शिक्षा पर निबंध Essay on Education in Hindi – Saksharta Mission

शिक्षा पर निबंध Essay on Education in Hindi – Saksharta Mission in Hindi

आखिर शिक्षा हमारे जीवन में इतना महत्वपूर्ण क्यों है?
आखिर शिक्षा में ऐसा क्या है कि यह जीवन के हर क्षेत्र में काम आता है?
क्या शिक्षा के बिना कोई व्यक्ति जीवन में कभी सफल बन सकता है?

शिक्षा पर निबंध Essay on Education in Hindi – Saksharta Mission

“शिक्षा के द्वारा ही मानव मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है। अत:विश्व को एक ही इकाई मानकर शिक्षा का प्रबंधन करना चाहिए।” – डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

मानव जीवन की कुछ ऐसी आवश्यकताएं हैं जिनके बिना वह जीवित नहीं रह सकता है। उन्ही आवश्यकताओं में से एक है ‘शिक्षा’। शिक्षा हर राष्ट्र के लिए विकास और सशक्तिकरण का आधार है। शिक्षा आज की दुनिया की दैनिक गतिविधियों को समझने और इसमें भाग लेने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह एक सुदृढ़ चरित्र का निर्माण करती है।

शिक्षा से तात्पर्य पुस्तकीय ज्ञान से नहीं है, बल्कि एक ऐसी शिक्षा से है जो वास्तव में किसी मनुष्य को मानव बना सके, उसके मूल्यों की पहचान करा सके। अच्छी शिक्षा के द्वारा ही समाज में प्रेम का सन्देश, मानवता का सन्देश फैलाया जा सकता है।

नेल्सन मंडेला ने कहा है कि –

“शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है जिसका उपयोग आप दुनिया को बदलने के लिए कर सकते हैं।”

शिक्षा का यदि सही ज्ञान हो तो समाज में व्याप्त समस्याएं जैसे भ्रष्टाचार, बेरोजगारी और पर्यावरणीय समस्याएं दूर हो सकती हैं। शिक्षा से तात्पर्य केवल डिग्री ग्रहण करने से नहीं है बल्कि मानवीय पूर्ण आचरण करने से है।

एक शिक्षित व्यक्ति के संपर्क में रहने से ज्ञान का विस्तार होता है। शिक्षा राष्ट्रीय विकास प्रक्रिया को सुद्रढ़ बनाती है। शिक्षा से अच्छी राजनीतिक विचारधारा का विकास होता है। अपने नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार होता है।

शिक्षा के मूल्य और इसके महत्व को इस तथ्य से समझा जा सकता है कि जैसे ही हम पैदा होते हैं, हमारे माता-पिता हमें जीवन में एक आवश्यक चीज के बारे में शिक्षित करना शुरू कर देते हैं।

इसे भी पढ़ें -  स्वछता ही सेवा - विश्व स्वच्छता दिवस पर भाषण Speech on World Cleanup Day in Hindi

एक बच्चा नए शब्द सीखना शुरू करता है और एक शब्दावली विकसित करता है जो उसके माता-पिता उसे सिखाते हैं। वे उसे शिक्षित करते हैं कि उसके पिता, माता, भाई, बहन आदि कौन हैं और उन्हें उचित सम्मान देने वाले प्रत्येक व्यक्ति के साथ कैसे व्यवहार करना है।

वे उसे नैतिकता के बारे में अनमोल ज्ञान प्रदान करते हैं। ऐसा एक बच्चे को उसके जन्म से ही सिखाना शुरू कर देते हैं जिससे वह पूरे जीवन भर लोगों से अच्छा व्यवहार करे।

जीवन में शिक्षा क्यों जरूरी है? Why education is important in our life?

