इलेक्ट्रिक वाहन के फायदे और नुकसान Advantages Disadvantages of Electric Vehicles in Hindi

इस लेख में आप इलेक्ट्रिक वाहन के फायदे और नुकसान (Advantages and Disadvantages of Electric Vehicles in Hindi) पढ़ेंगे। जिसमें इलेक्ट्रिक वाहन क्या है? तथा उसके फायदे और नुकसान को आसान भाषा में बताया गया है।

इलेक्ट्रिक वाहन क्या है? What is Electric Vehicles in Hindi

Contents

वैज्ञानिक तकनीकों की सहायता से आधुनिक युग में मनुष्य ने खूब प्रगति की है। लगभग हर रोज लोगो का जीवन सुविधाजनक बनाने के लिए नए-नए अविष्कार किए जा रहे हैं। पूरे मानव इतिहास में अब तक सबसे  सर्वश्रेष्ठ अविष्कार इलेक्ट्रिसिटी है।

बैटरी से उर्जा अथवा इलेक्ट्रिसिटी प्राप्त करके इलेक्ट्रिक मोटर द्वारा चलने वाले प्रत्येक वाहनों को इलेक्ट्रिक वाहन कहा जाता है। आपको बता दें कि फ्यूल की मदद से चलने वाले वाहनों की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहनों का उत्सर्जन काफी कम होता है।

इलेक्ट्रिक वाहनों की लोकप्रियता उन्नीसवीं सदी और बीसवीं सदी के मध्य में शुरू हुई थी। आज के समय में इलेक्ट्रिक वाहन का दबदबा विस्तृत स्तर पर देखा जा सकता है।

ऐसे इलेक्ट्रिक वाहन इंधन की सहायता से चलने वाले दूसरे वाहनों की तुलना में बेहद अलग होते हैं। लोकोमोटिव अथवा इंधन से चलने वाले वाहनों को संभालने में इलेक्ट्रिक वाहनों की तुलना में अधिक ऊर्जा और बल लगाना पड़ता है, लेकिन इन वाहनों में ऐसा नहीं होता।

किसी भी वस्तु को खरीदने से पहले उसके बारे में अच्छी तरह से सब कुछ जान लेना चाहिए। यदि आप इलेक्ट्रिक वाहन को खरीदने का विचार कर रहे हैं, तो इसके फायदे और नुकसान आपको जरूर जानने चाहिए। इलेक्ट्रिक वाहन के कुछ फायदे तथा नुकसान निम्नलिखित रूप से दिए गए हैं-

इलेक्ट्रिक वाहन के 10 फायदे 10 Advantages of Electric Vehicles in Hindi

1. सुरक्षित पर्यावरण

पर्यावरण की सुरक्षा प्रत्येक मनुष्य की पहली प्राथमिकता होती है। हम सभी जानते हैं कि इंधन से चलने वाले प्रत्येक वाहनों द्वारा पर्यावरण को किस प्रकार हानि होती है। वाहनों से निकलने वाले हानिकारक धुएं पर्यावरण पर सीधा असर डालते हैं।

लेकिन अब हमने इसके लिए भी एक उपाय अथवा विकल्प ढूंढ लिया है। इलेक्ट्रिक वाहनों की सबसे अच्छी खासियत यह है, कि यह पूरी तरह से इको फ्रेंडली होता है। ऐसे वाहनों के कारण पर्यावरण को किसी भी प्रकार की क्षति पहुंचने की कोई गुंजाइश नहीं रहती है।

और पढ़ें -  फेसबुक पर लाइक कैसे बढ़ाये How to get more likes on Facebook in hindi?

2. अधिक सुविधायुक्त

इलेक्ट्रिक वाहनों की संरचना काफी सरल और आरामदायक होती है। ईंधन से चलने वाले वाहनों की बात करें, तो उन्हें चलाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

कभी कबार अच्छे से ब्रेक अथवा गेयर काम ना करने के कारण दुर्घटना भी हो जाती है। इलेक्ट्रिक वाहन आधुनिकता के सुविधाजनक अविष्कारों में से एक हैं। वे सभी कमियां जो एक आम वाहनों में देखी जाती हैं, वह इलेक्ट्रिक वाहनों में नहीं मिलती।

3. अल्प ध्वनि प्रदूषण

इंधन की मदद से चलने वाले वाहनों से जो कर्कश आवाज निकलती हैं, वह किसी को भी नहीं पसंद होती। इलेक्ट्रिक वाहनों की यह अच्छी विशेषता है, कि उनमें से किसी भी प्रकार की अन्यथा की आवाज नहीं सुनाई देती हैं। इलेक्ट्रिक वाहन का उपयोग करके ध्वनि प्रदूषण में कमी लाई जा सकती है।

4. कम अनुरक्षण खर्च

इलेक्ट्रिक वाहनों को चलाने के लिए इलेक्ट्रिक मोटर का उपयोग किया जाता है जिसके कारण इसके रखरखाव के लिए  कम आवश्यकता होती है। इसके अलावा इलेक्ट्रिक इंजन के तापमान को ठंडा करने के लिए उतनी आवश्यकता नहीं होती जितनी कि दहन इंजन के लिए होती है।

