भारत के 30 प्रमुख ऐतिहासिक स्मारक Top Monuments of India in Hindi

Contents

क्या आप भारत के बेहतरीन स्मारक (Top monuments of India in Hindi) के विषय में जानना चाहते हैं? भारत देश संस्कृतियों का देश है। हमारे देश का इतिहास पुरे विश्व में सबसे अलग और अनोखा है। भारत में कई मीनार, मंदिर, किले और ऐतिहासिक स्थल हैं जो इसे महान बनाते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको भारत के 30 सबसे बेहतरीन और प्रमुख स्मारकों के विषय में बताएँगे जहाँ आपको ज़रूर Travel करना चाहिए।

भारत के प्रमुख स्मारकों के नाम और उनके विषय में जानकारी

1. ताजमहल Taj Mahal

पढ़ें: ताजमहल का अद्भुत इतिहास

यह भारतीय स्मारक उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा जिले में यमुना नदी के किनारे स्थित है। इसका निर्माण मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में सफेद संगमरमर के पत्थरों से कराया था। सन 1983 में इसे यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल के रूप में नामित किया गया इसके साथ ही साथ यह विश्व के सात आश्चर्यो की सूची में भी शामिल है।

2. लाल किला Lal Qila

पढ़ें: लाल किला का इतिहास

यह प्रमुख स्मारक भारत की राजधानी दिल्ली के पुराने दिल्ली क्षेत्र में स्थित है। मुगल बादशाह शाहजहां ने लाल बलुआ पत्थरों से इसका निर्माण करवाया था। इसके दीवारों का रंग लाल होने के कारण ही इसे ‘लाल किला’ कहा जाता है। वर्ष 2007 में यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर स्थल की सूची में शामिल किया था।

3. कुतुबमीनार Qutub Minar

यह स्मारक भारत की पुरानी दिल्ली के मेहरौली भाग में स्थित है। इसकी इमारत की नींव दिल्ली सल्तनत के प्रथम मुस्लिम शासक कुतुबुद्दीन ऐबक ने रखी थी परन्तु इसके निर्माण कार्य को इल्तुतमिश ने पूरा करवाया था। यह ईंटो से बनी विश्व की सबसे ऊंची इमारत है। यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में शामिल है।

4. बुलंद दरवाजा Buland Darwaza

उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा जिले से कुछ दूरी पर स्थित फतेहपुर सीकरी नामक स्थान पर स्थित है। मुगल सम्राट अकबर ने गुजरात पर विजय प्राप्त करने की याद में 1602 ई0 में इसका निर्माण करवाया था।

इस स्मारक को विश्व का सबसे बड़ा प्रवेश द्वार होने का गौरव प्राप्त है। इसका निर्माण लाल बलुआ पत्थरों से हुआ है तथा इसे सफेद संगमरमर की चट्टानों से सुसज्जित किया गया है।

इसे भी पढ़ें -  बीबी का मकबरा इतिहास Bibi Ka Maqbara History in Hindi

5. हुमायूँ का मकबरा Humayu’s tomb

पढ़ें: हुमायूँ के मकबरे का इतिहास

यह स्मराक नई दिल्ली के निजामुद्दीन पूर्व क्षेत्र में मथुरा मार्ग के समीप स्थित है। इस मक़बरे को मुगल शासक हुमायूँ की बेगम के आदेश पर 1562 ई0 में बनवाया गया था। इस मक़बरे में मुगल बादशाह हुमायूँ की कब्र मौजूद है। हुमायूँ का मक़बरा भारत मे वास्तु कला का पहला उदाहरण है।

6. इंडिया गेट India Gate

पढ़ें: इंडिया गेट का इतिहास

इस स्मारक का निर्माण भारत की राजधानी दिल्ली में राजपथ पर किया गया है। इसके डिज़ाइन को सर एडवर्ड लुटियन के द्वारा तैयार किया गया था। इसका निर्माण द्वितीय विश्व युद्ध में शहीद हुए भारतीय सैनिकों की याद में किया गया था। यहाँ पर लगभग 13,300 शहीद सैनिकों का नाम लिखा हुआ है।

7. हवा महल Hawa Mahal

हवा महल राजस्थान राज्य के जयपुर जिले में स्थित है। यह एक पांच मंजिल की बहुत ही खूबसूरत इमारत है। इसका निर्माण सन्् 1798 ई0 में महाराजा सवाई प्रताप सिंह के द्वारा करवाया गया था। इस महल के डिज़ाइन को वास्तुकार लाल चंद उस्ता के द्वारा तैयार किया गया था।

