आत्मविश्वास बढ़ाने के उपाय How to Develop Self Confidence Tips in Hindi?

Contents

आत्मविश्वास बढ़ाने के उपाय How to Develop Self Confidence Tips in Hindi?

जाने आत्मविश्वास कैसे बढ़ाएं? आत्मविश्वास को सुधारने काल मंत्र क्या है? डर कैसे मिटाएं और आत्मविश्वास को बाधा कर कैसे एक सफल व्यक्ति बनें?

आत्मविश्वास बढ़ाने के उपाय How to Develop Self Confidence Tips in Hindi?

आत्मविश्वास क्या है? What is Self Confidence?

आत्मविश्वास किसी भी इंसान की शख्सियत के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। किसी भी इंसान के चरित्र की चमक होती है उसका आत्मविश्वास, आत्मविश्वास ना हो तो इंसान कुछ नहीं है, शून्य है, आत्मविश्वास से ही जीवन में निखार आता है। तो क्या है यह आत्मविश्वास, क्या परिभाषा होगी इसकी, कैसे व्याख्या करेंगे हम आत्मविश्वास की ?

आत्मविश्वास का मतलब है अपने अस्तित्व अपने अंतर्मन अपने चरित्र पर अटूट विश्वास होना और उस विश्वास में खुश रहना, परंतु विश्वास करने का मतलब यह नहीं है कि हम अपनी गलतियों या नादानियां पर भी फखर करें, बिल्कुल नहीं। बल्कि आत्मविश्वास के असल मायने तो तब है जब आपको अपनी गलती के बारे में पता हो, अपने चरित्र की त्रुटि का एहसास हो और आप अपनी गलती को स्वीकार करें। 

परंतु साथ ही साथ यह प्राण भी ले कि ऐसी गलती आगे कभी ना हो क्योंकि आप बखूबी जानते हैं कि उस गलती से या तो आपको या आपके किसी परिचित या दोस्त को शारीरिक या मानसिक तौर पर भारी नुकसान हो सकता है। 

आत्मविश्वास आपकी रूह का लिबास है, आपकी आत्मा का वस्त्र है, आत्मविश्वास ना होना मानो शरीर के लिए निर्वस्त्र होने के समान है। बिना आत्मविश्वास के आप केवल एक मांस का शरीर है और कुछ नहीं।

इस कठिन संघर्ष भरी दुनिया में जीने के लिए आत्मविश्वास बेहद महत्वपूर्ण है, बिना आत्मविश्वास के तो आप कुछ भी नहीं कर सकते हैं। अगर आप में आत्मविश्वास की कमी होगी तो आप पढ़ाई नहीं कर पाएंगे, आपको हमेशा यही लगता रहेगा कि आप हार जाएंगे, फेल हो जाएंगे कभी मन सुखमय नहीं रहेगा, तो बस इसी प्रकार आप जीवन का कोई भी काम आत्मविश्वास के बगैर नहीं कर सकते हैं; चाहे वह नौकरी हो या रोजमर्रा की बातचीत ही क्यों ना हो।

आत्मविश्वास आपको अपनी जिंदगी जीने का हौसला देता है अगर आप में आत्मविश्वास है, आप की कोशिकाएं आत्मविश्वास से भरी हुई है तो आप में हमेशा नित नए काम करने की हिम्मत रहेगी और हिम्मत से ही जिंदगी में गुजारा होता है, बहादुरी से ही जीवन व्यापन संभव हो पाता है।

इसे भी पढ़ें -  भारतीय सभ्यता पर निबंध Essay on Indian Culture in Hindi - Bharatiya Sabhyata

अगर आप में आत्मविश्वास नहीं है तो आप सामने खड़े व्यक्ति से ठीक ढंग से बात भी नहीं कर सकते हैं। इसका सीधा-सीधा अर्थ यह है कि आत्मविश्वास एक ऐसी चीज है जो आपके जीवन के हर एक पहलू में उपयोग होता हुआ दिखेगा। 

अगर आप में आत्मविश्वास नहीं है तो आप अपनी मनपसंद नौकरी के लिए इंटरव्यू नहीं दे सकते हैं, अपना व्यापार नहीं चला सकते हैं और भी बहुत से ऐसे रोजमर्रा के काम आत्मविश्वास के बिना अधूरे हैं।

जीवन में आत्मविश्वास का महत्व? What is the Importance of Self-confidence?

