ग्रीष्म ऋतु पर निबंध Essay on Summer Season in Hindi

अगर आप ग्रीष्म ऋतु पर निबंध (Essay on Summer Season in Hindi) की तलाश कर रहे हैं, तो यह लेख आपके लिए है। इस लेख में गर्मी के मौसम पर निबंध बेहद ही सरल शब्दों में लिखा गया है।

इस निबंध में प्रस्तावना, ग्रीष्म ऋतु का अर्थ, खाद्य पदार्थ, गर्मी के मौसम के लाभ, प्रभाव, उपाय और 10 वाक्यों को शामिल किया गया है।

ग्रीष्म ऋतु पर निबंध Essay on Summer Season in Hindi

प्रत्येक मौसम का अपना ही एक अलग आनंद होता है। गर्मी का मौसम सामान्यतः शीत ऋतु के बाद आता है। इस समय वातावरण में तापमान में वृद्धि होती है, जिससे वातावरण में निरंतर बदलाव देखा जाता है।

इस मौसम के कारण न केवल वातावरण बल्कि यहां रहने वाले समस्त सजीव भी बड़ी मात्रा में प्रभावित होते हैं। गर्मी के मौसम में कुछ विशेष प्रकार की फसलें उगाई जाती हैं। इसके साथ ही लोग रस भरे स्वादिष्ट फल भी खाना बेहद पसंद करते हैं।

गर्मी के मौसम का सबसे ज्यादा लाभ बच्चे उठाते हैं। क्योंकि यही वह समय होता है, जब उन्हें विद्यालयों द्वारा एक लंबी छुट्टी मिलती है, जिसे गर्मियों की छुट्टी कहा जाता है।

सूरज के चिलचिलाती धूप के कारण लोगों को कहीं आने जाने में बहुत परेशानी होती है, इसीलिए दोपहर में सभी लोग बाहर जाने से बचते हैं। कड़कती धूप से बचने के लिए अक्सर लोग अपने साथ छाता जरूर रखते हैं।

ग्रीष्म ऋतु किसे कहते हैं? What Is the Summer Season in Hindi?

भारत में मुख्यतः 6 ऋतुओं का आगमन होता है। इनमें ग्रीष्म ऋतु, शीत ऋतु और वर्षा ऋतु मुख्य ऋतुएं होती हैं। इनके अलावा हेमंत, वसंत और शिशिर ऋतु का आगमन भी एक निश्चित समय अंतराल के लिए होता है।

पृथ्वी 365 दिन में सूर्य का एक चक्कर लगाती है। इसी दौरान में पृथ्वी पर ऋतुओं का आगमन होता है। यह सभी ऋतुएं आमतौर पर दो 2 महीने के लिए होती हैं।

और पढ़ें -  गरम दल का इतिहास History of Garam Dal in Hindi

गर्मी के मौसम को ग्रीष्म ऋतु कहा जाता है। पृथ्वी का जो गोलार्ध परिक्रमण के समय सूर्य के सामने होता है, यहां इतनी ही भयंकर गर्मी होती है। और जैसे-जैसे यह गोलार्ध पृथ्वी के विपरीत दिशा में होता है, तो यहां शीत ऋतु का आगमन होता है।

आमतौर पर गर्मी का मौसम दिसंबर महीने से लेकर फरवरी महीने तक होता है। इस मौसम में दिन बड़ा तथा रात छोटी हो जाती है।

गर्मी के मौसम में खाद्य पदार्थ Summer Food in Hindi

गर्मी के मौसम में लोग विभिन्न प्रकार के ठंडे फलों को खाना पसंद करते हैं, जिससे कि गर्मियों में शरीर ठंडा रह सके।

कड़कती धूप के कारण लोगो में पानी की कमी होने लगती है, इसे डिहाईड्रेशन कहा जाता है। इससे बचने के लिए लोग तरह-तरह के तरल खाद्य पदार्थ को खाते हैं।

