चिकनगुनिया के निवारण, लक्षण, निदान, इलाज Chikungunya treatment in Hindi

आज के इस लेख में आप चिकनगुनिया के निवारण, लक्षण, निदान, इलाज (Chikungunya treatment in Hindi) के विषय में पढेंगे।

  • चिकनगुनिया क्या है?
  • चिकनगुनिया के लक्षण और इलाज क्या हैं?
  • चिकनगुनिया वायरस के कौन सी दवाईयाँ ली जाती हैं?

चिकनगुनिया का बुखार क्या है? What is Chikungunya Fever Hindi

चिकनगुनिया (Chikungunya ) एक वायरस है जो मच्छरों से लोगों मैं फैलता है। चिकनगुनिया में बहुत ज्यादा बुखार के साथ साथ जोड़ों में बहुत दर्द भी होता है। इसमें साथ ही सर दर्द, मांशपेशियों में जकडन, जोड़ों में सुजन आना और साथ ही शरीर मरीं जगह-जगह लाल दाना-दाना पड़ना भी देखा गया है।

अफ्रीका, एशिया, यूरोप, भारत और प्रशांत महासागर के क्षेत्रों में इसका सबसे ज्यादा प्रकोप देखा गया है। चिकनगुनिया का वायरस 2013 में सबसे पहले अमरीका में कॅरीबीयन के एक द्वीप में पाया गया। धीरे-धीरे लोगों के माध्यम से यह विश्व के अन्य देशों में भी फ़ैल गया। अभी तक इसका कोई वैक्सीन नहीं है जिससे की चिकनगुनिया के वायरस को रोका जा सके।

चिकनगुनिया वैसे तो जानलेवा नहीं है परन्तु तुरंत इसका इलाज़ ना करवाने से इसके परिणाम शारीर को बहुत ही हानि पहुंचा सकते हैं। इसीलिए इसकी पूरी जानकारी होने बहुत ही आवश्यक है। हमने आपको चिकनगुनिया के निवारण, लक्षण और इलाज के विषय में पूरी जानकारी इस पोस्ट में दी है।

इसे भी पढ़ें -  सुबह जल्दी उठने के 10 बेहतरीन टिप्स How to Wake Up Early Morning Daily in Hindi

चिकनगुनिया के लिए निवारण क्या हैं? Chikungunya Prevention Details Hindi

चिकनगुनिया होने से बचने के लिए इन निम्नलिखित चीजों पर ध्यान दें –

  • चिकनगुनिया को रोकने के लिए अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बना है।
  • चिकनगुनिया से दूर रहने के लिए जितना हो सके मच्छरों के काटने से बचें।
  • चिकनगुनिया का मच्छर ज्यादातर दिन के समय ही काटता है।
  • आपके घर के आस पास मच्छरों की तागाद बढ़ने पर अपने घरों की खिडकियों और दरवाजों को अच्छे से बंद करें। अगर तब भी घर में मच्छर ज्यादा हैं तो सोते समय मच्छरदानी (Mosquito Net) का उपयोग करें।
  • अपने घर के बाहर रुके हुए पानी जैसे टायर, टूटे हुए बाल्टी, गमलों में भरा पानी, और नालों की जगहों को साफ़ करें। कूलर का पानी नियमित रूप से साफ़ करें
  • कीट निवारकों का इस्तेमाल करें।
  • जितना हो सके फुल शर्ट, और पेंट पहनें जिससे ज्यादातर शरीर ढका रहे और मच्छरों के काटने का प्रतिशत कम हो सके।

चिकनगुनिया वायरस से प्रभावित लोग इन बातों पर ध्यान दें Chikungunya fever Affected person follow these things

चिकनगुनिया इन्फेक्शन के पहले हफ्ते, चिकनगुनिया का वायरस खून की जाँच करने में पाया जा सकता है। ऐसे में उस संक्रमित व्यक्ति से एक दुसरे स्वस्थ व्यक्ति को भी मच्छर के द्वारा चिकनगुनिया हो सकता है।

चिकनगुनिया के वायरस को मच्छर ही एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में फैलाते हैं इसलिए सबसे जरूरी है चिकनगुनिया के होने के एक हफ्ते तक पूरी तरीके से मच्छरों के काटने को रोकें तभी आप इसे अपने परिवार और इलाके में फैलने से रोक सकते हैं।

चिकनगुनिया कैसे फैलता है? Transmission of Chikungunya Virus details Hindi

मच्छर के द्वारा Through Mosquito

  • चिकनगुनिया का वायरस मच्छर के काटने से लोगों के बिच फैलता है। मच्छर संक्रमित हो जाते हैं जब वे एक पहले से ही संक्रमित व्यक्ति को काटते हैं। उसके बाद वो जिन भी लोगों को काटते हैं उन्हें भी चिकनगुनिया का संक्रमण हो जाता है।
  • चिकनगुनिया का वायरस खासकर दो प्रकार के मच्छरों से फैलता है – एडीज एजिप्टी (Aedes aegypti) और एडीज अल्बोपिक्टस (Aedes albopictus)यह वही दोनों मच्छर हैं जिनसे डेंगू (Dengue) भी फैलता है। यह मच्छर दिन और रात दोनों समय काटते है परन्तु ज्यादातर दिन के समय यह काटते हैं।
  • यह दोनों प्रकार के मच्छर लगभग पुरे विश्व भर में पाए जाते हैं
इसे भी पढ़ें -  नाखूनों को सुंदर रखने के 10 बेहतरीन टिप्स Best Tips for Beautiful Nails in Hindi