आत्मविश्वास की कमी जीवन में सफलता के रास्ते का सबसे बड़ा पत्थर है। जीवन में आगे बढ़ने के लिए मजबूत आत्मविश्वास  की आवश्यकता होती है। एक बेहतर इंसान बनना और सफलता के लिए लक्ष्य तय करना आत्मविश्वास बढ़ाने का पहला कदम है। अपने सपनों और अपनी योजनाओं को पूरा करने के लिए आत्मविश्वास को सुधारना ज़रुरी है।

कई लोग आत्मसम्मान और आत्मविश्वास को बहुत ही अलग अलग चीज मानते हैं परंतु अगर हम  सही नज़रिए से देखें तो दोनों ही एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। आज हम इस पोस्ट में आपको कुछ ज़बरदस्त टिप्स बताएँगे जिससे आप अपना आत्मविश्वास और आत्मसम्मान दोनों  को सुधार पाएंगे।

अपने आत्मविश्वास को कैसे संभाले? How to control your Self-confidence in Hindi?

आत्मविश्वास को कैसे मजबूत बनाना है इसके विषय में जाने से पहले हमको यह जानना बहुत जरूरी है कि हम अपने आत्मविश्वास को कैसे संभाल सकते हैं और आत्मविश्वास पर काबू करना कितना आसान है। आत्मविश्वास के विषय में कुछ जरूरी बातें –

  • आत्मविश्वास में कमी असफलता का कारण बनता है।
  • आत्मविश्वास अनुवांशिक नहीं होता है जिसे आप आसानी से सुधार सकते हैं।
  • जब किसी व्यक्ति का आत्मविश्वास मजबूत हो जाता है तो उसका आत्मसम्मान भी बढ़ता है।

आत्मविश्वास कैसे बढ़ाएं या सुधारें? How to improve and increase Self-confidence?

नकारात्मक विचारों से दूर रहें और सकारात्मक चीजों से जुड़े Stay away from Negativity and connect with Positivity

नकारात्मक विचारों से जुड़े रहना तथा नकारात्मक बातें करना कम आत्मविश्वास का सबसे बड़ा कारण है। अगर सीधे शब्दों में बात किया जाए तो जो लोग आपसे वादा करते हैं उनसे पूरी तरीके से दूर रहे और जो लोग हमेशा आपसे सकारात्मक बातें करते हैं यह आपको प्रेरणा देते हैं उनसे बात करें।

नकारात्मक से सकारात्मक होना बहुत आसान हो जाता है जब आप एक सकारात्मक वातावरण में रहते हैं। हमेशा मन में एक सकारात्मक उत्साह को जागृत करें और सकारात्मक लोगों से बातें करें। अपने जीवन के मुसीबत को भुलाकर सफलता के नए रास्तों को ढूंढने की कोशिश करें।

अच्छे और सही ढंग के कपड़े पहने Dress Good and Smart

अच्छे आत्मविश्वास के लिए अच्छे और सुन्दर कपड़े पहनना बहुत आवश्यक होता है। अच्छे और सही ढंग के कपड़े पहनने से हर किसी के मन में एक सकारात्मक विचार उत्पन्न होता है।

इसे भी पढ़ें -  हिन्दू धर्म पर निबंध Essay on Hinduism in Hindi - Hindu Dharm

अच्छे सुन्दर कपड़े पहनने से लोग भी प्रसंशा करते हैं जिससे मन में उत्साह जगता है और इससे मन में आत्मविश्वास बढ़ता है। अच्छे कपड़ों का मतलब यह नहीं है कि आप महंगे कपड़े पहने, अच्छे कपड़ों का अर्थ है साफ-सुथरे शिष्ट कपड़े पहने।

