Home Indian Festival in Hindi लोहड़ी त्यौहार पर निबंध Lohri Essay in Hindi
Loading...

लोहड़ी त्यौहार पर निबंध Lohri Essay in Hindi

4
लोहड़ी त्यौहार पर निबंध Lohri Essay in Hindi

लोहड़ी त्यौहार पर निबंध Lohri Essay in hindi

लोहड़ी पंजाब राज्य का का प्रसिद्ध त्यौहार है, जो पंजाब के साथ साथ उसके पास के राज्यों में भी धूम-धाम से मनाया जाता है। पंजाब के लोगों के लिए यह त्यौहार बहुत ही महत्वपूर्ण होता है और हर जगह हर्ष और उल्लास से भरा होता है।

लोहड़ी त्यौहार पर निबंध Lohri Essay in Hindi

Lohri festival, को Sindhi लोग लाल लोई Lal Loi के नाम से मनाते हैं। भारत में यह कुछ उत्तरी राज्यों जैसे हरयाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश में भी धूम धाम से मनाया जाता है परन्तु पंजाब में इसको सबसे ज्यादा मान्यता दिया जाता है।

लोहड़ी त्यौहार का महत्व Significance of Lohri Festival in Hindi

Lohri लोहड़ी सर्दियों के मौसम का अंत दर्शाता है। इसलिए यह एक मौसमी त्यौहार है जो शीत ऋतू के जाने पर मकर संक्रांति के समय मनाया जाता है। यह किसानों के लिए भी एक महत्वपूर्ण त्यौहार और दिन होता है।

लोहड़ी से जुदा है दुल्ला भट्टी की महान कथा Legend of Dulla Bhatti

Lohri लोहड़ी का त्यौहार मनाने वाले और इससे जुड़े हुए लोगों लोहड़ी के त्यौहार को दुल्ला भट्टी की लोक कथा से भी जोड़ते हैं। यह विश्वास किया जाता है कि अकबर के काल में पिंडी भटियन का एक राजा था दुल्ला भट्टी Dulla Bhatti वह एक लुटेरा था पर उसने बहुत सारी लड़कियों को गुलाम बाज़ार या दास बाज़ार से अपहरण किये हुए लोगों से बचाया था जो की एक महान बात थी।

यह भी पढ़े -   2016 क्रिसमस पर निबंध Merry Christmas Wishes HD Images Essay Facts

इसके कारण लोहड़ी के त्यौहार में लोग दुल्ला भट्टी पर आभार व्यक्त करते हैं और उनका नाम पंजाब की लोक कथाओं में व्यापक रूप से वर्णित है। ज्यादातर लोहड़ी के गीत दुल्ला भट्टी के अच्छे कर्मों में आधारित है।

Loading...

लोहड़ी पारंपरिक गीत Lohri Traditional Song

सुंदर मुंदरिये, होए Sunder mundariye, Hoye
तेरा की विचारा, होए Tera ki vichara, Hoye
दुल्ला भट्टी वाला, होए Dulla bhatti vala, Hoye
दुल्ले दी धी वियाई, होए Dulle di dhi viyai, Hoy!
सेर शकर पाई, होए Ser shaker pai, Hoye

लोहड़ी का उत्सव Celebration of Lohri

Lohri लोहड़ी का त्यौहार खासकर प्रतिवर्ष जनवरी 13 को मनाया जाता है। यह त्यौहार मकर संक्रांति Makar Sankranti से एक दिन पहले मनाया जाता है।

Lohri 2017 Date – 13th January 2017 (Celebrated in Punjab, Haryana, Delhi, parts of Himachal Pradesh)

इस दिन पारंपरिक गीतों और शानदार नृत्यों के साथ-साथ बेहेतरीन दावत भी दिए जाते हैं। इस त्यौहार को खुशियों का त्यौहार मन जाता है जिसमें सभी दुखों को भुला कर ख़ुशी और प्रेम की नयी शुरुवात होती है। इस त्यौहार की शुरुवात अग्नि की पूजा करके की जाती है।

यह त्यौहार के दिन तरह-तरह के अनाज जैसे तिल की मिठाई, पॉपकॉर्न, मूंगफल्ली, और मुरमुरे को अग्नि में भेट चढ़ाया जाता है। साथ ही उस अग्नि के चारों और प्रार्थना करते हुए सभी लोग इन अनाज को अग्नि में फैंक कर भेंट करते हैं।

पूजा के बाद सभी लोगों को प्रसाद में खासकर गुड, गज़क और रेवड़ी दी जाती है। किसी भी नवजात शिशु या नव विवाहित लोगों के लिए यह दिन बहुत ही मायने रखता है। वे इस दिन को बहुत ही अच्छे और पूजा के साथ इस दिन को मनाते हैं।

इस दिन एक मुख्य भोजन मक्के की रोटी या बाजरे की रोटी, सरसों के साग के साथ ना होने से जैसे यह त्यौहार अधुरा सा होता है।

यह भी पढ़े -   2017 होली त्यौहार पर निबंध Essay on Holi Festival in Hindi

Image Source – Flickr

Loading...
Load More Related Articles

4 Comments

  1. Aromal

    January 11, 2017 at 10:29 am

    thanu sareyan nu lohri di bhut bhut vdai hove..!

    Reply

  2. Ashish Kaur

    January 12, 2017 at 8:32 pm

    Wish u all a very Happy Lohri 🙂

    Reply

  3. satpal

    January 13, 2017 at 4:11 am

    Saria nu lohri dea lak lak vedia hon thuanu ate thuide family nu……happy lohri…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

नुआखाई त्यौहार पर निबंध Nuakhai festival of Odisha Essay in Hindi (ନୂଆଖାଇ)

नुआखाई त्यौहार पर निबंध Nuakhai festival of Odisha Essay in Hindi (ନୂଆଖାଇ) क्या आप नुआखाई …