एक शिक्षित व्यक्ति वह नहीं जो कि स्कूल जाता है, कॉलेज जाता है बल्कि वह है जो समय, स्थिति और साधनों के साथ उनका सही चुनाव करता है, सही निर्णय लेता है और सदोपयोग करता है।

आज के युग में, एक अच्छी शिक्षा के महत्व के बारे में जानना बेहद जरूरी है। एक अच्छी शिक्षा केवल डिग्री प्राप्त करने के लिए स्कूल या कॉलेज जाने से नहीं होती है। बल्कि अपने जीवन में उत्तम सोच के स्तर को बढ़ाने से होती है।

यदि कोई पढ़ने या लिखने में सक्षम है, स्कूल गया है और एक डिग्री प्राप्त की है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि उसके पास पूरी शिक्षा है। यह केवल ज्ञान का एक हिस्सा है जो उसे दुनिया में क्या महत्वपूर्ण है के बारे में अवगत कराता है, और चूंकि दुनिया के अधिकांश लोग उससे एक डिग्री चाहते हैं इसीलिए लोग डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं।

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जी द्वारा शिक्षा के लिए कहे गए कुछ शब्द

“शिक्षा का मतलब कौशल और विशेषज्ञता के साथ अच्छा इंसान बनना है, शिक्षकों द्वारा प्रबुद्ध मनुष्य बनाए जा सकते है|”

1. एक अच्छी शिक्षा व्यक्ति को व्यक्तिगत, सामाजिक और आर्थिक रूप से विकसित करती है। शिक्षा हमारे दैनिक  

जीवन की गतिविधियों को सर्वोत्तम बनाने में मदद करती है। शिक्षा हमें कर्तव्यनिष्ठ बनाती है। शिक्षा हमें नए कौशल और ज्ञान प्राप्त करने में मदद करती है जो जीवन में हमारे विकास को प्रभावित करती है ।

इसे भी पढ़ें -  राष्ट्रीय गणित दिवस Essay on National Mathematics Day India in Hindi

2. शिक्षा एक व्यक्ति को सभी आवश्यक उपकरणों के सदोपयोग को बताती है कि जीवकोपार्जन कैसे किया जा सकता है। न केवल इसका ज्ञान कराती है कि एक परिवार में दैनिक आवश्यकताओं को कैसे पूरा करना है बल्कि यह भी बताती है कि जीवन – स्तर में कैसे सुधार लाया जा सकता है।

3. एक उत्तम शिक्षा प्राप्त होने से व्यक्ति को अपने अधिकारों और अपनी जिम्मेदारियों के बारे में अच्छी तरह से पता चलता है। वह जानता है कि यह उसका अधिकार है और साथ ही उसकी जिम्मेदारी है कि वह चुनाव के दौरान एक अच्छे प्रतिनिधि को वोट देने और चुनने के लिए अपनी शक्ति का इस्तेमाल करे। जिससे कि एक अच्छे राष्ट्र का निर्माण हो सके।

4. प्रतिकूल समय के दौरान, एक शिक्षित व्यक्ति को यह पता होता है कि कैसे उसे परिस्थितियों का सामना करना है।

5. एक अच्छी शिक्षा ही व्यक्ति को जीवन में अच्छे मूल्यों, नैतिकता और नैतिक जिम्मेदारियों के बारे में ज्ञान देती है।

6. शिक्षित होने के बाद, एक व्यक्ति विभिन्न सामाजिक बुराइयों से लड़ने में सक्षम होता है और ऐसी समस्याओं को समाज से हटाने के लिए सशक्त हो जाता है।

7. एक शिक्षित व्यक्ति पर्यावरण के प्रति जागरूक होता है और जानता है कि हमारे आस-पास के वातावरण को स्वच्छ और कूड़ा मुक्त रखना कितना महत्वपूर्ण है। शिक्षित अभिभावक अपने बच्चों को स्वच्छता के महत्व से अवगत कराते हैं और इस संदेश को अन्य लोगों तक भी पहुंचाते हैं।

8. यह केवल एक शिक्षित व्यक्ति ही हो सकता है जो अपने आप को दूसरों के लिए नैतिक रूप से जिम्मेदार महसूस करता है। जैसे यात्रा के दौरान स्वेच्छा से बुजुर्गों और महिलाओं के लिए अपनी सीट छोड़ देना, लोगों की मदद करना और कई ऐसे मानवीय पूर्ण कार्य करता है।