स्वयं के काबिलियत के समझें Understand your ability

कम आत्मविश्वास वाले व्यक्ति दूसरों को स्वयं से अधिक काबिल समझते हैं, जो की गलत है। अगर आप सही में आत्मविश्वास को सुधारना चाहते हैं तो आपको अपने काबिलियत को समझना बहुत ही आवश्यक है।

इस दुनिया में हर किसी के पास एक न एक अद्वितीय बेहतरीन कौशल और काबिलियत होती है। हमेशा स्वयं पर विश्वास रखें और अपने मन के विचारों को सुनें। एक कोरा कागज लें और उसमें अपने सभी कौशलता को एक-एक करके लिखें। यह बहुत जरूरी है क्योंकि इससे आपको अपने गुणों को समझने में आसानी होती है।

उदार भाव रखें Be generous

सबसे साथ उदार भाव रखने से एक-दुसरे के बिच संचार कौशल बढ़ता है। इससे लोगों के बिच आपका एक अलग सुन्दर छवि बनता है। इससे लोग आपका आदर और तारीफ करते हैं जिससे आपको अपना आत्मविश्वास सुधारने के लिए और प्रेरणा मिलेगी।

यह बात तो पूरी तरीके से सत्य है कि जो व्यक्ति अंदर से सकारात्मक और उदार भाव का बन जाता है उसका आत्मविश्वास अपने आप बढ़ जाता है।

अपनी आदतों में सुधार लायें Change your habits

यहाँ आपकी बड़ी आदतों जैसे शराब पीने, सिगरेट पीने के बारे में बात नहीं हो रही है। यहाँ बात हो रही है नए सकारात्मक छोटे-छोटे आदतों के बारे में जो आपके आत्मविश्वास को मजबूती देंगे। यह आदतें हैं सुबह जल्दी उठाना, नियमित व्यायाम या योग करना, और लोगों से मुस्कुरा कर बात करना। कुछ हद तक आध्यात्मिकता से जुड़े रहना भी आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद करता है।

छोटे लक्ष्य रखें और उसे हासिल करें Set a small goal and achieve it

कभी-कभी हम अचानक से बड़े लक्ष्यों को तय कर लेते हैं और उसे पूर्ण ना कर पाने पर हम हार मान लेते हैं और हमारा आत्मविश्वास भी कम हो जाता है। ऐसे में अपने आत्मविश्वास को दोबारा मजबूत बनाने का सबसे आसान तरीका है छोटे-छोटे लक्ष्यों को तय करना और उन्हें हासिल करते जाना।

खासकर उन छोटे-छोटे लक्ष्यों को चुनें जो आपको लगता है आप पूरा कर सकते हैं। यह इसलिए ज़रूरी है क्योंकि छोटे-छोटे लक्ष्यों को पूरा करते जाने से ही बड़ा लक्ष्य पूर्ण होता है और इससे आत्मविश्वास भी बढ़ता है।

आभारी रहें Be grateful

अपने हर पल, हर दिन और जीवन के लिए हमेशा आभारी रहें। हमारा जन्म इस दुनिया में कुछ न कुछ अच्छा करने के लिए हुआ है उस बात को समझें।

ज्ञान प्राप्त करें Gain knowledge

अच्छा ज्ञान प्राप्त करने का सबसे अच्छा माध्यम है सकारात्मक प्रेरणादायक किताबें। इससे आपको बहुत कुछ जीवन के विषय में सीखने का मौका मिलेगा और साथ ही आपका आत्मविश्वास भी बढेगा।

आशा करते हैं आपको आत्मविश्वास बढाने के इन उपायों से कुछ मदद मिली होगी। अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो अपने सोशल नेटवर्क वेबसाइट पर ज़रूर शेयर करें।

