स्कूल व कॉलेज अतिथि स्वागत भाषण School College Welcome Speech in Hindi

स्कूल व कॉलेज के लिए अतिथि स्वागत भाषण School College Welcome Speech in Hindi , Read Best speech starting lines in school in hindi

अन्य भाषण के जैसे ही स्वागत के लिए भाषण भी कई प्रकार के कार्यक्रम और समारोह के अनुसार अलग-अलग होते हैं। आज इस आर्टिकल में हमने आपको कई प्रकार के कार्यक्रम और समारोह को शुरू करने और लोगों का स्वागत करने के लिए कुछ बेहतरीन सुंदर भाषण का नमूना हिन्दी में प्रस्तुत किया हैं। यह सभी स्वागत भाषण के उदाहरण आपको अपनी परीक्षा और कई प्रकार के समारोह में मदद करेंगे।

स्वागत भाषण (वेलकम स्पीच) में एक अलग ही ज़बरदस्त ताकत होनी चाहिए जिससे सामने बैठे हुए दर्शक को सुनने में अच्छा लगे और वह आपकी बातों को ध्यान से सुनें।

स्कूल व कॉलेज अतिथि स्वागत भाषण School College Welcome Speech in Hindi

स्वर्ण जयंती दिवस पर स्कूल और कॉलेज में मुख्य अतिथि के लिए स्वागत भाषण Golden Jubilee Annual day speech sample by Principal to Chief Guest in Hindi

गुड मॉर्निंग / गुड इवनिंग / शुभ संध्या / शुभ प्रभात

आप सभी उपस्थित जनों का _________ पब्लिक स्कूल, लखनऊ की ओर से इस 50वें वार्षिक दिवस पर सहे दिल से स्वागत है।  आज हम बहुत ही खुशी के साथ अपने स्कूल का गोल्डन जुबली यह स्वर्ण जयंती मना रहे हैं। किसी भी शिक्षा संस्थान के लिए 50 वर्ष पूर्ण करना बहुत ही बड़ी बात होती है और यह एक सपने के पूरे होने के जैसे लगता है।

यह दिन हमें और प्रेरणा देता है और इसी प्रकार हमारे स्कूल को और आगे ले जाने की शक्ति भी हमें प्रदान करता है। आज वह दिन हमें याद आता है जब हमने अपने स्कूल की दीवारों को बनते देखा था और इस के प्रांगण में सुंदर छोटे पेड़ पौधे लगाए थे जो आज बहुत ऊंचे और सुंदर हो चुके हैं।

मुझे गर्व है कि मैंने एक ऐसे कार्य के चुना जिसमें मैं आने वाले समय के हमारे जिम्मेदार नागरिकों यहां बच्चों को कुछ सिखाने का मौका मिला। मैं आज उन सभी माता-पिताओं का भी अभिनंदन करना चाहता हूं और उनका शुक्रिया करना चाहता हूं जिन्होंने अपने बच्चों के साथ-साथ हमारे स्कूल के सदस्यों का समर्थन किया।

मैं यहां उपस्थित सभी लोगों की ओर से उद्घाटनकर्ता और इस सम्मेलन के अतिथि श्री _____ का सम्मान के साथ स्वागत करता हूं। हम लोगों के लिए और हमारे स्कूल के लिए यह एक सम्मान की बात है कि वह अपना महत्वपूर्ण समय निकालकर आज हमारे गोल्डन जुबली के कार्यक्रम में सम्मिलित हुए हैं। उन्होंने असाक्षरता को दूर करने के लिए कई अनमोल कदम उठाए हैं और साथ ही महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने मैं भी उनका मुख्य योगदान रहा है।

साथ ही उन्होंने कन्या शिक्षा के लिए कई अनुष्ठान और अनाथ आश्रम की भी शुरुआत की है जहां लड़कियों को मुफ्त में शिक्षा दी जाती है। तो चलिए तेज तालियों की गड़गड़ाहट के साथ हमारे अतिथि श्री_______ जी का मंच पर स्वागत करते हैं और उनके जीवन के अनुभव और अनमोल वचनों को सुनते हैं।

इसे भी पढ़ें -  रानी रुद्रमादेवी का इतिहास व कहानी Rani Rudrama Devi History Story in Hindi

धन्यवाद!!

