खुशी पर निबंध Essay on Happiness in Hindi

इस लेख में खुशी पर निबंध (Essay on Happiness in Hindi) स्कूल और कॉलेज के छात्रों के लिए लिखा गया है। इसमें खुशी क्या होती है, इसका महत्व, खुश रहने के लाभ, ज्यादा खुशी के नुकसान, और खुशी पर 10 वाक्यों को सरल भाषा में लिखा गया है। 

खुशी पर निबंध Essay on Happiness in Hindi

जीवन में खुशी हमेशा सकारात्मकता की भावना जागृत करता है। जब कोई किसी चीज़ के बारे में आनंद महसूस करता है, तो उसे व्यक्ति की “खुशी” कहा जाता है। खुश रहने से लोग शांति महसूस करते है और मनुष्य को मुस्कुराने में मदद मिलती है। इस आर्टिकल में हमने बच्चों और विद्यार्थियों के लिए जीवन के ख़ुशी पर निबंध प्रस्तुत किया।

खुशी क्या होती है? What is Happiness in Hindi

एक सकारात्मक मनोभाव अथवा भावनात्मक स्थितियों को संदर्भित करने के लिए खुशी शब्द का प्रयोग होता है। जब कोई संतुष्टि और सकारात्मकता का अनुभव करता है, तो वह अपने इस भावना को खुशी के जरिए प्रकट करता है। 

विज्ञान की भाषा में बात करें तो मस्तिष्क में जब डोपामाइन रसायन उत्पन्न होता है, जो कि न्यूट्रोट्रांसमीटर है और हाइपोथैलेमस द्वारा निर्मित किया जाता है यह लोगों को आनंदित महसूस कराता है। जब भी आप खुश होते हैं, तब मस्तिष्क में डोपामाइन रसायन रिलीज होता है।

खुशी जीवन का एक अभिन्न अंग है। खुशी और उत्साह के बिना जीवन जीना व्यर्थ होता है। विज्ञान के मुताबिक जो व्यक्ति अपने जीवन में खुश रहता है, वह दूसरों के मुकाबले लंबी आयु जीता है। 

इतनी बड़ी दुनिया में कौन किस कारण से खुश और प्रसन्न होता है, यह उसके ऊपर निर्भर करता है। कुछ लोग खुशी का संबंध पैसों से जोड़ते हैं, लेकिन यह सिद्धांत गलत है। 

क्योंकि इस दुनिया में सबसे ज्यादा चिंतित रहने वाले लोगों में अमीर लोग भी होते हैं, क्योंकि उन्हें हर समय कोई ना कोई डर सताता ही रहता है। वहीं दूसरी ओर एक गरीब व्यक्ति भले ही दूसरे परिपेक्ष्य में तमाम अभावों से निराश भले होता है, लेकिन वह अमीरों की तुलना में एक संतुष्ट नींद सो पाता है।

दुनिया में हर एक इंसान को खुश रहना अच्छा लगता है, लेकिन कई कारणों से वह खुद को उस अवस्था तक नहीं पहुंचा पाता और अपने चारों तरफ नकारात्मकता एवं उदासी का आवरण पाता है। खुशी एक उपलब्धि है, जिसे यदि प्राप्त कर लिया जाए तो यह लोगों को उनके लक्ष्य के एक सीढ़ी के रूप में कार्य करती है। 

यह तो सामान्य बात है, कि जब कोई व्यक्ति खुश होता है तब  उसके दिमाग में अधिक कार्य करने का भाव उत्पन्न होता है और वह लगातार सकारात्मक प्रयासों से एक न एक दिन अपने लक्ष्य को भी प्राप्त कर लेता है।

जीवन में खुशी का महत्व Importance of Happiness in Life in Hindi

चाहे विज्ञान हो या फिर अध्यात्म इस दुनिया में हर किसी ने जीवन में खुशी का महत्व बताया है। वास्तव में लोग इसे बड़े हल्के में ले लेते हैं, लेकिन यदि लोगों को जीवन में खुशी का वास्तविक महत्व पता चल जाए तो जीवन बदल सकता है। 