स्वयं पर भरोसा रखें Beleive In yourself

हमेशा अपने ऊपर विश्वास रखें, मतलब आप जो भी काम करें उसको पूरे मन से करें, आधे दिल से ना करें क्योंकि जब आप कोई भी काम पूरी इमानदारी पूरी निष्ठा और साफ मन से करते हैं तो आपके काम में चमक आ जाती है, आप सफल हो जाते हैं और इस प्रकार आपका आत्मविश्वास अपने आप बढ़ेगा और आपको अच्छा महसूस होगा।

दूसरों की ख़ुशी में ख़ुशी ढूंढें Find happiness in happiness of others

हमेशा दूसरों की खुशी एवं सफलता में अपनी खुशी ढूंढे  क्योंकि एक सच्चा ईमानदार व्यक्ति जो कि अपने जीवन में विकास चाहता है, वह भली भांति जानता है कि दूसरों से जलकर कभी भी खुद सफल नहीं हो सकते हैं, जितनी भी बड़े कामयाब और काबिल लोग हुए हैं उन्होंने हमेशा दूसरों की सफलता में भी ताली बजाई है।

इस प्रकार आप अपने आप को अच्छे भावों से भर लेते हैं क्योंकि अगर जलन करेंगे तो शरीर एवं मस्तिष्क में खराब भाव भर जाएंगे और आपको यह जानकर बिल्कुल भी आश्चर्य नहीं होगा कि अपने अंदर खराब भाव भर कर आप कभी भी सफल नहीं हो सकते हैं।

दूसरों को प्रेरित करें Always motivate other peoples

हमेशा दूसरों को उनके कामों में सराहे, उनका हौसला बढ़ाएं, कोई भी अगर काम करने में कठिनाई महसूस कर रहा है तो उसकी मदद करें, क्योंकि कहते हैं कि दूसरों को सहारा देने वाले हाथ एक दिन खुद कुछ बहुत अच्छा कर जाते हैं।

स्वयं को दूसरों से कम ना समझें Don’t think yourself lesser than others

अपने आप को कभी भी किसी से कमतर ना समझे, आप जैसे भी हैं जो हैं अपने आप में बहुत अच्छे हैं। कभी भी अपनी तुलना किसी अन्य व्यक्ति से करके अपना मन भारी ना करें, क्योंकि जीवन में हर व्यक्ति की एक अलग रेलगाड़ी है और हर किसी की रेल गाड़ी एक अलग पटरी पर दौड़ रही है, अपनी अलग अलग गति से।

किसी दूसरे से तुलना कर कर आप अपने आप को शर्मिंदा कर रहे होते हैं, अपनी शख्सियत के साथ जुल्म कर रहे होते हैं, क्योंकि हर किसी के जीवन की कहानी अलग है, यह सब करके आप अपने आप को बेवजह ही परेशान कर सकते हैं, बस और कुछ नहीं !!

13. जो भी आपके पास उसके लिए भगवान् का शुक्रिया करें Say thanks to God

जो भी आपके पास है मौजूदा स्थितियों में, चाहे वह आपकी नौकरी हो, आपकी सेहत, आपके रिश्ते, आपके आसपास के लोग आदि, जो भी कुछ है उसके लिए ईश्वर एवं ब्रह्मांड को धन्यवाद कहते रहे, क्योंकि ईश्वर ने आपको यह सारी चीजें दी है और आपके शरीर का एक-एक कण ब्रह्मांड के कणों से ही बना हुआ है।

यह जीवन का सीधा सा नियम है की जितना आप धन्यवाद भाव के साथ रहेंगे, उतना ही आपको प्रकृति जीवन के हर पहलू में ऊपर उठाएगी और अगर इससे उलटा भाव रखेंगे, मतलब अपनी परिस्थितियों को सदा कोसते रहेंगे तो प्रकृति, आपके पास जो भी है उसको भी आपसे छीन ले लेगी।

इन सब बातों का यही अर्थ निकलता है कि खुश रहने की कोशिश करें, अपना काम पूरी लग्न एवं मेहनत से करें, मन में दया एवं मदद का भाव रखें तो आप आत्मविश्वास से भरे रहेंगे।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.