9. एक शिक्षित राजनेता जानता है कि सार्वजनिक रूप से कैसे व्यवहार किया जाए और मीडिया से सही तरीके से कैसे बात की जाए। वह यह भी जानता है कि जनता की आवश्यकताएं और महत्वाकांक्षाएं क्या हैं और उन्हें संतुष्ट करने के लिए उसे क्या करना चाहिए।

10. एक शिक्षित डॉक्टर न केवल सभी उपलब्ध साधनों का उपयोग करते हुए अपने मरीज के साथ अच्छा व्यवहार करता है, बल्कि वह उनके साथ दया और नम्रता का भाव भी रखता है और वास्तव में अपने मरीज के कल्याण के लिए सोचता है।

इसे भी पढ़ें -  बीबी का मकबरा इतिहास Bibi Ka Maqbara History in Hindi

11.एक पढ़ा-लिखा शिक्षक अपने छात्रों को प्रभावी ढंग से पढ़ाने में सफल होता है और जानता है कि समाज के समग्र विकास के लिए उसे अपने ज्ञान और शिक्षा का उपयोग कैसे करना है।

12. लोगों के शिक्षित होने से एक शिक्षित समाज का निर्माण होता है और एक शिक्षित समाज से ही उन्नत राष्ट्र बनता है।

13. एक शिक्षित व्यक्ति हर किसी का सम्मान करता है जो उससे बड़ा है और बुजुर्गों और महिलाओं के लिए एक विशेष सम्मान रखता है।

चाणक्य के अनुसार

जो माता – पिता अपने बच्चों को शिक्षा नहीं देते हैं, वो तो बच्चों के शत्रु के समान हैं, क्योंकि वे विद्याहीन बालक विद्वानों की सभा में वैसे ही तिरस्कृत किये जाते हैं जैसे की हंसों की सभा में बगुले।”

इस लेख के माध्यम से हमें ये पता चलता है कि  शिक्षा केवल सूचनाओं के आदान-प्रदान और पूर्व-निर्धारित निर्देशों के बारे में नहीं है, यह एक प्रवेश द्वार है जो हमारी रचनात्मक और कल्पनाशील क्षमताओं को खोलता है और हमारे बौद्धिक स्तर को बढ़ाता है।

जीवन को सफल बनाने हेतु एक अच्छी शिक्षा का होना अतिआवश्यक है। एक अच्छी शिक्षा जीवन के प्रति हमारे दृष्टिकोण को बदलती है और हमें अधिक आशावादी बनाती है। शिक्षा के माध्यम से प्राप्त ज्ञान का विशाल महासागर हमें तर्कसंगत और सकारात्मक तरीके से बड़ी से बड़ी समस्याओं को हल करने में मदद करता है।

शिक्षा आपकी उत्पादकता में सुधार लाती है और आपको आधुनिक तकनीक के उपयोग को सिखाती है जिससे आप अधिक स्मार्ट बनते हैं। अच्छी शिक्षा अच्छी नौकरी पाने में भी मदद करती है।

शिक्षा न केवल व्यक्तिगत स्तर पर सफलता प्राप्त करने में मदद करती है, बल्कि यह किसी देश की आर्थिक वृद्धि को भी बढाती है। यह हमें अज्ञानता के अंधेरे से बाहर लाकर बेहतर नागरिक, बेहतर समाज और एक बेहतर राष्ट्र बनाने में मदद करती है और ज्ञान के साथ हमें प्रबुद्ध करती है।

7 thoughts on “शिक्षा पर निबंध Essay on Education in Hindi – Saksharta Mission”

  1. अशिक्षित को शिक्षा दो, अज्ञानी को ज्ञान…
    शिक्षा से ही बन सकता हैं, भारत देश महान…

    कोशिशों के बावजूद हो जाती हैं कभी हार,
    होके निराश मत बैठना मन को अपने मार,
    बढ़ते रहना आगे सदा हो जैसा भी मौसम,
    पा लेती हैं मंजिल चीटियाँ भी गिर-गिर कर हर बार… yshivam singh

    Reply
  2. Bahut acha aur easy lines hai appke .Jo ke muhje bahut ache lage .I like education essay.Thank you very much.Richa Singh. Richa singh . 27 January 2003 at 2:2 Pm

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.