वार्षिक खेल दिवस पर स्कूल और कॉलेज में मुख्य अतिथि के लिए स्वागत भाषण Sports Day Welcome speech in school by principal / Student in Hindi

आप सभी को गुड मॉर्निंग / गुड इवनिंग / शुभ संध्या / शुभ प्रभात

आज_______ एकेडमी की ओर से मैं आप सभी उपस्थित लोगों का इस वार्षिक खेल दिवस, वर्ष _____में आपका स्वागत करता हूं। खेल कूद हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा है जो हमें स्वास्थ्य और स्फूर्ति प्रदान करता है। स्कूलों और कॉलेजों में पढ़ाई के साथ-साथ खेल का भी होना बहुत ही आवश्यक है।

इसलिए हमारे स्कूल में विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ-साथ खेल की सुविधाएं भी दी जाती हैं। शारीरिक शिक्षा बच्चों और बड़ों सब के जीवन में आत्मविश्वास और प्रेरणा लाता है। इसीलिए प्रतिवर्ष हम अपने विद्यालय में वार्षिक खेल दिवस आयोजित करते हैं ताकि बच्चे अपने खेल के कौशल को और विकसित कर सकें।

एक और सबसे बड़ी खुशी की बात यह है कि इस वर्ष हमारे स्कूल को सबसे बेहतरीन संस्थान का दर्जा दिया गया है और हमारा प्रयास हमेशा ऐसा रहेगा जिससे यहां अनमोल दर्जा प्रतिवर्ष हमारे संस्थान को मिल पाए। मैं अपने स्कूल के अध्यापकों के साथ-साथ माता-पिताओं को भी धन्यवाद करना चाहता हूं जिन्होंने अपने बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ खेल के क्षेत्र में भी आगे बढ़ने का प्रोत्साहन दिया।

तो सम्मान के साथ स्वागत करते हैं हमारे मुख्य अतिथि, हमारे राज्य के क्रीडा मंत्री श्री________जी का जो पहले ओलंपिक में निशानेबाजी में तीन स्वर्ण पदक और दो कांस्य पदक हमारे देश के लिए जीत चुके हैं।

धन्यवाद!

वार्षिक समारोह पर स्कूल या कॉलेज में छात्र द्वारा मुख्य अतिथि के लिए स्वागत भाषण Welcome speech for annual day by student to Chief guest in Hindi

आप सभी को गुड मॉर्निंग / गुड इवनिंग / शुभ संध्या / शुभ प्रभात

माननीय अतिथि श्री_________, अध्यक्ष_________, प्रधानाचार्य महोदय_______, अध्यापकगण तथा मेरे प्रिय सहपाठियों आप सभी का हमारे स्कूल के वार्षिक समारोह उत्सव पर सहे दिल से स्वागत है।

मेरा नाम विजय कुमार है और मैं कक्षा बारहवीं का छात्र हूं और साथ ही इस सांस्कृतिक कार्यक्रम का सचिव हूँ। आज मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि आज हमारे स्कूल को 25 वर्ष पूरे हो गए हैं और आज हम सिल्वर जुबली मना रहे हैं। यह बात तो हम सभी जानते हैं कि आज हमारे स्कूल और हम लोगों के लिए कितना महत्वपूर्ण दिन है।

यह बहुत ही सम्मान की बात है कि असीम सफलताओं के साथ हमारे विद्यालय ने अपने 25 वर्ष पूर्ण कर लिए हैं। परंतु यह कोई अंत नहीं बल्कि शुरुआत की पहली सीढ़ी है जिसके बाद हमारा स्कूल और आगे बढ़ेगा। हमारे स्कूल की सफलता के पीछे हमारे स्कूल का हर एक व्यक्ति का समान हाथ है क्योंकि एकजुट हो कर काम करने पर ही सफलता मिलती है।

हमें हमेशा इसी प्रकार अपने स्कूल या संस्थान को आगे ले जाने में अपना पूर्ण योगदान देना चाहिए। अब समय हो चुका है कि हम अपने इस साहित्यिक कार्यक्रम को शुरू करें। कार्यक्रम को शुरू करने से पहले मैं हमारे माननीय मुख्य अतिथि श्री______जी को सम्मान के साथ स्टेज पर पुराना चाहता हूं ताकि वह अपने विचारों और आशीर्वाद के साथ इस उत्सव की शुरुआत करें।

धन्यवाद!

पुरस्कार वितरण समारोह पर स्वागत के लिए भाषण Welcome speech for prize award distribution in Hindi

आदरणीय श्रोताओं को सुप्रभात। मैं इस पुरस्कार वितरण समिति का अध्यक्ष होने के नाते आप सभी का हमारे इस समारोह में स्वागत करता हूं। आदरणीय श्रोताओं, आप सभी को यह बताते हुए काफी ज्यादा हर्ष हो रहा है कि इस वर्ष विजेताओं की संख्या पिछले वर्षों से कई गुना ज्यादा है। 

मैं इस पुरस्कार वितरण समारोह से पहले हर उस विद्यार्थी, जिसने इस प्रतियोगिता में भाग लिया था, उसको यह संदेश देना चाहता हूं कि तुम हारे या जीते इस बात के मायने केवल तब तक रह जाते हैं, जब तक कि तुम इन दोनों को ही समान दृष्टि से ही देखते हो। हार जाने के भी कई फायदे हैं। हार जाने से हमें सीख मिलती है, हार जाने से हमें यह जानने को मिलता है कि जीतने का रास्ता क्या है। जीतने से हमें अगले पड़ाव के लिए आत्मविश्वास मिलता है। 