दुनिया में अस्तित्व रखने वाले तमाम धर्म जीवन की वास्तविक संतुष्टि अथवा खुशी को ही मोक्ष का द्वार बताते हैं। खुशी हमारे संस्कृति का एक अभिन्न केंद्र रहा है।

एक अच्छा जीवन जीने के लिए खुश रहना बेहद जरूरी है। एक मजबूत मन और मस्तिष्क प्रसंता की जननी होती है। नीरसता और क्रोध में किया गया कार्य हमेशा नकारात्मक परिणाम ही देता है, लेकिन वही अगर खुशी मन से कोई कार्य किया जाए तो वह न केवल हमें अच्छे परिणाम देता है, बल्कि आपके छवि पर भी एक अच्छा असर डालता है।

और पढ़ें -  कुरान क्या है? महत्व, इतिहास What is Quran? Importance & History in Hindi

यदि दिन की शुरुआत अच्छे मन से किया जाए तो यह निश्चित है, कि आपका पूरा दिन मस्ती में बितेगा। प्रसन्न चित्त से किया गया कार्य हमेशा अच्छे परिणाम ही देता है। खुशी की कई अवस्थाएं होती हैं। 

उदाहरण के तौर पर एक स्वस्थ शरीर, स्वस्थ मन, नई उपलब्धियां इत्यादि व्यक्ति को अच्छा महसूस कराता है। जिस तरह वाहनों को चलाने के लिए उनमें पेट्रोल और डीजल डालना जरूरी होता है, उसी तरह एक अच्छे जीवन के लिए खुश रहना भी उतना ही जरूरी होता है।

कोई भी इंसान अपने मन से कभी भी पूरी तरह से हीन भावना को खत्म नहीं कर सकता। क्योंकि जीवन में ऐसे कई पल आते हैं जब ना चाहते हुए भी व्यक्ति नकारात्मकता से भर जाता है। लेकिन अच्छी बात यह है कि खुश रहने के निरंतर प्रयास से मन में आत्मविश्वास की कमी और हीन भावना को टाला जा सकता है। मुश्किल से मुश्किल घड़ी में जिसने खुश रहना सीख लिया उसके जैसा विश्व विजेता कोई और नहीं होता।

हमेशा खुश रहने का सबसे महत्वपूर्ण परिणाम यह होता है कि आप अपने भविष्य के बारे में अच्छे से सोच सकते हैं। एक प्रसन्न मन ही दूरदृष्टि रख सकता है। खुशी एक ऐसी चीज़ है, जिसे किसी भी मूल्यवान वस्तुओं या पैसों से नहीं खरीदा जा सकता, अर्थात हर कोई खुशी का अनुभव कर सकता है।

ख़ुशी और उदासी Happiness and Sadness

खुशी आमतौर पर उदासी के विपरीत होती है। कई दार्शनिकों ने कहा है कि दुनिया में खुशी और उदासी आती जाती रहती हैं, लेकिन ऐसा कोई भी नहीं है जो हमेशा खुश या हमेशा उदास होता है। खुशी कभी-कभी लोगों को हंसते समय रोने का कारण भी बनती है क्योंकि भावना किसी के नियंत्रण में नहीं होती है।

खुशी एक बहुत मुश्किल श्रेणी है, जो हर कोई खुद के लिए चुनता है। हम इन भावनाओं का वर्णन नहीं कर सकते हैं। मेरी राय में हम इसे लोगों की आंखों में देख सकते हैं। खुशी हमारी आत्मा के अंदर से चमकती है। एक व्यक्ति के लिए खुश रहना स्वास्थ्य बर्धक है। यह आत्मा में प्यार को बढ़ावा देता है।

कुछ लोग सोचते हैं कि खुशी उनके जीवन का केवल एक छोटा सा समय है। एक नियम के रूप में, हम लंबे समय तक अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए काम करते हैं और यदि हम सफल हो जाते हैं, तो हमें खुशी महसूस होती है और नहीं हुए तो उदासी। कभी-कभी हम अविश्वसनीय दृश्यों और सुंदर इमारतों को देखते हुए भी खुशी महसूस करते हैं।

