलियन लोग प्रतिवर्ष रक्तदान करते हैं जबकि उन्हें 4.5 मिलियन रक्त आदान की आवश्यकता होती है? जबकि देखा जाए तो भारत में प्रतिवर्ष 9 मिलियन से ज्यादा ब्लड यूनिट लोग दान करते हैं परंतु जरूरत 12 से 13 मिलियन की है। इससे साफ पता चलता है कि भार में रक्तदान की आवश्यकता बहुत ही ज्यादा है। 

दोस्तों रक्तदान की आवश्यकता कई लोगों को पड़ती है जैसे किसी ऑपरेशन के दौरान अत्यधिक रक्त की कमी होने के कारण, किसी बड़े दुर्घटना के कारण रक्त की कमी। साथ ही ऐसे कई व्यक्ति हैं जिन्हें कुछ अंदरूनी बीमारियों के कारण नियमित रूप से रक्त आदान की आवश्यकता पड़ती है।

इसे भी पढ़ें -  मेरी प्रिय पुस्तक पर निबंध Essay on My Favourite Book in Hindi

किनको है रक्त आदान की आवश्यकता?

मेरे प्रिय साथियों लिवर से जुड़ी है ऐसी बीमारियां हैं जिसके कारण हमारा शरीर सही प्रकार से रक्त या रक्त के भागों का निर्माण नहीं कर पाता है। एनीमिया के कारण कई प्रकार के किडनी से जुड़ी बीमारियां और कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

हीमोफीलिया जैसी बीमारियां से भी कई लोग ग्रसित हैं जिसमें शरीर सही प्रकार से ब्लड क्लॉट नहीं बना पाता है जिसके कारण चोट लगने पर या दुर्घटना होने पर खून नहीं रुकता है ऐसे में भी ज्यादा से ज्यादा खून की आवश्यकता होती है।

अभी मैंने रक्त की कमी से जुड़ी है कुछ बीमारियों के बारे में आप सभी को बताया। अगर आप अपने जीवन में कुछ अच्छा करना चाहते हैं और लोगों की जान बचाना चाहते हैं तो रक्तदान करके अपना योगदान दें। तभी तो कहा गया है रक्तदान महादान-रक्तदान जीवनदान। भले ही आप को रक्तदान करने में कुछ मिनट लगे यह बात जान लें कि वह कुछ मिनट एक व्यक्ति के लिए जीवन भर का समय दान दे देंगे।

इसलिए एक हीरो बने और रक्तदान को अपना कर्तव्य समझे। अगर सही मायने में कहा जाए तो रक्तदान से बड़ा मानवता का कार्य और कुछ नहीं। मैं उन सभी महान व्यक्तियों को सलूट करता हूं जिन्होंने रक्तदान करके निडरता के साथ कई लोगों की जान बचाई है।

अमेरिकन रेड क्रॉस सोसाइटी के अनुसार एक रक्तदान करने वाला व्यक्ति लगभग 3 रोगियों की जान बचा सकता है। 1 यूनिट रक्त को तीन अलग अंग, लाल रक्त कोशिकाओं (RBCs), प्लाज्मा और प्लेटलेट्स मैं अलग किया जाता है। इसीलिए एक बार के दान करने पर 3 लोगों की जान बचाई जा सकती है।

हाल ही में यह भी देखा गया की कोरोना वायरस (COVID) से संक्रमित ठीक हुए रोगियों के ब्लड प्लाज्मा दान करने का निवेदन किया गया क्योंकि उस दान किए हुए ब्लड प्लाज्मा से नए कोरोना वायरस के रोगियों के स्वास्थ्य में बेहतर सुधार देखा गया। हम सब उन सभी व्यक्तियों का शुक्रगुजार हैं जो अपना रक्तदान करने में योगदान देते हैं और दे रहे हैं।

इसे भी पढ़ें -  रस्सी कूदने के फायदे Health benefits of Skipping in Hindi

आज अस्पतालों में लगभग 7 रोगी घुसते हैं जिनमें से 1 को जरूर खून की आवश्यकता होती है। आज भारत को लगभग 6 करोड़ रक्त यूनिट की आवश्यकता है परंतु 2.5 से 3 करोड़ रक्त यूनिटी उपलब्ध हो पा रहे हैं।

रक्तदान करने के फायदे क्या है?

आज की भी इस आधुनिक युग में कई लोग रक्तदान करने से डरते हैं क्योंकि उन्हें शायद नहीं पता कि रक्तदान करने से हमारा कितना फायदा है?

दोस्तों क्या आपको पता है रक्तदान से शरीर को भावनात्मक और शारीरिक दोनों रूप से लाभ पहुंचता है। मेंटल हेल्थ फाउंडेशन के अनुसार रक्तदान से मानसिक तनाव कम होता है, मन से नकारात्मक विचार दूर होते हैं, जिससे शरीर को स्फूर्ति मिलती है।

दोस्तों कुछ लोग रक्तदान करने से इसलिए डरते हैं क्योंकि वह सोचते हैं रक्तदान करने से उनका खून कम हो जाएगा। मैं आपको बताना चाहता हूं आप जो रक्तदान करते हैं उसका वॉल्यूम यानी कि प्लाज्मा 48 घंटे में हमारा शरीर तैयार कर लेता है। साथ ही 4 से 8 हफ्तों के अंदर हमारा शरीर पूर्ण रूप से दान किए हुए लाल रक्त कोशिकाएं बना लेता है। तो इससे आपको कोई कमजोरी भी नहीं होगी और न ही खून में कमी होगी।

भाषण का अंतिम भाग

आइए आज हम सब प्रण ले कि हम उत्साह के साथ रक्तदान करेंगे और कई लोगों की जान बचा कर जीवन में अनमोल कार्य करेंगे। में आशा करता हूँ आप सभी को रक्तदान जीवनदान-रक्तदान महादान के विषय में अपने भाषण (Blood Donation Speech in Hindi) के माध्यम से इसके विषय में स्टीक जानकारी दे पाया। 

मेरा भाषण सुनने के लिए और अपना समय देने के लिए धन्यवाद।

और पढ़ें:
रक्तदान में दूसरों के साथ अपना फायदा भी
रक्तदान पर 51 बेहतरीन अनमोल कथन

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.