पर्यावरण पर भाषण Environment Speech in Hindi

पर्यावरण पर भाषण Best Environment Speech in Hindi

पर्यावरण मनुष्य के लिए सबसे महत्वपूर्ण विषय है। सही नजरिए से देखा जाए तो पर्यावरण के कारण ही पृथ्वी का अस्तित्व है। पर्यावरण के विषय में चर्चा करना और साथ ही बच्चों को भी निबंध व भाषण के माध्यम से इसके विषय में उन्हें सिखाना मनुष्य जीवन के लिए अच्छा है।

आज इस आर्टिकल के माध्यम से पर्यावरण के विषय में हमने स्कूल, कॉलेज, या अपने मोहल्ले में प्रस्तुत करने योग्य एक भाषण प्रस्तुत किया है। बच्चे चाहें तो अपने परीक्षा और अन्य कार्यक्रमों के लिए इस भाषण से मदद ले सकते हैं।

पर्यावरण पर भाषण Environment Speech in Hindi

  1. प्रिंसिपल महोदय, शिक्षक, और मेरे प्रिय सहपाठियों, आप सभी को गुड मॉर्निंग / गुड इवनिंग / शुभ संध्या / शुभ प्रभात
  2. आप सभी उपस्थित जनों का _________ पब्लिक स्कूल, भुवनेश्वर की ओर से इस ________ उत्सव पर सहे दिल से स्वागत है।

आज हम बहुत ही खुशी के साथ आप सभी को यह बताना चाहते हैं कि आज हम सभी इस महान उत्सव पर हमारे पर्यावरण के लिए कुछ अच्छा करने के लिए एकत्र हुए हैं। आज मुझे बहुत ही गर्व महसूस हो रहा है क्योंकि आप सभी लोगों के समक्ष मुझे पर्यावरण पर भाषण देने का शुभ अवसर मिला है।

आज अपने आधुनिक युग के आनंद और आराम के कारण हम अपने पर्यावरण को नष्ट करते जा रहे हैं। हम सभी जानते हैं की एक संतुलित पर्यावरण के बिना मनुष्य का जीवन इस धरती पर खत्म भी हो सकता है। परंतु तब भी हम कभी अपने पर्यावरण के संरक्षण के विषय में नहीं सोचते हैं।

प्रकृति और पर्यावरण मानव भोजन, पानी, घर जैसी आवश्यक वस्तुएं मनुष्य को प्रदान करता हैं। परंतु इन सभी जरूरतमंद चीजों के बदले हम अपने पर्यावरण को क्या दे रहे हैं?  मात्र- प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिंग, जैसे बुरी चीजें।

आज सभी मानव संसाधनों को खराब करने के लिए मानव ही जिम्मेदार है। मनुष्य के आधुनिक जीवन शैली के कारण ही प्रकृति पर नकारात्मक प्रभाव हो रहे हैं जिससे अंत में हम मनुष्यों को ही असुविधाओं को झेलना पड़ रहा है।

अपने व्यस्त जीवन के कारण हम लोग पर्यावरण की देखभाल को पूर्ण रूप से भूलते जा रहे हैं। अपने वातावरण को अच्छा और स्वस्थ बनाने के लिए और प्राकृतिक संसाधनों को बचाने के लिए हम सभी को जिम्मेदारी लेनी होगी।

इसे भी पढ़ें -  उत्तर प्रदेश विकलांग पेंशन योजना 2018-19, सूची की पूरी जानकारी UP Viklang Pension Yojana 2018-2019 details in hindi

लगातार बढ़ती जनसंख्या सबसे ज्यादा पर्यावरण के विनाश का कारण बन रही है। जैसे जैसे लोग बढ़ रहे हैं लोगों के रहने के लिए घरों की आवश्यकता पड़ रही है। ऐसे में  मानव ज्यादा से ज्यादा पेड़ काटने लगे हैं। इससे पर्यावरण का संतुलन बिगड़ रहा है और ग्लोबल वार्मिंग जैसी चीजें जन्म ले रही हैं।

आज पेड़ों को बचाने के लिए समय-समय पर वृक्षारोपण करना बहुत ही आवश्यक है। हम मनुष्यों को यह समझना होगा कि अगर हम एक पेड़ काटते हैं तो उसके बदले कम से कम चार या पांच पेड़ और लगाएं ताकि आने वाले समय में मनुष्य को पेड़ों की कमी ना हो।