परिवार से ख़ुशी का रिश्ता Happy Relationship with Family

मैंने पाया है कि मेरे ख़ुशी के पल” को पूरा करने में मेरा परिवार, मेरी खुशी का एक बड़ा तत्व है। कुछ ख़ुशियों के उदाहरणों में रविवार को मेरे परिवार के साथ दोपहर का खाना शामिल है तो कभी सबके साथ घूमना और इस तरह हम सिर्फ एक-दूसरे के साथ का आनंद लेते हैं।

दोस्तों के साथ मिलकर घंटों बातें करना साथ-साथ पढना ये सभी खुशियाँ है। ख़ुशी को शब्दों में आकां नहीं जा सकता है चाहे छोटी हो या बड़ी हो। किसी को ख़ुशी पैसे में मिलती है तो किसी को प्यार में, तो कोई इसे महसूस करता है।

छोटे और बड़े हम मनुष्य दोनों ही ख़ुशी का अनुभव कर सकते है। हम कह सकते है ख़ुशी सबके अंदर होती है और लोग इसे बाहर खोजते है। 

इसलिए यह जानना बहुत ज़रूरी होता है कि जीवन में हम खुशियाँ कैसे ढूंढ सकते हैं। इस तरह हर व्यक्ति खुश हो सकता है, क्योंकि हर किसी के पास उनके रिश्तेदार, और दोस्त होते है। यही ख़ुशी है।

ख़ुशी हर पल में है Happiness is Everywhere and Every time

मेरे लिए, खुशी मेरी जिंदगी है। मैं हर एक पल का आनंद लेता हूं। बेशक, मैं अपने परिवार और अपने कार्य से बेहद खुश हूँ। मुझे लगता है कि हर कोई अपनी जिंदगी में खुशी ला सकता है। 

और पढ़ें -  खुशहाल जीवन पर 51 अनमोल कथन 51 Best Quotes on Happy Life in Hindi

जो भविष्य में उनकी खुशियों का कारण बन सकता हैं। दुर्भाग्यवश, बहुत से लोग सोचते हैं कि वे खुश नहीं हैं, क्योंकि उनके पास बहुत सारी समस्याएं हैं।

हम कोई भी अच्छी घटनायें और चीजे लंबे समय तक याद नहीं रहते है। हमें बुरा वक्त हमेशा याद रहता हैं और यह लोगों के लिए बहुत आम बात है। मेरा मानना ​​है कि दुनिया के सभी लोग खुश हो सकते हैं अगर वो अपने हर पल को ख़ुशी से भर ले। 

उन्हें अपने अन्दर की ख़ुशी को खोजना होगा इसीलिए हर किसी को अपने जीवन में सभी अच्छे कार्यों को याद रखना चाहिए, जो हमारे जीवन के हर पल में खुशी ला सकते है।

सकारात्मकता और खुशी Positivity and Happiness

छोटे बच्चे, अपनी छोटी बार्बी गुड़िया के साथ खेलते है। उनको साधारणतः उनकी छोटी सी दुनिया में किसी बात की कोई चिंता नहीं होती जिसमें वह रहते है। हमारे बचपन के वर्षों के दौरान जीवन आसान था, तब हम सभी बड़े होने के लिए उत्सुक थे। 

यह तब तक ही होता है जब तक छोटे होते है और जब हम किशोरावस्था में उभरने लगते हैं या किशोर अवस्था में पहुँच जाते है तो पुराने दिनों की बातें याद आती है जिसमें हम निश्चिंत थे। दूसरे शब्दों में हम यह स्वीकार करना शुरू देते हैं, कि जीवन, कल्पना करने से कहीं अधिक कठिन है। 

इसीलिए खुश रहने का सबसे अच्छा तरिका है कि हमें अपने सारे अच्छे कामों को करते हुए अपनी सोच को सकारात्मक रखनी है और हमें आज देखना है कल की चिंता नहीं करना है और पुराने बीते वक्त को अलबिदा कहना है यही जीवन जीने और खुश रहने का सही तरीका है।

