भारत का राष्ट्रीय फूल कमल पर निबंध Essay on National flower of India in Hindi

भारत का राष्ट्रीय फूल कमल निबंध Essay on National flower of India in Hindi

एक देश का राष्ट्रीय फूल संस्कृति के इतिहास और एक राष्ट्र की विरासत के साथ संबंधित होता है। इसका मतलब यह है कि उस राष्ट्रीय पुष्प की छवि को दुनिया में मजबूत करता है और देश के वास्तविक गुणों को कायम रखने में इसकी एक बहुत बड़ी भूमिका होती है। कमल हमारे भारत का राष्ट्रीय फूल है।

यह एक जल में उगने वाला फूल है, जिसे अक्सर संस्कृत में ‘पद्मा फूल’ कहा जाता है और भारतीय संस्कृति में इसको एक पवित्र स्थान दिया गया है। यह प्राचीन काल से भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग रहा है। भारतीय पौराणिक कथाओं की एक प्रमुख विशेषता के अनुसार, कमल, भारत की पहचान के साथ ही भारतीय मानस के मूल मूल्यों को दर्शाता है।

कमल आध्यात्मिकता, सफलता, धन, ज्ञान और उज्ज्वलता का प्रतीक है। कमल के बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह तालाब या कीचड़ वाले जगहों पर होता है। दूसरी ओर कमल, हृदय और मन की पवित्रता का प्रतीक है। राष्ट्रीय फूल ‘कमल’ या यह पानी लिली नम्फैया प्रजातियों का एक जलीय पौधा है, इसकी विस्तृत अस्थायी पत्तियां और उज्ज्वल सुगंधित फूल हैं जो उथले पानी में ही बढ़ते हैं।

कमल की पत्तियां विस्तृत और अस्थायी होती है और उनका तना लम्बा होता है, जिसमें हवा एकत्रित होती है। कमल के फूलों में कई पंखुड़ियां होती है, जो आनुपातिक स्वरूप में अतिव्यापी होती है। यह पानी के नीचे कीचड़ के माध्यम से क्षैतिज रूप से प्रशस्त होता है। शांत सुंदरता से पोषित कमल को देखकर हमें आनंद मिलता है, क्योंकि इसके फूल तालाब में जल की सतह पर खिलते हैं।

Contents

इसे भी पढ़ें -  अरुण ग्रह के बारे में 20 रोचक तथ्य 20 Interesting Facts about Uranus Planet in Hindi

भारत का राष्ट्रीय फूल कमल पर निबंध Essay on National flower of India in Hindi

उत्पत्तिस्थान Origin

कमल एक जलीय बारहमासी पौधा है, जो तालाबों और झीलों जैसी स्थिर जल निकायों में पैदा होता है। कमल के पौधे के लिए गर्म जलवायु और उथला संदिग्ध जल आवश्यक हैं। इसकी डंठल और जड़ें पानी में डूबी हुयी रहती हैं, जबकि पत्तियां और फूल पानी की सतह से ऊपर रहते हैं।

विवरण Details

कमल का तना जल की निचली सतह पर कीचड़ की मिट्टी में भूमिगत होता है। इसकी संरचना सभी फूलों से अलग है और इसकी जड़ें बहुत छोटी होती है जो अपना कार्य राइजोम की सहायता से करती है। कमल के फूल में डंठल होता है, डंठल के उपर कमल के फूल की पत्तियां होती है।

डंठल, रिजोमोटास तने के ऊपर उभरे रहते हैं – डंठल, हरा, लंबा, गोल और खोखला होता हैं।  डंठल पानी की सतह से 2, 3 सेमी ऊँचाई पर होता है और पानी के ऊपर पत्त्तियाँ और फूल होते है। डंठल में छिद्र होते है जो कमल को जल में रहने में उसकी मदद करते है। पत्तियों की उपरी सतह मोम की तरह होती है।

पौधों का मुख्य भाग फूल होता हैं, जो कि बहुत ही आकर्षक हैं, जो मुख्य रूप से गुलाबी या सफेद रंग के होते हैं। फूल नाजुक पंखुड़ियों द्वारा बने होते है। कमल की कली नुकीली आकृति की होती है। यह कुछ नेत्र से निकलने वाले जल की तरह प्रतीत होता है।