5. इंधन रहित

दिन-ब-दिन पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दाम हर वाहन चालक के लिए एक चिंता का विषय हो गया है। लेकिन इलेक्ट्रिक वाहनों का संचालन करने के लिए किसी भी इंधन के उपयोग की आवश्यकता नहीं होती है।

इंधन रहित चलने वाले यह वाहन आज की दौर में अन्य वाहनों के मुकाबले काफी किफायती विकल्प साबित होते हैं।

6. कम शुल्क में पार्किंग

आज के समय में सड़कों पर सैकड़ों गाड़ियां अस्तव्यस्त रूप से दौड़ती दिखाई देती हैं। ऐसे में ट्रैफिक रूल का उल्लंघन ना हो इसके लिए गाड़ियों को पार्क करने के लिए एक निश्चित स्थान बनाया जाता है। इंधन द्वारा संचालित वाहनों के पार्किंग के लिए काफी शुल्क भरना पड़ता है।

इलेक्ट्रिक वाहनों की पार्किंग के लिए बहुत कम शुल्क लिए जाते हैं। किसी किसी जगह पर तो फ्री में भी इलेक्ट्रिक वाहनों को पार्किंग के कारण मुनाफा हो जाता है।

7. प्राकृतिक संसाधनों की बचत

इंजन रहित वाहनों का उपयोग करने से न केवल हम अपनी संपत्ति की बचत कर रहे हैं, बल्कि प्रकृति को प्रदूषण मुक्त बनाने में भी सहयोग दे रहे हैं। सोचिए कि पृथ्वी पर मौजूद प्राकृतिक संसाधनों को यदि एक घनी आबादी हर क्षण उपयोग में लेती रहे तो कुछ सदियों के अंतराल में ही संसाधनों की कमी हो सकती है।

इलेक्ट्रिक वाहन प्राकृतिक संसाधनों की बचत में अहम भूमिका निभा रहे हैं। ऐसा करने से न केवल प्रकृति को बल्कि आने वाली पीढ़ियों को भी सहायता कर रहे हैं।

और पढ़ें -  रिफर्बिश्ड फोन्स क्या होते हैं? फायदे नुक्सान What are Refurbished Phones in Hindi

8. बढ़ती लोकप्रियता

इलेक्ट्रिक वाहनों की लोकप्रियता आज पूरी दुनिया में साफ देखी जा सकती है। आज के दौर में कई बड़े-बड़े देशों में भी इलेक्ट्रिक वाहनों का संचालन बहुत तेजी से बढ़ रहा है।

भारत में भी अब टेस्ला इंडस्ट्री और अन्य कई उद्योगों के जरिए इलेक्ट्रिक वाहनों का उत्पादन तेजी से किया जा रहा है।

9. सब्सिडी लाभ

यदि आप इलेक्ट्रिक वाहन की खरीदी नकद में करते हैं, तो आपको काफी छूट मिल सकता है। दिल्ली सरकार द्वारा भी इलेक्ट्रिक वाहन को खरीदने पर सब्सिडी दिया जा रहा है। प्रत्येक विद्युत वाहनों पर अलग-अलग सब्सिडी दिया जाता है।

10. निवेश के स्वर्ण अवसर

इलेक्ट्रिक वाहन बनाने वाले उद्योगों में काफी कम  प्रतिस्पर्धा है। इलेक्ट्रिक व्हीकल की बढ़ती मांग और लोकप्रियता से अंदाजा लगाया जा सकता है, कि आने वाले समय में ईंधन से चलने वाले वाहनों की जगह इलेक्ट्रिक वाहन लेने वाले हैं।

यदि इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण में निवेश किया जाए तो भविष्य में एक बड़ा मुनाफा कमाया जा सकता है। वर्तमान समय में इलेक्ट्रिक वाहनों के निवेश के लिए यह स्वर्णिम अवसर है।

इलेक्ट्रिक वाहन के 10 नुकसान 10 Disadvantages of Electric Vehicles in Hindi

1. अधिक खरीद लागत

आपको बता दें कि साधारण वाहनों की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहन काफी महंगे होते हैं। इंधन वाले वाहनों का दाम लगभग तीन से चार लाख में शुरू हो जाता है।

लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि इलेक्ट्रिक वाहन को खरीदने का शुरुआती भाव केवल दस से बारह लाख से शुरू होता है। ऐसे में अधिक खरीदी भाव के कारण हर कोई इसके उपयोग का अनुभव नहीं कर सकता है।

2. बैटरी खर्च

इलेक्ट्रिक वाहनों में भले ही इंधन का उपयोग नहीं होता हो किंतु जिस बैटरी पर यह वाहन संचालित किए जाते हैं, उनका दाम भी काफी ज्यादा होता है। इसके अलावा यदि बैटरी को निश्चित समय अंतराल में बदला नहीं गया तो इससे वाहन को भी क्षति पहुंच सकती है।