प्राकृतिक सुन्दरता में भी ख़ुशी है Happiness in Nature

निकलते हुये सूरज को देखना,  फूलों को देखना, सुन्दर पहाड़, झरने आदि किसी के चेहरे पर मुस्कुराहट ला सकते है। ये सभी उदाहरण हैं जिससे कोई व्यक्ति खुशियों को महसूस कर सकता है। अनगिनत उत्तेजनायें है जिसके माध्यम से खुशी हासिल की जा जाती है, भले ही वे भौतिक हो या भावनात्मक हों। 

किसी भी खुशी की कोई सामान्य परिभाषा नहीं होती है। प्रत्येक व्यक्ति की अपनी धारणा होती है कि उसके लिये खुशी क्या है? और ख़ुशी कोई ढूंडने की वास्तु नहीं यह एहसास करने से जीवन में आता है।

खुश रहने के लाभ Benefits of Being Happy in Hindi

  • खुशी मस्तिष्क को शांति का अनुभव कराती है। शांति और एकाग्र चित्त से किया गया कोई भी कार्य हमेशा सकारात्मक परिणामों को जन्म देता है।
  • जीवन में उत्साह के लिए प्रसन्नता का होना भी आवश्यक होता है। क्योंकि इससे एक सामान्य व्यक्ति भी अपने अंदर उत्साह और आत्म बल का अनुभव कर पाता है।
  • खुशमिजाज इंसान को हर कोई पसंद करता है और उसके साथ रहना पसंद करता है। अगर व्यक्ति हमेशा खुश रहता है, तो वह दूसरों को अपनी तरफ आकर्षित करता है।
  • अगर जीवन में खुशी ना हो तो वह जीवन व्यर्थ ही होता है। हर किसी के जीवन में कोई न कोई परेशानी तो होती है, लेकिन जीवन में आगे बढ़ने के लिए बीते हुए बुरे समय को भूलाना जरूरी होता है। खुश रहने के अभ्यास से आप अपने जीवन के बुरे दिनों को पीछे छोड़ कर आगे बढ़ने में बहुत मदद प्राप्त कर सकते हैं।
  • एक रिसर्च के मुताबिक यह पता लगाया गया है, कि जो व्यक्ति हमेशा खुश रहता है, उसके रिश्ते दूसरों के मुकाबले कहीं ज्यादा मजबूत होते हैं।
  • हमेशा खुश रहने वाले लोगों की आयु कुछ साल और बढ़ जाती है और वह दुसरे लोगों के मुकाबले ज्यादा लंबा जीवन जीते हैं।
  • खुश रहने वाले लोगों को किसी भी प्रकार का डिप्रेशन या बड़ी बीमारियां होने की संभावना बेहद कम होती है और वे अपने जीवन को खुलकर जी पाते हैं।
  • प्रसन्नता लोगों के कार्य क्षमता को और बढ़ाता है। एक रिसर्च के अनुसार यह देखा गया है, कि खुशनुमा लोग सामान्य लोगों की तुलना में अधिक रचनात्मक होते हैं। 
और पढ़ें -  डिमांड ड्राफ्ट क्या है? इसका उपयोग, महत्व What is Demand Draft and Its Use in Hindi?

ज्यादा खुशी के नुकसान Loss of Over Happiness in Hindi

अब तक हमने खुश रहने के लाभ के बारे में जाना। लेकिन क्या कभी हमेशा खुशी महसूस करना यह आपको बुरे परिणाम दे सकता है? आइए जानते हैं कुछ ऐसे कारण जिससे अधिक प्रसन्नता आपको नुकसान भी पहुंचा सकती है।