क्या माँ से बच्चे को चिकनगुनिया फैलता है? Mother to Infants Chikungunya Transmission Details Hindi

  • चिकनगुनिया का वायरस बच्चे के जन्म होते समय माँ से बच्चे को होने के भी बहुत कम संभावना है।
  • वैसे तो अभी तक किसी भी नवजात शिशु को चिकनगुनिया से संक्रमित माँ से स्तनपान के द्वरा संक्रमण होना नहीं पाया गया है।

चिकनगुनिया के लक्षण क्या है? Symptoms of Chikungunya Virus details Hindi

  • कुछ लोगों में चिकनगुनिया के बहुत ही ज्यादा लक्षण पाए जाते हैं तो कुछ में कम।
  • मच्छर के द्वारा शरीर में संक्रमण होने के 3-7 दिनों के बाद से चिकनगुनिया के लक्षण नज़र आने लगते हैं।
  • सबसे ज्यादा जो लक्षण पाए गए हैं उनमें है बुखार और जोड़ों में बहुत ज्यादा दर्द का होना।
  • अन्य बहुत सारे लक्षण भी नज़र आते हैं जैसे सर दर्द, मांशपेशियों में दर्द, दोडों में सुजन आना और शारीर में दाने पढ़ना।
  • चिकनगुनिया जानलेवा तो नहीं है पर इसके लक्षण आपको बहुत दुख पहुंचा सकते हैं।
  • ज्यादातर चिकनगुनिया के पेशेंट लोगों को 1-2 हफ़्तों के बाद स्वास्थ्य में सुधार आने लगता है।

चिकनगुनिया के निदान क्या हैं? Diagnosis of Chikungunya Information Hindi

  • चिकनगुनिया के सभी लक्षण डेंगू, और जिका वायरस से मिलते झूलते हैं और एक ही प्रकार के मच्छरों द्वारा फैलता है।
  • अगर आपको ऊपर दिए हुए Sypmtoms दीखते हैं तो तुरंत अपने नज़दीकी हॉस्पिटल या चिकित्सा केंद्र जाएँ और डॉक्टर को दिखाएँ।
  • अपने डॉक्टर से इसके बारे में भी बताएं की आप किन क्षेत्रों में घूमने गए थे।
  • वहां Blood Tests के बाद आपको सही Report पता चल जायेगा।

चिकनगुनिया का इलाज़ क्या है? Treatment of Chikungunya Fever Hindi

  • चिकनगुनिया के लिए अभी तक कोई भी वैक्सीन नहीं बनाया गया है।
  • चिकनगुनिया का निदान होने पर कुछ मुख्य बातों का ध्यान रखना बहुत आवश्यक है – Dehydration की कमी को दूर करने के लिए ज्यादा पानी पियें, जितना ज्यादा हो सके आराम करें, बुखार और जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए Paracetamol की Tablet लें। (Asprin या एनी NSAID दवाइयां ना लें जब तक आप Clear ना हों की Dengue का Infection नहीं है)।
  • कोई भी दवाई लेने से पहले अपने डॉक्टर या स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से संपर्क करें।
  • याद रहे स्वयं को चिकनगुनिया होने के एक हफ्ते तक मच्छरों के काटने से पूरी तरीके से दूर रखें क्योंकि इससे आपके इलाके और परिवार में संक्रमण फैलने का दर बना रहता है
इसे भी पढ़ें -  कोरोनरी आर्टरी डिजीज हृदय रोग, लक्षण, इलाज Coronary Artery Disease in Hindi , Cause, Symptoms, and Treatment

आशा करते हैं आपको चिकनगुनिया से जुडी जानकारी पसंद आई होगी। यह Article मात्र स्वयं को Chikungunya Fever से सुरक्षित रखने और जानकारी हेतु है। आपका सर्वप्रथम प्राथमिकता अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र जाना है इसलिए ऊपर दिये हुए किसी भी प्रकार के Symptoms दीखते ही अपने स्वास्थ्य केंद्र जाएँ।

3 thoughts on “चिकनगुनिया के निवारण, लक्षण, निदान, इलाज Chikungunya treatment in Hindi”

  1. बहुत सूंदर लेख !! आप का बहुत-बहुत धन्यवाद की आप से यह शानदार लेख हमारे साथ शेयर किया !

    Reply
  2. अतीउत्ताम, बहुत ही ज्ञानवर्धक लेख, सभी को इस लेख को पड़ना चाहिए । ऐसे ही लिखते रहें ।
    धन्यवाद ।

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.