कैरियर काउंसलिंग क्यों आवश्यक है? Why Career Guidance is Important in Hindi

इस लेख में हम आपको बच्चों और विद्यार्थियों के लिए करियर काउंसलिंग क्यों आवश्यक है? Why Career Guidance is important in Hindi for children and student से जुडी सभी जानकारी विस्तार से देंगे ।

बच्चों और विद्यार्थियों के लिए करियर काउंसलिंग क्यों आवश्यक है? Why Career Guidance is important in Hindi for children and student

करियर काउंसलिंग (छात्र मार्गदर्शन) आज के समय में बहुत उपयोगी हो गई है। 10वीं करते समय बहुत से स्टूडेंट कन्फ्यूज होते हैं। वह समझ नहीं पाते कि भविष्य में किस विषय की पढ़ाई करें। आर्ट्स विषयों से पढ़े या विज्ञान विषयों से।

कॉमर्स विषय से अध्ययन करें या कोई विशेष ट्रेनिंग, डिग्री, डिप्लोमा करें। बहुत बार देखा गया है कि मां बाप अपनी इच्छाओं को बच्चों पर थोपते हैं। वे बच्चों को कुछ और बनाना चाहते हैं जबकि बच्चे कुछ और बनना चाहते है। इन सारी चीजों को लेकर एक भारी कंफ्यूजन की स्थिति बन जाती है।

इस कंफ्यूजन को दूर करने के लिए करियर काउंसलिंग आजकल होने लगी है जिसमें छात्रों की रूचि और योग्यता के अनुसार काउंसलर उन्हें सही कोर्स के बारे में बताता है। यह भी बताता है कि कौन सा कोर्स किस बच्चे के लिए अच्छा होगा

करियर काउंसलिंग का महत्व Importance of Career Counseling in Hindi

सही स्ट्रीम चुनने का मौका मिलता है

काउंसलिंग कराने का सबसे अच्छा फायदा है कि बच्चों के लिए कौन सी स्ट्रीम सही है यह पता चलता है। 10वीं, 12वीं स्नातक और परस्नातक में सही कोर्स चुनने का मौका मिलता है। आपके बच्चे को आर्ट्स, साइंस या कामर्स से पढ़ना चाहिए इसकी जानकारी होती है। ध्यान देने वाली बात है कि बच्चों की रुचि के अनुसार ही उनकी पढ़ाई होनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  दोपहर की शायरी हिंदी में Good Afternoon Shayari, SMS, WhatsApp status in Hindi

सही स्ट्रीम का चुनाव होना बहुत आवश्यक है। बहुत से बच्चे गलत स्ट्रीम चुन लेते हैं जो उनकी रुचि से मेल नहीं खाती है। और वह पढ़ाई में अच्छा परफारमेंस नहीं कर पाते हैं। इसका नतीजा होता है कि उनके कम नंबर आते हैं और भविष्य में उन्हें नौकरी पाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

अभिभावक बच्चों की रुचि को समझ पाते हैं

कई अभिभावक बच्चों की रुचि को नहीं समझना चाहते हैं। वे अपनी इच्छा अनुसार बच्चे को पढ़ाना चाहते है। कुछ अभिभावक तो बच्चों के जन्म पर ही सोच लेते हैं कि बच्चों को इंजीनियर, डॉक्टर, टीचर, वैज्ञानिक बनाएंगे। यह सोच सही नहीं है।

बच्चों को पढ़ने का अवसर उनकी रूचि के अनुसार मिलना चाहिए। जिस विषय में उनकी रुचि हो वही विषय उन्हें दिलाने चाहिए। काउंसलिंग के दौरान काउंसलर बच्चे से अच्छी तरह पूछते हैं कि किन विषयों में उसकी रूचि है। कुछ टेस्ट करके भी यह पता लगाया जा सकता है कि किस विषय में बच्चे की रूचि है।

बेहतर तरह से भविष्य की तैयारी

करियर काउंसलिंग का सबसे बड़ा फायदा है कि आप बच्चे के बेहतर भविष्य की तैयारी कर सकते हैं। हर अभिभावक का सपना होता है कि उसका बच्चा आगे चलकर बड़ा अफसर, अधिकारी बने। उसे अच्छी नौकरी मिले। वह ढेर सारे पैसे कमाए और उसका जीवन खुशियों से भर जाये। पर यह सब इतना आसान नहीं है।

