कौंच के बीज के फायदे और नुकसान Kaunch Seed Benefits & Side-effects in Hindi

हेल्लो दोस्तों, आज के इस लेख में हम आपको कौंच के बीज के फायदे और नुकसान Kaunch Seed Benefits & Side-effects in Hindi के बारे मे बताने वाले है। हो सकता है कि आप में से बहुत से लोगो ने इससे पहले इसका नाम न सुना हो। लेकिन आपको बता दें कि कौंच एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसमें पाये जाने वाले औषधिक गुण हमारे लिए बहुत ही लाभदायक है।

कौंच बीज के बारे में कुछ ख़ास बातें Introduction to Kaunch Seed

इसका वैज्ञानिक नाम मुकुना प्रुरियंस (Mucuna pruriens) है। इसको कौंच के कपिकच्छु, किवांच, काउहैज, कोवंच, अलकुशी, कौंचा व कवच आदि नाम भी जाना जाता हैं। इतना ही नहीं कौंच को मखमली सेम यानी वेलवेट बीन्स (Velvet Beans) के रूप में भी जाना जाता है।

प्राचीन समय से इसके पत्ते, बीज व जड़ का उपयोग आयुर्वेद में औषधि बनाने के लिए किया जाता था। आज भी इसका इस्तेमाल आयुर्वेद में औषधि बनाने में किया जाता है।

कौंच के बीज के पोषक तत्व Active Nutrients

हर फल के बीज की तरह इसमें भी कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते है। इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम, नियासिन,  फास्फोरस, आयरन व जिंक आदि पाये जाते है। इसके अलावा इसमें विटामिन्स भी पाये जाते है। इसीलिए ये हमारे लिए बहुत ही फ़ायदेमंद होता है। इसके सेवन से हमारे शरीर को कई बीमारी से बचाता है। और साथ ही हमारे शरीर को ऊर्जा भी प्रदान करता है।

इसे भी पढ़ें -  तरबूज बीज के फायदे नुक्सान Watermelon Seeds Benefits and Side-effects in Hindi

कौंच के बीज के फायदे Health Benefits of Kaunch seed in hindi

हम आपको बता दे कि इसके बहुत से फायदे है। इसमें मौजूद औषधिक गुण हमें कई बिमारियों से बचाते है। प्राचीन काल से ही पार्किंसन्स रोग के उपचार के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में कौंच के बीज का उपयोग किया जाता रहा है।

अभी भी पार्किंसन्स रोग के इलाज के लिए किया जाता है, इसके अलावा चिंता, गठिया, परजीवी संक्रमण के इलाज के लिए भी किया जाता है इसका उपयोग दर्द और बुखार को दूर करने, उल्टी के इलाज के लिए भी किया जाता है। इसके फायदे के बारे में नीचे हमने विस्तार से बताया है। जानने के लिए लेख को पूरा पढ़े।

पार्किंसंस रोग के लिए फ़ायदेमंद Helps in Parkinson’s disease

पार्किंसंस रोग तंत्रिका तंत्र से जुडी बीमारी है। जिसमे रोगी को कंपकंपी, शरीर में दर्द व चलने-फिरने में परेशानी हो सकती है। वैसे तो ये बीमारी बढ़ते उम्र के साथ होती है, लेकिन कई बार ये युवा अवस्था में भी हो जाता है।

ऐसे में आपको कौंच के बीज का सेवन करना चाहिए इसमें मौजूद एंटी-पार्किंसंस गुण पाया जाता है। जो हमें पार्किंसंस से बचाने में मदद दिला सकता है। (source)

शरीर दर्द के लिए फ़ायदेमंद Relief from body ache

हम सभी जानते है कि आजकल लोगो की जीवनशैली कैसी है। इसके वजह से लोगो के शरीर में दर्द होना एक आम बात हो गई है। इस दर्द के साथ रोजमर्रा में काम करना आसान नही है। ऐसे में आपको कौंच के बीज का सेवन करना चाहिए।

ये हमारे लिए एक प्राकृतिक औषधि के रूप में साबित हो सकता है। इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक (analgesic) गुण, जो दर्दनाशक का काम करता है। इसके लिये आपको कौंच के बीज का उपयोग करना चाहिए। (source)

अनिद्रा से राहत Helps in Insomnia

पढ़ें : अच्छी नींद पाने के ज़बरदस्त टिप्स

हम सभी जानते है कि एक स्वस्थ शरीर के लिए एक अच्छी नींद लेना बहुत ही जरूरी है। बहुत से लोगो को रात में नींद न आने की दिक्कत होती है। आजकल ये समस्या एक आम बात होती जा रही है।

इसे भी पढ़ें -  स्वास्थ्य ही धन है पर निबंध हिन्दी मे Essay on Health is Wealth in Hindi