8. आगरा का किला Agra Red Fort

पढ़ें: आगरा का लाल किला इतिहास

यह किला उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा जिले में स्थित है। यह मुगलकालीन शासको का निवास स्थान था। मुगल शासक यहीं से शासन् व्यवस्था को संभालते थे।

9. चारमीनार Charminaar

पढ़ें: चारमीनार का इतिहास

यह आंध्र प्रदेश के हैदराबाद शहर में स्थित है। इसका निर्माण कुतुब शाही वंश के शासक सुल्तान मुहम्मद क़ुली क़ुतुब शाह के द्वारा सन् 1591 ई0 में करवाया गया था।

10. सांची का स्तूप Sanchi Stupa

पढ़ें: सांची के स्तूप का इतिहास

यह मध्य प्रदेश राज्य के रायसेन जिले में स्थित है। इसका निर्माण मौर्य वंश के शासक सम्राट अशोक महान ने कराया था। इस स्मारक में भगवान बुद्ध से सम्बन्धित कुछ अवशेष रखे हुए थे। इस स्मारक को प्यार, शांति, विश्वास एवं साहस का प्रतीक माना जाता है।

11. बड़ा इमामबाड़ा Bada Imambara

यह उत्तरप्रदेश राज्य की राजधानी लखनऊ शहर में स्थित यहाँ की एक ऐतिहासिक धरोहरों में से एक है। इसका निर्माण आसफ़उद्दौला के द्वारा सन् 1784 ई0 में मरहूम हुसैन अली की शहादत की याद में कराया गया था। ईस इमामबाड़े का निर्माण ईरानी शैली में किया गया है।

12. जामा-मस्जिद Jama Masjid

पढ़ें: जामा मस्जिद का इतिहास

यह मस्जिद भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है। इसका निर्माण सन् 1665 ई0 में मुगल बादशाह शाहजहां के द्वारा लाल बलुआ पत्थर एवं सफेद संगमरमर की चट्टानों से करवाया गया था। यह भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है। इस मस्जिद में ग्यारह मेहराबों का निर्माण किया गया है।

13. बीबी का मकबरा Bibi ka Maqbara

पढ़ें: बीबी का मकबरा इतिहास

यह मकबरा महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित है। इस मक़बरे का निर्माण मुगल बादशाह आजम शाह के द्वारा अपनी माँ दिलराज बानू बेगम की याद में कराया गया था। इस मक़बरे की तुलना ताजमहल से किये जाने के कारण ही इसे दक्षिण के ताज भी कहते है। इस मक़बरे के डिज़ाइन को अताउल्लाह के द्वारा तैयार किया गया था।

14. जूनागढ़ किला Junagarh Qila

देखने मे बहुत ही भव्य और खूबसूरत यह किला राजस्थान राज्य के बीकानेर जिले में स्थित है। इस किले के अंदर प्रवेश करने के लिए सात द्वार है।

इसका निर्माण राजा जयसिंह के द्वारा कराया गया था। इसी किले के चारो तरफ बीकानेर शहर बसा हुआ है। इस किले में भगवान लक्ष्मी नारायण तथा भगवान श्री कृष्ण के दो शाही मन्दिर भी है।

इसे भी पढ़ें -  रामनाथस्वामी मंदिर रामेश्वरम इतिहास Ramanathaswamy Rameswaram Temple History in Hindi

15. दिलवाड़ा का जैन मंदिर Dilwara Jain temple

पढ़ें: दिलवाडा का जैन मंदिर का इतिहास

दिलवाड़ा का जैन मंदिर पांच मंदिरो का एक समूह है जो कि राजस्थान राज्य के माउंट आबू में स्थित है। जैन धर्म के तीर्थंकरों को समर्पित इस मंदिर का निर्माण विमल शाह नामक शासक के द्वारा कराया गया था। इस मंदिर के स्तम्भो पर नृत्यांगनाओ की आकृतियां मन्दिर निर्माण की एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

16. विजय स्तम्भ Vijaya Stambh

भारतीय स्थापत्य कला का सुंदर एवं बारीक कारीगरी का यह नमूना 120 फ़ीट ऊंचा और नौ मंजिल की इमारत राजस्थान राज्य के चित्तौड़गढ़ में स्थित है। इसका निर्माण मेवाड़ के राजा राणा कुम्भा ने मालवा और गुजरात में महमूद खिलजी की सेनाओ पर विजय प्राप्त करने के बाद एक स्मारक के रूप में कराया था।

