बच्चों के बीच अपराध निबंध Article on Crime among Children’s in Hindi

बच्चों के बीच अपराध निबंध Article on Crime among Children’s in Hindi

भारत देश में हाल के आंकड़े, 18 वर्ष से कम उम्र के युवाओं के बीच होने वाले हिंसक अपराधों में वृद्धि को दर्शाते हैं। कुछ मनोवैज्ञानिक इस बात का दावा करते हैं कि इसके लिए बुनियादी कारण यह है कि बच्चे इन दिनों सामाजिक तथा भावनात्मक ज्ञान प्राप्त नहीं कर रहे हैं, उन्हें माता-पिता और शिक्षकों की जरूरत है।

बच्चों के बीच अपराध निबंध Article on Crime among Children’s in Hindi

आजकल के दिनों में हिंसा और अपराध की घटनाएं काफी बढ़ रही है। आम आदमी के लिए बाहर एक कदम भी रखना जोख़िम हो गया है। कोई भी अपने जीवन को अगले पल के बारे में नहीं जानता है। जीवन पूर्णतः असुरक्षित है। इसका सबसे दयनीय हिस्सा देश के नए युवाओं का आरोपी होना है, जिनकी उम्र 18 वर्ष से भी कम है।

हम दैनिक समाचार पत्र में बहुत सारे अपराध की घटनाओं को देख सकते हैं, जहां पर प्रमुख आरोपी 18 वर्ष से कम उम्र का लग रहा है। जिस अपराध के साथ उन्हें टैग किया गया है। वह इतना क्रूर है, कि उन्हें मानवीय विधि के अनुसार दंडित किया जाना चाहिए।

फिर भी कानून के कमियों के माध्यम से एक बच्चा बनने या 18 साल से कम उम्र के बचाव के लिए अपना रास्ता तय कर लेते हैं। इन घटनाओं के पीछे के कारणों का ध्यान से देखा जाए तो पता चलता है कि यह निश्चित रूप से निरक्षरता, अज्ञान या इन बच्चों की गरीबी नहीं है, बल्कि यह उनके बचपन के दौरान उन्हें पालने में हुई कमियों के कारण है।

बच्चों को बचपन से ही बुनियादी भावनाओं से शिक्षा मिलनी चाहिए। उनसे अच्छाई और बुराई के गुणों की व्याख्या करनी चाहिए। बच्चे को अपने जीवन के संबंध को संभालने के लिए तथा दूसरे के दर्द और भावनाओं को महसूस करने में सक्षम होना चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  जवाहरलाल नेहरू के बारे में 30 रोचक तथ्य Interesting Jawaharlal Nehru Facts in Hindi

इन बच्चों को शारीरिक और शारीरिक परिवर्तनों के प्रति एक सभ्य और कोमल तरीके से अवगत कराया जाना चाहिए, जिससे उनकी भावनाओं को बिना दबाये होने वाले परिवर्तनों का विवरण प्रदान किया जा सके। शिशु के अतिशयता और हिंसक व्यवहार को पहले उदाहरण में नियंत्रित किया जाना चाहिए, ताकि वे जीवन के दौर में इन गुणों को न बढ़ने दें।

एक बच्चे को सामाजिक व्यवहार और बुनियादी शिष्टाचार सिखाया जाना चाहिए। यह एक सम्मानजनक जीवन का नेतृत्व करने के लिए बहुत आवश्यक हैं। एक बच्चे को समाज में उन घटनाओं के बारे में जानकारी दी जानी चाहिए, जो पीड़ित और उनके निकट अथवा प्रियजनों पर गम्भीर प्रभाव डालती है। जानकारी के ये छोटे टुकड़े धीरे-धीरे उनके मस्तिष्क को ढालते हैं और वे दूसरों की भावनाओं को समझते है और उन्हें सम्मान देते हैं।

बच्चे के विकास में माता-पिता और शिक्षकों की भूमिका बहुत अधिक महत्वपूर्ण है। माता-पिता अपने बच्चे को घर पर अपने परिवार के सदस्यों और बाहरी लोगों के साथ किये जाने वाले व्यवहार को सिखाते हैं। इसी प्रकार एक शिक्षक संस्थान के परिसर में और बाहर की दुनिया में बातचीत और बातचीत के तरीके से अच्छाई के गुण को फैलाता है।

एक बच्चा एक दर्पण की तरह है जो वही दर्शाता है जो कुछ भी उसके सामने रखा जाता है। उन बच्चों को जिन्होंने अपने कोमल उम्र में कुछ गंभीर अपराधों का सामना किया है, उन अपराधों की गहरी जड़ें उनके मन में हैं, जो अनजाने में किसी बड़े अपराध के रूप में विकसित हो जाती हैं।

साथ ही जो बच्चें अपने माता-पिता से उचित समय, प्रेम और स्नेह प्राप्त नहीं करते स्वयं को इंटरनेट या मित्रों की तरह किसी अन्य माध्यम से मोड़ देते हैं। ये जीवन एक जुआँ हैं, जहां वे जीवन के सर्वोत्तम या सबसे खराब चरण तक पहुंच सकते हैं। हम ऐसे अपराधों में अक्सर मुख्य रूप से सामाजिक-आर्थिक स्तर से मजबूत या उच्च वर्ग के बच्चें ही देखते है।

इसे भी पढ़ें -  खुद से कैसे प्यार करें ? How to Love Yourself in Hindi ?

मध्य वर्ग के बच्चे इस तरह के अपराधों में बहुत कम शामिल होते हैं क्योंकि परिवार के संबंध में लोगों की इस श्रेणी में सबसे अच्छी बात है। निचले स्तर के लोग यद्यपि अपने बच्चों को प्यार और देखभाल के साथ बड़े होते हैं।

लेकिन उनकी गतिविधियों का पता लगाने में असफल होते हैं और सामाजिक शिक्षा प्रदान करते हैं। इसके विपरीत, उच्च वर्ग के लोग सामाजिक होते हैं और अपने बच्चों को पर्याप्त समय नही दे पाते। ऐसे उच्च समाज के बच्चें ज्यादातर प्यार और देखभाल से वंचित होते हैं।

मनोवैज्ञानिक द्वारा माता पिता और शिक्षकों को ऐसे बच्चों के काम के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। यह उचित समय है, हमें अपने समाज को नष्ट होने और ऐसे बच्चों के जीवन के साथ खेलते हुए इन अपराधों को रोकने के लिए कुछ अहम कदम उठाने जरूरी है। यह तभी संभव हो सकता है जब देश के प्रत्येक नागरिक अपने नैतिक और सामाजिक कर्तव्य का पता लगा सके और अपने बच्चों के मार्गदर्शन में अहम भूमिका निभाए।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.