2019 उत्कल दिवस Utkal Diwas Odisha Hindi (ଉତ୍କଲ୍ ଦିବସ୍)

2019 उत्कल दिवस Utkal Diwas Odisha Hindi (ଉତ୍କଲ୍ ଦିବସ୍)

1 अप्रैल 1936, को ओडिशा, भारत (Odisha, India) में उन ओडिशा के इतिहास के लोगों को याद किया जाता जिन्होंने ओडिशा को आगे ले जाने और सफल बनाने के लिए अपना बहुत बड़ा योगदान और बलिदान दिया था। इस दिन को उत्कल दिवस / ओडिशा दिवस (Utkal Diwas / Odisha Day) के नाम से मनाया जाता है।

उत्कल दिवस ना सिर्फ भारत के अलग-अलग राज्यों में मनाया जाता है बल्कि यह एनी देशों में भी मनाया जाता है जहाँ ओडिशा के लोग रहते हैं।

प्राचीन काल में ओडिशा राज्य / क्षेत्र, कलिंग राज्य का केंद्र था इसलिए आज भी ओडिशा को कलिंग राज्य के नाम से जाना जाता है। सम्राट अशोक ने कलिंग राज्य में ज्यादा दिन तक राज्य नहीं किया। बाद में कई सालों तक मौर्य साम्राज्य ने कलिंग प्रदेश पर राज्य किया था।

कलिंग साम्राज्य के धीरे-धीरे पतन होते समय कई हिन्दू राजवंश ओडिशा में उभरे और उन्होंने ओडिशा के कई जगहों जैसे पूरी, भुबनेश्वर, और कोणार्क में कई सुन्दर और भव्य मंदिरों का निर्माण किया था।

ओडिशा में लम्बे समय तक मुसलमानों के प्रतिरोध के बाद सन 1568 को अफगानों ने आक्रमण करके मुग़लों को खदेड़ दिया। मुगलों के पतन के बाद ओडिशा बंगाल के नवाबों और मराठों के बिच दो भाग में बंट गया।

सन 1803 में उड़ीसा राज्य पर ब्रिटिश लोगों ने कब्ज़ा कर लिया।

सन 1936 में उड़ीसा, Orissa के एक अलग राज्य के रूप में निर्माण किया गया। 1950 में उड़ीसा भारत का संघटक राज्य बन गया। बाद में वर्ष 2011 में उड़ीसा को ओडिशा (Orissa to Odisha)के नाम से संविधान में संशोधन किया गया। साथ ही ओरिया भाषा को भी ओडिया (Oriya to Odia) में बदला गया।

इसे भी पढ़ें -  2020 नवरात्रि त्यौहार पर निबंध Navratri Festival Essay in Hindi

2019 उत्कल दिवस Utkal Diwas Odisha Hindi (ଉତ୍କଲ୍ ଦିବସ୍)

उत्कल दिवस कब है ? Utkal Diwas 2019

2019 उत्कल दिवस – 1 अप्रैल 2019

उत्कल दिवस Utkal Diwas

उत्कल दिवस ओडिशा राज्य की स्थापना के दिन 1 अप्रैल 1936 की ख़ुशी में मनाया जाता है।

उत्कल गौरव मधुसुदन दास, उत्कलमणि गोपबंधु दास, महाराजा श्री रामचंद्र भंजदियो, महाराजा श्री कृष्ण चन्द्र गजपति, रजा बैकुंठनाथ डे, फ़क़ीर मोहन सेनापति, गंगाधर मेहर और गौरीशंकर रे जी के अग्रणी प्रयासों  के कारण ओडिशा एक अलग सुन्दर भाषाओं परम्पराओं का राज्य बन पाया।

आज ओडिशा में को 30 जिलों में विभाजित किया गया है –

  1. Angul अंगुल 
  2. Balangir बलांगीर 
  3. Bargarh बरगढ़ 
  4. Deogarh देओगढ़ 
  5. Dhenkanal ढेंकनाल
  6. Jharsuguda झारसुगुडा
  7. Kendujhar केंदुझर
  8. Sambalpur संबलपुर
  9. Subarnapur सुबर्णपुर
  10. Sundargarh सुंदरगढ़
  11. Balasore बलासोर
  12. Bhadrak भद्रक
  13. Cuttack कटक
  14. Jagatsinghpur जगतसिंघपुर
  15. Jajpur जाजपुर
  16. Kendrapada केंद्रपडा
  17. Khordha खोर्दा 
  18. Mayurbhanj मयुरभंज
  19. Nayagarh नयागढ़
  20. Puri पूरी 
  21. Boudh बौध
  22. Gajapati गजपति
  23. Ganjam गंजाम
  24. Kalahandi कालाहांडी
  25. Kandhamal कंधमाल
  26. Koraput कोरापुट
  27. Malkangiri मलकानगिरी
  28. Nabrangpur नबरंगपुर
  29. Nuapada नुआपड़ा
  30. Rayagada रायगडा 

1 अप्रैल को प्रतिवर्ष उत्कल दिवस / ओडिशा दिवस (Utkal Diwas / Odisha Day)  के रूप में मनाया जाता है और ओडिशा में राज्य छुट्टी का दिन होता है। इस दिन कई जगहों में शाम के समय सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ सेमिनार, और प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है।

आप सभी को उत्कल दिवस / ओडिशा दिवस (Utkal Diwas / Odisha Day)  की हार्दिक शुभकामनायें।

1 thought on “2019 उत्कल दिवस Utkal Diwas Odisha Hindi (ଉତ୍କଲ୍ ଦିବସ୍)”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.