17. एतमातुद्दौला का मकबरा Tomb of Ettamadawalla

इस मक़बरे का निर्माण जहाँगीर के दरबार के मंत्री मिर्जा ग्यास बेग की याद में नूरजहाँ ने कराया था। मिर्जा ग्यास बेग को एतमातुद्दौला की उपाधि प्राप्त थी जिसके कारण इस मक़बरे का नाम एतमातुद्दौला का मकबरा पड़ा। इस मक़बरे के निर्माण में स्थापत्य कला की पेट्रा ड्यूरा शैली का प्रयोग किया गया था।

18. गेटवे ऑफ इण्डिया Gateway Of India Mumbai

गेटवे ऑफ इण्डिया भारत का आर्थिक नगर कहे जाने वाले शहर मुबई के दक्षिण में समुद्र के किनारे स्थित है। 26 मीटर ऊंचाई वाले इस प्रवेश द्वार को राजा जार्ज पंचम तथा रानी मैरी  के भारत आगमन की याद में सन् 1911 ई0 में बनवाया गया था। इसकी डिज़ाइन को जार्ज विंटैन्ट के द्वारा तैयार किया गया था।

19. मोती मस्जिद Moti Masjid

यह भारत  के दिल्ली में स्थित लाल किला के अंदर है। इसका निर्माण मुगल बादशाह औरंगजेब के द्वारा करवाया गया था। मोती मस्जिद के नाम से ही एक मस्जिद पाकिस्तान के लाहौर में भी है जो कि लाहौर के किले के अंदर है। इसका निर्माण मुगल सम्राट शाहजहाँ के द्वारा 1645 ई0 में करवाया गया था।

20. कोर्णाक का सूर्य मंदिर Konark Surya Temple

पढ़ें: कोणार्क का सूर्य मंदिर इतिहास

यह भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है जिसका निर्माण गंग वंश के शासक राजा नृसिंहदेव के द्वारा करवाया गया था। इसका निर्माण लाल बलुआ पत्थरो तथा काले ग्रेनाइट के पत्थरो से करवाया गया था जो इसकी सुंदरता में चार चांद लगाता है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि इस मंदिर में सूर्य भगवान को रथ खींचते हुए अंकित किया गया है।

21. अजंता की गुफाएं Ajanta Caves

पढ़ें: अजंता की गुफाएं इतिहास

बौद्ध धर्म की आस्था को अपने अंदर समाहित किये हुए अजंता की गुफाएं महाराष्ट्र औरंगाबाद में स्थित है। इसे 29 चट्टानों को काटकर बौद्ध धर्म से सम्बंधित चित्रकारी की गई है जो कि अपने आप मे शिल्पकारी का एक अनूठा नमूना है। 1983 ई0 में यूनेस्को के द्वारा इसे विश्व धरोहर स्थलों की सूची में शामिल किया गया था।

22. जंतर मंतर Jantar Mantar

वेधशाला के अनूठे गुणों को अपने अंदर समाहित किये हुए इस स्मारक का निर्माण 1724 ई0 में जयपुर के शासक महाराजा जयसिंह के द्वारा करवाया गया था।  इसी तरह के अन्य वेधशालाओं का निर्माण भारत के अन्य राज्यो में भी किया गया है जिसमे मथुरा, वाराणसी तथा उज्जैन प्रमुख है।

23. कमल मंदिर Lotus temple

पढ़ें: कमल मदिर का इतिहास

बहाई उपासना को अपने अंदर समेटे हुए यह अपने आप मे एक अनूठा मन्दिर है जहाँ ना ही किसी धर्म से सम्बंधित कोई कर्म कांड किया जाता है और न ही किसी देवी देवता की मूर्ति है। भारत का यह अनूठा मंदिर दिल्ली के नेहरू प्लेस के पास स्थित है। इस मंदिर को लोटस टेम्पल के नाम से भी जाना जाता है।

इसे भी पढ़ें -  अजंता की गुफा का इतिहास और कला Ajanta Caves History in Hindi

24. छत्रपति शिवाजी टर्मिनल Chatrapati Shivaji temple

यूनेस्को के द्वारा सूचीबद्ध किए गए भारत के 32 विश्व धरोहर स्थलों में से एक है जो मुम्बई में स्थित है। इसका निर्माण रानी विक्टोरिया के स्वर्ण जयंती के उपलक्ष्य में 1887 ई0 में कराया गया था। यह भारत के सबसे व्यस्ततम रेलवे स्टेशनो में से एक है जो भारत के केंद्रीय रेलवे के मुख्यालय के रूप में कार्य करता है।