लीची, पपीता, तरबूज, आम, जामुन, केला इत्यादि फलों में पानी की अच्छी खासी मात्रा होती है, जो शरीर को ठंडा रखने और उर्जा प्रदान करती है। 

इसके अलावा नींबू, गन्ने, नारियल पानी, और अन्य दूसरे फलों के रस के सेवन से शरीर में ताजगी आती है। इसीलिए लोग कहीं बाहर आने जाने के बाद इन पदार्थों को पीना पसंद करते हैं।

बड़े-बड़े डॉक्टर गर्मियों के दिनों में अधिक पानी पीने की सलाह देते हैं, क्योंकि इससे शरीर संतुलित रहता है।

गर्मी के मौसम के लाभ Benefits of Summer Season in Hindi

प्रकृति द्वारा रचित हर एक चीज पृथ्वी की शोभा बढ़ाती है। ऋतुएं हमारे लिए किसी वरदान से कम नहीं है, क्योंकि एक ही स्थान पर रहकर विभिन्न परिस्थितियों और वातावरण का आनंद प्राप्त हो जाता है।

मौसम के साथ ही हमारा शरीर भी वातावरण के अनुकूल बन जाता है। ठंडी चीजें खाने का आनंद सिर्फ और सिर्फ गर्मी के मौसम में ही लिया जा सकता है।

ठंडी कुल्फी, शरबत और आइसक्रीम इत्यादि का स्वाद गर्मी के मौसम में लेने का मजा ही कुछ और है।

ऐसे कई सारे स्वादिष्ट फल होते हैं, जिन्हें केवल गर्मी के मौसम में ही उगाया जा सकता है। आम, लीची, तरबूज, ककड़ी इत्यादि जैसे रसीले फल गर्मियों के मौसम में ही प्राप्त होते हैं।

और पढ़ें -  जीवन में खुशियाँ कैसे ढूँढें? Finding own Happiness in the Happiness of others in Hindi

शैक्षणिक संस्थानों में बच्चों को गर्मियों के मौसम में एक लंबी छुट्टी दी जाती है। असल में देखा जाए तो गर्मियों का सबसे ज्यादा आनंद बच्चे ही उठाते हैं। गर्मियों की छुट्टी में ही लोगों को दूसरे पर्यटन स्थानों पर घूमने का अवसर और समय मिल पाता है।

वातावरण पर गर्मी का प्रभाव Effect of Heat on the Atmosphere in Hindi

जिस प्रकार प्रत्येक सिक्के के दो पहलू होते हैं, उसी तरह अगर किसी वरदान का अतिक्रमण किया जाए तो वह अभिशाप बन जाती है।

कई सालों पहले जब किसी टेक्नालॉजी का अधिक विकास नहीं हुआ था, तो प्रत्येक मौसम का अनुभव करना लोगों को अच्छा लगता था और इससे वातावरण पर कोई विपरीत प्रभाव भी नहीं पड़ता था।

लेकिन जिस प्रकार तेजी से विज्ञान के नाम पर प्रकृति के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है, भविष्य में यह सजीवों के अस्तित्व पर सवाल उठा सकते हैं।

आज के समय में तेजी से पेड़-पौधों की कटाई की जा रही है और हरे-भरे घने जंगलों को उजाड़ा जा रहा है। परिणाम स्वरूप हर रोज एक नई आपदा साफ देखी जा सकती है। ग्लोबल वार्मिंग ग्रीन, हाउस इफेक्ट, घर्षण के कारण जंगलों में आग लगना, अकाल इत्यादि जैसी आपातकाल स्थितियां पैदा हो रही हैं।

वायुमंडल में ओजोन की परत जो हमें सूर्य के जला देने वाली किरणों से बचाती है, वह दिन-ब-दिन घटती जा रही है।

इन सभी कारणों से ऋतु चक्र बिगड़ गया है। ठंडी के मौसम में गर्मी तथा गर्मी के मौसम में वर्षा के कारण ऋतुएं अब पर्यावरण पर विपरीत प्रभाव डाल रही हैं।

