मेरा शौक – रूचि पर निबंध Essay on My Hobby in Hindi

मेरा शौक – रूचि पर निबंध Essay on My Hobby in Hindi – Reading

लोगों के शौक कई तरह के होते है जैसे – बागवानी, फोटोग्राफी, मछली पकड़ना, चित्रकला, उड़ान पतंग, मूर्तिकला, कढ़ाई, बुनाई, खाना बनाना, शूटिंग करना, किताबें पढ़ना, टेलीविजन देखना, संगीत सुनना, संगीत वाद्ययंत्र बजाना, पक्षी-देखना, टिकट संग्रह, पुराने सिक्के का संग्रह इत्यादि हैं। वर्तमान समय में लोगों के सबसे पसंदीदा शौक है इसमें से शायद पतंग उडाना, बागवानी, फोटोग्राफी, स्टाम्प संग्रह और पढ़ना सबसे लोकप्रिय शौक हैं।

मेरा शौक / रूचि पर निबंध Essay on My Hobby in Hindi

मेरा शौक पढ़ना है। मैंने कहानी किताबें, पत्रिकाएं, समाचार पत्र और किसी भी तरह की सामग्री को पढ़ा जो मुझे दिलचस्प लगता है। पुस्तकें पाठक को उसके जीवन में कई सारी जानकारी और तथ्यों को प्रदान करती हैं। किताबों ने निश्चित रूप से मेरे जीवन में मेरी काफी मदद की है।

मैं आज हर परेशानी का हल सामान्य तरीके से खोज सकता हूँ। अन्यथा मैं पहले अजीब तरीके से चीजों को सीखने के बारे में सोचता था। असल में यह एक गतिविधि है जिसे हम अपने खाली समय में करते हैं। यह पसंदीदा व्यवसाय है।

यह शौक तब शुरू हुआ जब मैं छोटा लड़का था। मैं हमेशा चाहता था कि मेरे माता-पिता परी कथाओं और अन्य कहानियों को मेरे पास बैठकर पढ़े और मुझे सुनायें। कुछ दिनों में मुझे कहानियां पढ़कर सुना-सुना कर मेरे घर वाले परेशान हो गये तब उन्होंने मुझे खुद अपने आप पढ़ने के लिये प्रेरित किया।

तो मैंने पढ़ने की कोशिश करना शुरू कर दिया, मैंने पढ़ना सीखा। सबसे पहले मैंने सरल भाषा ए बी सी की किताबों के साथ शुरुआत की। जल्द ही मैं सरल परी कथाओं और अन्य कहानियों को पढ़ने में सक्षम होने लगा। अब मैं कोई भी उपलब्ध किताबें, अखबार आदि को आसानी से पढ़ सकता हूं।

पढ़ने से मुझे नई-नई चीजों के बारे में जानकारी मिलती है जिनका ज्ञान मैं बिना पढ़े नहीं ले सकता हूँ। मैंने इस बारे में सीखा कि प्राचीनकाल में लोग कैसे जादू और रहस्य की दुनियां में रहते थे। मैंने दुनिया के चमत्कार, अंतरिक्ष यात्रा, मानव उपलब्धियों, विशाल व्हेल, छोटे वायरस और हमारी दुनिया की अन्य आकर्षक चीजों के बारे में पढ़ा।

और पढ़ें -  ध्वनि प्रदूषण पर निबंध स्रोत, कारण, प्रभाव, नियंत्रण Essay on Noise Pollution in Hindi

पढ़ने के बारे में अद्भुत बात यह है कि मुझे कोई भी बीमारी को पकड़ना है तो अब मैं इन चीजों को कठिन तरीके से नहीं लेता हूँ। उदाहरण के लिये मुझे किसी भी बिमारी के खतरे पता है कि किस चीज से मुझे नुकसान हो सकता है। इसलिए मैं इससे बच सकता हूं। बाघ के बारे में जानने के लिए मुझे जंगल की गहराई में नहीं जाना है। मैं इसके बारे में एक किताब में सब कुछ पढ़ सकता हूँ।

मैं जब स्कूल से घर जाता हूँ, तो सबसे पहले मैं अपना गृहकार्य पूरा करता हूँ उसके बाद मैं कुछ अलग विषयों से संबंधित किताबों को पढ़ना पसंद करता हूँ। मैं अभी 15 वर्ष का हूँ और कक्षा 10 में हूँ और  मैं यह बहुत अच्छी तरह से जानता हूँ, कि किताबों को पढ़ने की आदत हमारे ज्ञान को बढाती है, जो कि हमारे ज्ञान को पूर्ण बनाती है।