3. सर्विस स्टेशन की असुविधा

इलेक्ट्रिक वाहनों का विस्तार अभी भी उचित स्तर पर नहीं हो पाया है। जिसके कारण इसकी सर्विसिंग करने वाले स्टेशन भी काफी कम तादाद में बनाए जाते हैं।

सर्विस स्टेशन यानी जहां वाहनों को इलेक्ट्रिसिटी से रिफ्यूल किया जाता है, वे काफी लंबी दूरी तय करने के बाद भी इक्का-दुक्का ही दिखाई पड़ते हैं।

4. धीमी गति से चार्जिंग

जिस प्रकार इंजन से चलने वाले वाहनों को रिफ्यूल करने के लिए कुछ सेकंड का समय लगता है, वहीं दूसरी ओर इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने के लिए कई घंटों का समय लग जाता है।

इन वाहनों की चार्जिंग बहुत धीमी गति से होती है। इस दौड़ भाग भरी जिंदगी में एक वाहन को रिफ्यूल करने में भला कोई अपना इतना अधिक समय क्यों गवाना चाहेगा।

5. कम स्पीड और रेंज

यदि इलेक्ट्रिक वाहनों की स्पीड की बात की जाए तो यह इंजन से चलने वाले वाहनों की तुलना में अधिक  स्पीड से दूरी तय नहीं कर पाते हैं। इसके साथ ही ड्राइविंग रेंज भी काफी कम होती है। इलेक्ट्रिक वाहन से आप लंबी दूरी तय नहीं कर पाएंगे।

और पढ़ें -  जानिए मोबाइल फोन एसएआर वैल्यू क्या है? Mobile Phone SAR Value in Hindi

6. रिचार्जिंग के महंगे विकल्प

यदि इलेक्ट्रिक वाहनों को रिचार्ज पॉइंट पर ले जाकर रिफ्यूल करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प बचता है, तो वह अपने घरों से जुड़े हुए इलेक्ट्रिसिटी से चार्ज करना है।

यदि आप ऐसा करते हैं, तो आपके बिजली का बिल आपको बहुत हद तक हैरान कर सकता है। इन वाहनों को रिचार्ज करने के लिए हाई वोल्टेज विद्युत धारा की आवश्यकता होती  है।

7. बेचने पर कम दाम प्राप्ति

भले ही इंधन से चलने वाले वाहनों के रखरखाव में काफी लागत लगती है, लेकिन उन्हें बेचने पर ठीक-ठाक दाम भी प्राप्त हो जाता है।

यदि इलेक्ट्रिक वाहनों की बात करें, तो जितने लागत में आपने उसे खरीदा होगा उसके मुकाबले आपको 3 गुना से भी कम दाम मिल सकता है। इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल करने के बाद इसकी क्षमता का महत्व काफी घट जाता है, जिससे बेचने पर कम दाम की प्राप्ति होती है।

8. कम ऊर्जा

इलेक्ट्रिक वाहनों की सबसे बड़ी खामी होती है, कि इन्हें बार-बार चार्ज करना पड़ता है। इसके अलावा इन वाहनों पर अधिक भार देने पर इनकी क्षमता कम हो जाती है।

काफी कम ऊर्जा और क्षमता वाले इलेक्ट्रिक वाहन कभी-कभी ईंधन से चलने वाले वाहनों के सामने फीके पड़ जाते हैं।

9. कम उपयोगकर्ता

इलेक्ट्रिक वाहन के महंगे दाम के कारण इसे हर कोई इस्तेमाल नहीं कर सकता। ऐसा कहना गलत नहीं होगा, कि केवल अमीर वर्ग के लोग ही इलेक्ट्रिक वाहन का उपयोग करने में सक्षम होते हैं।

इसके महंगे होने का एक मुख्य कारण यह भी है, कि उत्पाद कम होने के कारण इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या भी कम होती है। कम वस्तु संख्या और अधिक मांग के परिणाम स्वरुप वस्तुएं महंगी हो जाती हैं।

10. ईंधन उत्पादक देशों के लिए समस्या

आप शायद जानते होंगे कि ऐसे कई देश हैं जिनका महत्व केवल उनके यहां से प्राप्त होने वाले इंधन के कारण है। ईरान, सऊदी अरब, ओमान इत्यादि जैसे  कई देशों की अर्थव्यवस्था इंधन विक्रय से ही चल रही है।

यदि ईंधन से चलने वाले वाहनों की संख्या अचानक से घट जाएगी तो इन देशों में महामारी भी आ सकती है। इस कारण इलेक्ट्रिक वाहन जो इंधन रहित होते हैं, इनकी लोकप्रियता इंधन उत्पादक देशों के लिए सिरदर्द साबित हो सकती है

निष्कर्ष Conclusion

इस लेख में आपने इलेक्ट्रिक वाहन के फायदे और नुकसान हिंदी में (Advantages and Disadvantages of Electric Vehicles in Hindi) पढ़ा। आशा है यह लेख आपको अच्छा लगा होगा। अगर यह लेख आपको जानकारी से भरपूर लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.