गर्मी से बचने के लिए लोग सैकड़ों की संख्या में दूसरे स्थान पर पलायन करते हैं। तथा जो लोग दूसरे स्थान पर नहीं जा पाते, वे भीषण गर्मी की चपेट में आकर प्राण त्याग देते हैं। कड़कती धूप के कारण पशु पक्षी अपनी जान गवा बैठतें हैं।

दूसरे स्थान पर सबसे ज्यादा आबादी वाले देश भारत में हर मौसम का आगमन होता है। लेकिन आज के समय में हर साल गर्मी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है, इससे देश के कई जगहों पर सूखे जैसे हालात पैदा हो गए हैं।

गर्मी से बचने के उपाय Ways to Avoid Heat in Summer

ऋतुओं के दुष्प्रभाव को टाला तो नहीं जा सकता, किंतु इससे बचा जरूर जा सकता है। गर्मी से बचने के कुछ उपाय निम्नलिखित दिए गए हैं-

  • गर्मी के मौसम में लू जैसी गर्म हवा से बचने के लिए अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए।
  • पानी की कमी को दूर करने के लिए ठंडे और रसीले फलों का सेवन करना चाहिए, जिससे शरीर ठंडा रहता है।
  • दोपहर के समय यह कोशिश करनी चाहिए कि आवश्यकता पड़ने पर ही घर से बाहर निकला जाए।
  • पशु पक्षियों के लिए घर के बाहर किसी पात्र में दाना और पानी जरूर रखना चाहिए।
  • अनावश्यक बिजली और पानी की बर्बादी नहीं करना चाहिए।
  • कड़कती धूप से बचने के लिए एक छाता रखना चाहिए अथवा घर से बाहर निकलते समय सिर को किसी वस्त्र से ढक लेना चाहिए।
  • गर्मी के मौसम में यदि घर के सामने कोई फेरी वाला अथवा अन्य विक्रेता दिखे तो उसे पानी के लिए पूछना चाहिए।
  • गर्मी के मौसम में आरामदायक पतला और सूती कपड़ा पहनना चाहिए।
  • पर्यटन करने का अवसर मिलने पर किसी ठंडे और पहाड़ी क्षेत्रों में जाना चाहिए।
और पढ़ें -  काबुलीवाला कहानी - रबीन्द्रनाथ टैगोर Kabuliwala Story by Rabindranath Tagore in Hindi

गर्मी के मौसम पर 10 वाक्य Few Lines on Summer Season in Hindi

  1. गर्मी के मौसम को ग्रीष्म ऋतु कहा जाता है।
  2. ग्रीष्म ऋतु में रसीले और स्वादिष्ट फलों का अधिक  सेवन किया जाता है।
  3. विभिन्न प्रकार के प्रदूषण के कारण वातावरण पर ऋतुओं का विपरीत प्रभाव पड़ता है।
  4. अनिश्चित तापमान के कारण हर वर्ष गर्मी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है।
  5. लिबिया देश में आज तक सबसे उच्चतम तापमान रिकॉर्ड किया गया है।
  6. अन्य स्थानों के मुकाबला रेगिस्तान वाले इलाकों में अधिक गर्मी पड़ती है।
  7. भारत के राजस्थान में अन्य राज्यों से ज्यादा गर्मी पड़ती है।
  8. इथियोपिया का “डानकील डिप्रैशन” दुनिया में सबसे गर्म जगह माना जाता है।
  9. हर वर्ष भीषण गर्मी के कारण सैकड़ों लोग अपने निवास स्थान से पलायन करते हैं।
  10. गर्मी के मौसम में बढ़ते तापमान के कारण मृत्यु दर में बढ़ोतरी देखी जाती है।

निष्कर्ष

इस लेख में हमने हिंदी में ग्रीष्म ऋतु पर निबंध Essay on Summer Season in Hindi पढ़ा। आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.