इसे भी पढ़ें -  गुरु नानक देव जी की जीवनी Guru Nanak Dev Ji Biography Hindi

मेरी नज़रों में उस व्यक्ति की हार और जीत दोनों ही समान है जिसने आगे बढ़कर इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था। ऐसा इसलिए है क्यूंकि हर वह छात्र जिसने इस प्रतियोगिता में या किसी भी प्रतियोगिता में हिस्सा लिया होगा, वह छात्र एक विजेता है। वह विजेता इसलिए है क्यूंकि उसने उस कार्य को करने की कोशिश तो की।

यदि वह छात्र कोशिश ही नहीं करता तो क्या उसे कभी हार एवं जीत का अंदाजा होता। हार एवं जीत दोनों ही एक प्रकार से किसी भी इंसान से काफी कुछ देकर जाती हैं। मैं यहां बैठे लोगों को यह बताना चाहता हूं, कि मेरे नजरिए में एक हार, सौ जीतों से कई गुना बढ़ी है। क्यूंकि एक हार किसी भी इंसान को सौ जीतों का साहस देकर जाती है, बशर्ते आपका मन उस हार के प्रति उदार रहना चाहिए।

मैं हारने वाले सभी छात्रों का उतना ही सम्मान करता हूं और उनसे निवेदन करता हूं कि वे अपनी हार को हार ना मानकर, इससे सीखें। ज़िन्दगी में हजारों मौके आएंगे और आपको आपकी सकारात्मकता से इन मौकों का फायदा उठाना होगा। 

हम जिस प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण समारोह के लिए इस मंच पर इकठ्ठा हुए हैं वह एक सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता थी। इस विषय का छात्रों के जीवन में एक अपना महत्व है। ऐसा कहा जाता है कि सामान्य ज्ञान एक सागर है लेकिन आज कल एक स्कूलों के कारण छात्र इस सागर की एक बूँदा को भी प्राप्त नहीं कर पा रहे। 

किसी भी सरकारी परीक्षा की ओर यदि आप रुख करें तो आप यह पाएंगे कि वहां पर मुख्य विषय है सामान्य ज्ञान। लेकिन आज कल के स्कूलों की शिक्षा पद्धति में सामान्य ज्ञान के लिए कोई जगह नहीं है। ये स्कूल अपने ही पाठ्यक्रमों को चलाते रहते हैं एवं इन स्कूलों के छात्रों के पास ज्ञान सीमित और रटा हुआ होता है। 

लेकिन चाहे वे इन स्कूलों के बच्चे हों या उन स्कूलों के, ये बच्चे हमारे ही देश का भविष्य हैं। इन बच्चों को सामान्य ज्ञान के प्रति उत्सुक करने के लिए मेरी समिति द्वारा यह प्रतियोगिता बनाई गई थी। 

प्रतियोगिता के रूप में इस विषय को बच्चों तक पहुंचाने का कारण यह हुई था कि बच्चे प्रतियोगिता और इनाम के मोह में ही सही लेकिन इस ओर ध्यान तो देंगे। वे कम से कम यह प्रतियोगिता जीतने के लिए ही सही सामान्य ज्ञान पढ़ेंगे। सामान्य ज्ञान पढ़कर वे स्कूली शिक्षा से अलग उस शिक्षा को हासिल करेंगे जिसके वे सच में जरूरत मंद हैं। 

आदरणीय श्रोताओं मैं अब इतना कहकर अपनी वाणी को विराम देता हूँ और समारोह के अन्य सदस्यों से यह आग्रह करता हूं, कि वे इस समारोह को आगे बढ़ाएं। जीतने वाले सभी छात्रों को मेरी ओर से शाबाशी और हारने वाले सभी छात्रों को आने वाले समय के लिए शुभकामनाएं। कृपया इस या किसी भी हार को अपने जीवन की हार ना समझे क्यूंकि जीवन रहा तो जीतने के कई मौके आपको जरूर मिलेंगे।

मुझे सुनने के लिए आप सभी का धन्‍यवाद। 

फ्रेशर्स की पार्टी के स्वागत का भाषण Welcome speech for freshers party in Hindi

आदरणीय प्रधानाचार्य जी, आदरणीय अध्यापक गण एवं मेरे प्यारे साथियों। आज हम सभी यहां पर फ्रेशर्स पार्टी के लिए इकठ्ठा हुए हैं। यह एक रीति का हिस्सा है। यह रीत सदियों से चली आई है कि जब परिवार में कोई भी नया सदस्य आता है तो उसका स्वागत किया जाता है। उसका स्वागत करना, परिवार के अन्य सदस्यों का दायित्व होता है।