हालांकि, मुझे यह प्राकृतिक रुप से उपहार में मिला है। किताबों को पढ़ने से इंसान व्यस्त रहता है। यह आनंद, सूचना, ज्ञान, प्रोत्साहन का अच्छा स्रोत है। ज्ञान हमें न्यायप्रिय, अनुशासित, विश्वसनीय, समय का पाबंद बनता है और इससे भी अधिक महत्वपूर्ण बात यह एक हमें एक सफल और सम्पूर्ण व्यक्ति बनाता है।

कहते है पढ़ाई की कोई उम्र नहीं होती है और हम किसी भी उम्र में इसका शौक पूरा कर सकते है। ज्ञान, खुशी और एक नैतिक साहस का स्रोत भी होता है। पुराने दिनों में अगर खेती की पढाई को प्रोत्साहित नहीं किया गया होता तो आज हमारा देश कृषि के मामले में बहुत पीछे होता।

मैंने पढ़कर और भी कई सारी जानकारियाँ गृहण की है जैसे मैंने प्रकृति के बारे में जाना कि पौधे किस तरह अपनी प्रगृति करते है, किस तरह सांस लेते है और छोड़ते है। मेरी पढ़ने की आदत से मैंने कई एतिहासिक घटनाओं के बारे में जानकारी ली है कि पुराने समय के राजा किस तरह का जीवन व्यतीत करते थे, वे किस तरह अपनी सेना की देखभाल करते थे। वे किस प्रकार के औजारों का प्रयोग करते थे।  

और पढ़ें -  अगर में देश का प्रधानमंत्री होता - निबंध Essay If I were the Prime Minister in Hindi

मेरा यह मानना है कि, पढ़ने की आदत संसार में सोने के मूल्य से भी बढ़कर कीमती है। किताबों के पढ़ने से कोई भी व्यक्ति अकेला महसूस नहीं कर सकता। यह हमें अलग-अलग क्षेत्रों में काम करने के लिये उच्च स्तर का ज्ञान, अच्छी सोच, आदर्श विचार आदि प्रदान करती है।

जो लोग किताबें पढ़ने के शौक रखते हैं, उनके लिये अच्छी किताबें उनके एक अच्छे मित्र की तरह होती है। जिसके पास यह आदत नहीं है, चाहे उसके पास कोई भी मूल्यवान वस्तुयें और धन कितना ही हो, फिर भी वह ज्ञान के बिना गरीब के समान होता है। किताब पढ़ने से हमारा मन प्रसन्न और ज्ञान की प्राप्ति होती है।

मेरा मानना है कि एक व्यक्ति जो व्यापक रूप से पढ़ता है वह दूसरों के साथ जल्दी घुल मिल जाता है। वह अन्य लोगों की तुलना में बेहतर बातचीतवादी होता है। पढ़ने से हमारा दिमाग तेज़ होता है। बेकन ने अपने निबंध में लिखा था, “पढ़ना”, ‘अध्ययन’, “एक पूर्ण आदमी बनाता है: इस प्रकार एक व्यापक रूप से पढ़ा हुआ व्यक्ति एक बेहतर वार्तालापवादी है और दूसरे के दृष्टिकोण को देखने में सक्षम होता है।

मेरे शौक ने मुझे प्रशंसा और सामाजिक मान्यता का एक अच्छा प्रतीक बना दिया है। स्कूल में जहां मैं पढ़ता हूं, मुझे एक उभरते छात्र के रूप में पहचाना जाता है। कई अवसरों पर, मुझे कुछ भाषण देने के रूप में उत्कृष्टता के लिये पुरस्कार दिया गया है।

जब मेरे दोस्त और रिश्तेदार मेरे घर जाते हैं तो वे सभी मेरी नई-नई किताबों के संग्रह को देखना पसंद करते हैं। मैं पढ़ना जारी रखकर दुनिया के बारे में अधिक जानकारी के अलावा, मैं अपना समय लाभदायक रूप से खर्च करता हूं। यह वास्तव में एक अच्छा शौक है।

1 thought on “मेरा शौक – रूचि पर निबंध Essay on My Hobby in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.