हमारी पृथ्वी पर पर्यावरण और जीवन के बीच चल रहे प्राकृतिक चक्र में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी पृथ्वी पर मनुष्य के अस्तित्व के लिए सबसे बड़ा खतरा है। आज लोगों के साथ-साथ सड़क पर लाखों गाड़ियां दौड़ने लगी हैं जिनके कारण होने वाले प्रदूषण से भी पर्यावरण दूषित हो रहा है।

हमें जल्द से जल्द इन तरह तरह के प्रदूषण जैसे जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, मृदा प्रदूषण, थर्मल प्रदूषण, को कम करने का प्रयास करना होगा। इसके लिए हमें अपने घरों,  मुहल्लों, विद्यालयों से इसकी शुरुआत करनी होगी और लोगों को पर्यावरण संरक्षण के विषय में जागरुक करना होगा।

परंतु लोगों को जागरूक करने से पहले हमें स्वयं इस बात को समझना और करना होगा कि कैसे हम अपने पर्यावरण की संरक्षण कर सकते हैं। लोगों को पर्यावरण  के नकारात्मक प्रभाव जैसे ज्वालामुखी विस्फोट, बाढ़, सुनामी, अकाल/ सुखा पड़ना, मृदा अपरदन,आदि के विषय में समझाना होगा। लोगों को हमें यह भी समझाना होगा की वनों की कटाई, ग्लोबल वार्मिंग, पर्यावरण प्रदूषण, आदि जैसे अन्य प्राकृतिक आपदाएं कैसे उत्पन्न होती हैं और इससे हम पर क्या प्रभाव पड़ सकता है?

जैसे कि हम सब जानते हैं एक अच्छे पर्यावरण से हमें कई प्रकार के लाभ होते हैं। एक अच्छे पर्यावरण से हमें सांस लेने के लिए स्वच्छ हवा, स्वच्छ सुंदर भोजन और स्वस्थ व सुरक्षित शरीर मिलता है।

यदि जल, वायु, मिट्टी नहीं तो पृथ्वी ग्रह पर हम जीवित नहीं रह सकते हैं। आप लोगों ने सुना ही होगा कि हे मानव शरीर पांच तत्वों से बना होता है –  हवा, पानी, भूमि, अग्नि, और आकाश। यही मुख्य तत्व हमारे पर्यावरण में भी मौजूद होते हैं।

आज हमारे ही हाथ में है कि हम अपने पर्यावरण को बचाएं या नष्ट होने दें। परंतु अगर पर्यावरण नष्ट हो जाएगा तो हम मनुष्य भी नष्ट हो जाएंगे। इसलिए हमें पर्यावरण को कैसे बचाएँ इसका उत्तर ढूंढना होगा? चलिए पर्यावरण को बचाने के लिए कुछ मुख्य कदम आपको बताते हैं – सबसे पहले हमें अपने प्राकृतिक संसाधनों जैसे पानी, बिजली, इंधन इत्यादि को बचाने के बेहतर तरीकों को ढूंढना होगा।

उसके बाद हमें पर्यावरण प्रदूषण को दूर करने के कड़े नियम लाने होंगे जिससे प्रदूषण को पूर्ण रुप से दूर किया जा सके। साथ ही हमें अपने आसपास के पर्यावरण को स्वच्छ रखना होगा और अंत में सबसे मुख्य काम हमें अधिक से अधिक पेड़ पौधे अपने घरों के आसपास लगाने होंगे।

अंत में मैं बस इतना अनुरोध चाहूंगा कि कृपया पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान दें और इसके विषय में जितना हो सके लोगों को जागरूकता भी दे। यही एक मात्र तरीका है जिससे हम अपने पर्यावरण को बचा सकते हैं और आने वाली पीढ़ियों के लिए स्वच्छ और सुंदर पृथ्वी बना सकते हैं।आप सभी को धन्यवाद!

4 thoughts on “पर्यावरण पर भाषण Environment Speech in Hindi”

  1. Actually, its not long. You would be bored that’s why you are saying toooooooooooo long!
    He is only telling us to save Environment which we won’t do, so encouraging is nice, its not about toooooooooo Long!!!.

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.