25. मैसूर पैलेस Maisoor Palace

पढ़ें: मैसूर पैलेस का इतिहास

यह राजमहल प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्मारकों में से एक है। यह महल मैसूर के शासक कृष्णराज वाडियार चतुर्थ का है। पहले इस महल का निर्माण चंदन की लकडियो से किया गया था परंतु एक दुर्घटना में इस महल को बहुत अधिक क्षति हुई थी।

बाद में इस महल की मरम्मत कराई गई जहाँ आज एक संग्रहालय है। मैसूर पैलेस द्रविड़ पूर्वी तथा रोमन स्थापत्य कला का एक उत्कृष्ट नमूना है।

26. खजुराहो के मंदिर Khajuraho temple

पढ़ें: खजुराहो मंदिर का इतिहास

अपनी वास्तुकला के लिए पूरी दुनिया मे प्रसिद्ध खजुराहो मध्यप्रदेश के छतरपुर में स्थित देश का सर्वोत्कृष्ट मध्यकालीन इमारत है। खजुराहो प्राचीन हिन्दू और जैन मंदिर बड़ी संख्या में है। मंदिरों का यह शहर सम्पूर्ण विश्व मे मुड़े हुए पत्थरो से निर्मित मंदिरो के लिए सुप्रसिद्ध है।

27. सोमनाथ मंदिर Somnath temple

पढ़ें: सोमनाथ मंदिर का इतिहास

प्राचीन हिन्दू मंदिरो में से एक सोमनाथ मंदिर की गिनती 13 ज्योतिर्लिंगो में से सबसे पहले ज्योतिर्लिंग के रूप में कई जाती है। इस हिन्दू मंदिर का निर्माण गुजरात राज्य के सौराष्ट्र क्षेत्र के वेरावल शहर में समुन्द्र के किनारे की गई है।

हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार इस मंदिर का निर्माण स्वयं भगवान चंद्रमा ने किया था। परन्तु वर्तमान समय मे बना सोमनाथ मंदिर देश की आजादी के बाद सरदार वल्लभ भाई पटेल के द्वारा बनवाया गया था।

28. एलोरा की गुफाएं Ellora Caves

पढ़ें: एलोरा की गुफाएं इतिहास

एलोरा यूनेस्को द्वारा घोषित एक विश्व धरोहर स्थल है जो कि बौद्ध तथा जैन से सम्बंधित गुफा में बने मंदिरो के लिए सुप्रसिद्ध है। यह पुरातात्विक स्थल महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित है जिसे राष्ट्रकूट वंश के शासकों के द्वारा बनवाया गया था। इन गुफाओं का निर्माण दुर्गम पहाड़ियों की खड़ी चट्टानों को को काटकर किया गया है जो कि पाषाण शिल्प स्थापत्य कला का एक अनूठा संगम है।

29. लालगढ़ महल Lalgarh Mahal

यह महल भारत के राजस्थान राज्य के बिकानेर जिले में स्थित है जो बहुत ही बड़ा है तथा जिसमे सौ से अधिक कमरे है। इस महल का निर्माण महाराजा गंगा सिंह ने अपने पिता महाराजा लालसिंह की याद में करवाया था।

यह पूरा का पूरा महल लाल पत्थरों से बना है जिस पर खुदाई का कार्य बड़े ही उत्कृष्ट तरीके से कर के महल की दीवारों पर बहुत ही सुंदर चित्रकारी की गई है।

30. सफदरजंग का मकबरा Safdarjung Maqbara

अपनी प्राचीन संस्कृति को अपने अंदर समेटे हुए राजनीतिक तथा ऐतिहासिक इमारतों के लिए प्रसिद्ध देश की राजधानी दिल्ली में सफदरजंग का मकबरा स्थित है।

सफदरजंग के मकबरे का निर्माण इसके पुत्र नवाब शुजाउद्दौला ने मुगल सम्राट की अनुमति के बाद सन् 1754 ई0 में करवाया था। इस मक़बरे में सफदरजंग के साथ साथ उनकी बेगम की कब्र है जो कि मुगल वास्तु कला का एक उत्कृष्ट नमूना है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.