  • मनोविज्ञान के अनुसार अधिक प्रसन्न होने के कारण व्यक्ति कई जोखिम भरे व्यवहार करने लगता है, उदाहरण के तौर पर आवश्यकता से ज्यादा प्रसन्नता आपको किसी ऐसी मुसीबत में डाल सकती हैं, जिसका सामना आप कभी ना करना चाहते हो।
  • खुशी एक इंद्रधनुष की तरह है, जिसमें कई सारे रंग होते हैं। कभी-कभी खुशी का पीछा करना यह मनुष्य को और भी दुखद परिस्थिति में ढकेल सकता है। यदि कोई व्यक्ति बड़े और ऊंचे लक्ष्यों को प्रसन्नता की अवस्था में तय कर लेता है, तो उस लक्ष्य के न प्राप्त हो पाने के कारण वह गहरे मानसिक तनाव के परिस्थिति में भी जा सकता है।
  • कभी-कभी नकारात्मक भावनाएं हमें अपने भविष्य के बारे में चिंता करने पर विवश करती हैं। लेकिन आवश्यकता से अधिक प्रसन्नता के कारण व्यक्ति बहुत ढीला पड़ जाता है और वह इन सभी जरूरी खयालों पर नजर ही नहीं डालता।
  • कई बार लोग संतुष्टि और खुशी को ही अपने वर्तमान परिस्थितियों में ढूंढने लगते हैं। हालांकि यह अच्छी बात है, लेकिन अपने वर्तमान परिस्थितियों से समझौता करना और उसे हमेशा के लिए स्वीकार कर लेना यह आपको जीवन में आगे बढ़ने से रोक सकती हैं।
  • लोग जब जरूरत से अधिक प्रसन्न हो जाते हैं, तो वे वर्तमान परिस्थितियों को देखकर दूसरों को कई वादे और वचन दे बैठते हैं। अगर उत्सुकता में लिए गए इन कदमों को लोग पूरा नहीं कर पाते तो सामने वाले के मन में उस व्यक्ति के प्रति नकारात्मक छवि बन जाती है।
  • जीवन में अलग-अलग परिस्थितियों के अनुकूल ही व्यवहार करना चाहिए। यदि खतरे की परिस्थिति में व्यक्ति खुश रहेगा तो वह अपनी जान से हाथ धो बैठेगा। हमारे अलग-अलग मनोभाव जीवन को एक सही संतुलन देते हैं। डर लोगों को खतरों से सचेत करता है। बुरे लोगों के सामने क्रोध जाहिर करना भी आवश्यक है। इसीलिए हमेशा अलग-अलग परिस्थिति में खुशी जाहिर करना यह अच्छी बात नहीं होती।

खुशी पर 10 वाक्य (10 Lines on Happiness in Hindi)

  • संयुक्त राष्ट्र द्वारा 20 मार्च को ‘इंटरनेशनल डे ऑफ हैप्पीनेस‘ घोषित किया गया है, जो पूरी दुनिया में मनाया जाता है।
  • भावनात्मक अवस्थाओं को संदर्भित करने के लिए ‘खुशी’ शब्द का उपयोग किया जाता है।
  • दुनिया में सबसे खुशाल देशों की गणना के लिए वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट हर वर्ष प्रकाशित की जाती है, जिसकी शुरुआत पहली बार 2012 में हुई थी।
  • सबसे खुशहाल देशों के सूची में उत्तरी यूरोप के कई देश फिनलैंड, आईसलैंड, स्वीडन, नॉर्वे और डेनमार्क सहित सभी नॉर्डिक देश आते हैं।
  • दुनिया की सभी पुरानी सभ्यताओं और संस्कृतियों में प्रसन्नता को सर्वोपरि माना गया है।
  • जीवन के कल्याण के लिए खुशी के भावों का होना बेहद आवश्यक होता है।
  • एक सामान्य व्यक्ति के मुकाबले खुशमिजाज इंसान की आयु ज्यादा होती है।
  • कई बार जब लोगों को किसी सकारात्मक परिणाम के कारण खुशी होती है, तो वे इस सुख को बयां नहीं कर पाते हैं। अर्थात प्रसन्नता को केवल महसूस किया जा सकता है।
  • खुश रहना या दुखी रहना यह दोनों ही इंसान के ऊपर निर्भर करता है, कि वह जीवन को किस रूप में देखता है।
  • जीवन में आगे बढ़ने की इच्छा रखने वाले प्रत्येक मनुष्य को ऊर्जा की जरूरत होती है, जो कि प्रसन्नता के अनमोल स्त्रोत से प्राप्त हो सकती है। 

निष्कर्ष Conclusion

इस लेख में आपने हिन्दी में खुशी पर निबंध (Happiness Essay in Hindi) पढ़ा। आशा है यह लेख आपको जानकारी से भरपूर लगा होगा। अगर यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो इसे ज़रूर शेयर करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.