ऐसे में आपको कौंच के बीज का सेवन करना चाहिए। इसके सेवन से आपको अनिद्रा की समस्या से राहत मिल सकती है।

पुरुषो में बांझपन के लिए Male infertility

आजकल बहुत से पुरुषों में बाँझपन यानी इनफर्टिलिटी की समस्या को देखा जा रहा है, इसके होने के कई कारण है जैस – तनाव, बिगड़ी जीवनशैली व हार्मोन असंतुलन आदि।

इससे बचने के लिए आपको कौंच बीज का सेवन करना चाहिए। ये शुक्राणुओं की शक्ति बढ़ाये और उसके नुकसान को कम करे और पुरुषों में होने वाले बाँझपन की समस्या को दूर करें। (source)

रोगों से बचाए Stay away from diseases

कौंच के बीज में कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते है, जो हमारे शरीर को कई प्रकार के बीमारियों से बचाता है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट के साथ एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते है। जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फ़ायदेमंद होता है।

डायबिटीज़ के उपचार में Diabetic treatment

आप सभी को पता होगा कि डायबिटीज़ या मधुमेह आजकल एक आम समस्या हो गई है। इससे परेशान लोगो को कौंच बीज का इस्तेमाल करना चाहिए। कुछ शोध से पता चलता है कि इसका इस्तेमाल डायबिटीज़ के उपचार में किया जाता है। क्योंकि ये एंटी-डायबिटिक के रूप में दवाइयों में उपयोग किया जाता है।

तनाव से राहत के लिए Reduce stress

आजकल तनाव एक ऐसी समस्या बन गई है जिससे लगभग हर कोई प्रभावित है। ऐसा होने की वजह काम की ज़िम्मेदारी, जीवन में कुछ करने की चिंता तथा अन्य कई परेशानियों की वजह से हम हमेशा तनाव में रहते है।

जिसके कारण नींद न आना, दिल की बीमारी के साथ अन्य कई मानसिक दिक्कत हो सकती है। ऐसे में आपको कौंच के बीज का सेवन करना चाहिए। इसमें एंटी-डिप्रेसेंट (Antidepressant) गुण होता है, जो हमें तनाव से बचाता है।

मोटापा कम करने में Helps in reducing body weight

पढ़ें : मोटापा कम कैसे करें?

शरीर के बढ़ते वजन से हर दूसरा व्यक्ति परेशान रहता है। इसका मुख्य कारण गलत डाइट और बिगड़ी हुई जीवनशैली। ऐसी स्थिति में आपको व्यायाम करना चाहिए तथा साथ में कौंच बीज का सेवन करना चाहिए। कौन का बीज एक तरह से एंटी-ओबेसिटी की तरह काम करता है, जो हमें मोटापे से राहत दे सकता है।

इसे भी पढ़ें -  छाछ के स्वास्थ्य लाभ और साइड-इफ़ेक्ट Buttermilk Health benefits Side-effects in Hindi

मिर्गी का उपचार Treatment of epilepsy

आप सभी को पता होगा कि ये एक तरह की मानसिक बीमारी है, जिसमे रोगी को दौरे पड़ते है। इसके होने के कई कारण हो सकते है जैसे – सिर पर कभी चोट लगने से, दिमागी बुखार होने से या अन्य किसी कारण से। मिर्गी के रोगीओं के लिए कौंच का बीज मददगार साबित हो सकता है। इसमें एंटी-एपिलेप्टिक गुण होता है, जो मिर्गी के समस्या को कम करने में सहायक होता है। (source)

कैसे उपयोग करे? How to Use?

कौंच के बीज को इस्तेमाल करने के कई तरीके है, जो इस प्रकार है:

  1. कौंच के बीज का चूर्ण बाजार में उपलब्ध है, जिसका सेवन आप दूध या पानी के साथ कर सकते है।
  2. इसका सेवन टैबलेट या कैप्सूल भी किया जाता है जो मेडिकल स्टोर पर आसानी से मिल जायेंगे।
  3. इसके बीज का काढा बनाकर सेवन किया जा सकता है।

कौंच के बीज के नुकसान Side Effects of Kaunch Seed in Hindi

 कौंच के बीज के नुकसान इस प्रकार है:

  1. कौंच का बीज वजन घटने के लिए बहुत अच्छा होता है। इसीलिए इसके ज्यादा सेवन से आपका वजन कम होने से आपको कमज़ोरी महसूस हो सकता है।
  2. इसके ज्यादा सेवन से पाचन संबंधी समस्या हो सकती है।
  3. यदि आपको कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या है तो इसके सेवन से पहले किसी डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें।
  4. गर्भवती महिलाओं को इसके सेवन से बचना चाहिए। या सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह ज़रूर ले।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.