इसे भी पढ़ें -  जॉर्ज वाशिंगटन के 51 अनमोल कथन George Washington quotes in Hindi

आज हम सभी उसी कार्य के लिए इकठ्ठा हुए हैं। यह फर्स्ट ईयर के छात्रों की फ्रेशर्स पार्टी है। मुझे प्रबंधन समिति ने आप सभी का स्वागत करने का जिम्मा सौंपकर मुझपर जो विश्वास जताया है, मैं उसके लिए उनका आभारी हूँ और यह वादा करता हूं कि अपने संबोधन के दौरान मैं उनके जताए गए विश्वास को रत्ती भर भी नहीं टूटने दूँगा। 

साथियों, आप सभी ने हाल ही में हमारे कॉलेज को जॉइन किया है, इसलिए एक सीनियर होने के नाते मेरा फर्ज़ है कि मैं आप सब का स्वागत करूँ। यह फ्रेशर्स पार्टी आप सभी के. हमारे परिवार में जुड़ने की खुशी में रखी गई है। मुझे इस बात की बहुत खुशी है कि हमारे कॉलेज का परिवार बढ़ गया है। उस परिवार में अब आपसे युवा शामिल हो चुके हैं।

आप लोगों ने हाल ही में अपने विद्यालय छोड़े हैं और आगे की पढ़ाई के लिए हमारे विद्यालय में आए हो। मुझे ऐसा लगता है कि अपना विद्यालय छोड़ना आपके लिए एक कष्टदायक पल रहा होगा। आप सभी उस विद्यालय से भावनात्मक तौर पर जुड़ चुके होंगे पर फिर भी आपको वह विद्यालय छोड़ना पड़ा। साथियों, ऐसा मनुष्य जीवन में होता रहता है।

हमें हर चीज को कभी ना कभी, किसी ना किसी कारणवश छोड़ना ही पड़ता है। आपको अपना विद्यालय छोड़ने पर जिस पीढ़ा का अनुभव हुआ है मैं उससे भली भांति वाकिफ हूं, लेकिन यह निश्चित तौर पर कह सकता हूं कि हमारा कॉलेज में भी आपको उतना ही स्नेह मिलेगा जितना आपको अपने विद्यालय में मिला है। आपको यहां पर भी उसी प्रकार का पारिवारिक माहौल मिलेगा, और मैं और मेरे अन्य साथियों का यह प्रयास रहेगा कि आपको अपने विद्यालय की कमी महसूस न हो। 

साथियों, अगर मै हमारे कॉलेज में होने वाली पढ़ाई के स्तर की बात करूं और अध्यापकों की बात करूं, तो ऐसा कॉलेज आपको लगभग ही कहीं देखने को मिले। यहां के अध्यापक उदारता और विनम्रता की मूरत हैं और वे असल मायने में अध्यापक होने के मूल्यों को पुनः परिभाषित कर रहे हैं। यहां के अध्यापकों का आपके जीवन में काफी ज्यादा महत्व रहने वाला है। मुझे यहां के अध्यापकों से काफी कुछ सीखने को मिला है। 

मैं अगर आपको हमारे कॉलेज के बारे में बताऊँ तो शायद आप सब हैरान रह जाएं। हमारे कॉलेज में यह रिकॉर्ड है कि यहां हर छात्र को विकास करने का पूरा मौका दिया जाता है। हर छात्र यहां पर आकर अपना सर्व मुखी विकास कर सकता है। हमारे कॉलेज में लाइब्रेरी फैसिलिटी से लेकर खेल की उच्च तम से उच्चतम सुविधा मौजूद है। यहां के कई छात्रों ने राज्य स्तर तक अपने खेल का लोहा मनवाया है। यदि मैं अन्य क्षेत्रों की बात करूं तो हमारा कॉलेज संस्कृति और परम्पराओं की तरफ झुका हुआ है। 

साथियों कुल मिलाकर मुझे यह लगता है कि आपने हमारे कॉलेज का भाग बनकर हमपर जो विश्वास जताया है, मैं उसके लिए आप सभी का धन्यवाद करना चाहता हूं। यह कॉलेज अपनी दोनों बाहें खोलकर आपसे होनहार विद्यार्थियों का स्वागत करता है। मैं आप सभी से यह आशा करता हूँ कि आप हमारे कॉलेज के मूल्यों को समझेंगे और हमारे कॉलेज की प्रतिष्ठा को बढ़ाएंगे ही। 

साथियों अब मैं अपनी वाणी को विराम देता हूं। आप लोगों का मेरे विचार सुनने के लिए धन्यवाद। मैं अब अपनी जगह लेता हूँ। धन्यवाद


Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.