पंखुड़ियां उभरी होती है। फूल सुबह में खिलते हैं और तीन दिनों तक खिले रहते हैं, जैसे ही सूर्यास्त होता है परागण बंद हो जाते है। पीले रंग का भाग जिसमें निषेचन के बाद बीज विकसित होते हैं। बीज कठोर होते है, यह अंडाकार व भूरे रंग के होते है।

उपयोग Use

अपने सौंदर्य के साथ-साथ कमल के फूल में बहुत औषधीय गुण है। इस पौधे का हर हिस्सा उपभोग्य है। पंखुड़ियों का उपयोग अक्सर सजावटी इस्तेमाल में किया जाता है। परिपक्व पत्ते अक्सर भोजन करने के लिये उपयोग किये जाते है।

इसे भी पढ़ें -  राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पर निबंध National Safety Week / Day in Hindi

भारत में, कमल के पत्ते पर भोजन करना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है। चीन, कोरिया और इंडोनेशिया जैसे अधिकांश पूर्व एशियाई देशों में सब्जियों के रूप में इसके पत्ते के डंठल का उपयोग किया जाता है।

उबला हुआ, कटा हुआ और तला हुआ राइजोम, सलाद के रूप में उपयोग किया जाता है। यह फाइबर में समृद्ध है, जिसमें बी 1, बी 2, बी 6, और विटामिन सी जैसे तत्व होते है। पोटेशियम मैंगनीज फॉस्फोरस और तांबा जैसी आवश्यक खनिज कमल के बीज के रूप में काफी लोकप्रिय हैं और अक्सर कच्चे खाए जाते हैं। कमल का बीज का मिश्रण, चावल के आटे का हलवा और दाइफुकू जैसी एशियाई डेसर्ट में एक आम घटक है।

कमल के पास परंपरागत चिकित्सा में कई उपचारात्मक गुण हैं। कमल चाय का उपयोग हृदय की बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है। इसके कई गुण है, जिसमें चोट से रक्त का प्रवाह रोकने में मदद करता है। कमल की जड़ पेट और प्रजनन अंगों के लिए लाभदायक होती है। यह गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के स्वस्थ विकास के लिए अच्छा है।

कमल जड़ का उपयोग स्वास्थ्य समस्याओं जैसे कि गले की गांठ और त्वचा में रंजकता समस्याएं, चेचक और दस्त जैसे संक्रमण रोगों के उपचार में किया जाता है। कमल के बीज गुर्दे और तिल्ली के रोग का निवारण किया जाता है। कमल के पत्ते अन्य खाद्य पदार्थों को लपेटने के लिए उपयोग किया जाता है, जिससे उन खाद्य पदार्थों की ताज़गी बनी रहती है।

सांस्कृतिक महत्व Cultural Importance

कमल के फूल को भारतीय दर्शन के प्रतीकों के रूप में बताया गया है। अपने निबंध “काम का रहस्य” में  स्वामी विवेकानंद ने कमल के पत्तों के आध्यात्मिक महत्व को बताते हुए कहा –

“जैसे कि पानी कमल के पत्तों को गीला नहीं कर सकता है, वैसे ही काम अनुग्रह को जन्म देकर निःस्वार्थ व्यक्ति को बांध नहीं सकता है।”

कमल के पौधे का जीवन आध्यात्मिक रूप से एक कल्पना का प्रतीक है। जिस तरह से यह कीचड़ के बीच बढ़ता है, लेकिन फिर भी यह एक अनोखा फूल है, जो सुंदरता के परे है। यह हिंदू धर्म और बौद्ध धर्म दोनों में पवित्र माना गया है।

इसे भी पढ़ें -  भारत के राष्ट्रीय उद्यान List of National Parks of India in Hindi

ब्रह्मा, लक्ष्मी और सरस्वती जैसे कई हिंदू देवताओं को कमल के फूल पर बैठे हुए चित्रित किया गया है। बौद्ध दर्शन में कमल जीवन की आत्मा की शुद्धता की रक्षा करता है। कमल का फूल दिव्य सौंदर्य का प्रतीक है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.