यदि आपका बच्चा कोई गलत कोर्स कर रहा है जो उसकी योग्यताओं से मेल नहीं खाता है तो वह आगे चलकर अच्छी नौकरी नहीं पा सकेगा। यह बहुत जरूरी है कि बच्चे को उसकी योग्यता के अनुसार पढ़ाई करवाई जाए।

उदाहरण के लिए यदि बच्चे को कंप्यूटर में इंटरेस्ट है तो उसे कंप्यूटर से संबंधित कोर्स जैसे- बीटेक इन कंप्यूटर साइंस, बीसीए (BCA), एमसीए (MCA) करवाया जा सकता है।

बहुत सारे कोर्सेज में से सही कोर्स का चुनाव करना

करियर काउंसलिंग का सबसे अच्छा फायदा यह है कि यह आपको दुविधा और कंफ्यूजन से बचाता है। आजकल एमबीए, होटल, मैनेजमेंट, बीटेक, मेडिकल, बी ऐड, डीएलएड, आईटीआई, पॉलिटेक्निक जैसे सैकड़ों कोर्स उपलब्ध है। पर इन में से सही का चुनाव करना कठिन है। इसलिए काउंसलर की मदद ली जाती है।

इसे भी पढ़ें -  एयर होस्टेस कैसे बने? How to Become an Air Hostess in Hindi - Qualification, Course, Jobs, Salary Details

गला काट कंपटीशन का आसानी से सामना करना

यह बात तो आप भी जानते होंगे कि आज देश में नौकरियां कम निकलती हैं परंतु आवेदन करने वाले लाखों-करोड़ों की संख्या में होते हैं। आजकल देश में गला काट कंपटीशन हो गया है। ऐसे में सरकारी नौकरी पाना आसान नहीं होता। किसी भी छोटी नौकरी के लिए स्नातक से लेकर बी टेक जैसे उच्च शिक्षाधारी अभ्यर्थी भी आवेदन करते हैं।

ऐसे में कंपटीशन बहुत बढ़ जाता है। यदि आपका बच्चा सही स्ट्रीम कोर्स का चुनाव करता है तो वह कंपटीशन आसानी से निकाल लेगा। पर यह तभी संभव है जब उसे उसकी रुचि के अनुसार पढ़ने का मौका मिले।

मार्केट ट्रेंड की जानकारी 

काउंसलिंग का बड़ा फायदा यह भी है कि इससे मार्केट ट्रेंड की जानकारी मिलती है। कई स्टूडेंट ऐसे कोर्स कर लेते हैं जिसे करने के बाद भी कोई नौकरी नहीं मिलती। स्टूडेंट इधर उधर भटकते रहते हैं।

अपने पैसे भी वो खर्च कर देते हैं। उसके बावजूद भी कोई फायदा नहीं होता। काउंसलर आपके बच्चे को ऐसा कोर्स करने की सलाह देते हैं जिसे करने पर फायदा हो। वे उस कोर्स को करने से मना करते हैं जिसे करने से कोई लाभ नहीं है।

मनोवैज्ञानिक समस्याओं का समाधान

करियर काउंसलिंग का एक बड़ा फायदा यह है कि बच्चों और छात्रों की मनोवैज्ञानिक संबंधी समस्याओं का समाधान होता है। पढ़ाई करते वक्त बच्चे कई बार मनोवैज्ञानिक समस्याओं से ग्रस्त हो जाते हैं। आईआईटी जैसे बड़े संस्थानों में बच्चे तनाव, अवसाद और डिप्रेशन में आकर आत्महत्या कर लेते हैं।

काउंसलिंग के दौरान बच्चों को इस तरह की समस्याओं का सामना करने की विधि बताई जाती है। उन्हें सही तरह से गाइडेंस दिया जाता है।

स्टूडेंट्स की सभी समस्याओं का समाधान

बहुत से बच्चे पढ़ाई करते हुए शराब, नशीले पदार्थों का सेवन, प्यार, यौन शोषण जैसी समस्याओं से ग्रसित हो जाते हैं। करियर काउंसलिंग के दौरान काउंसलर बच्चों से हर तरह की समस्याओं पर खुल के बात करते हैं और समस्या का समाधान प्रस्तुत करते हैं।

इसे भी पढ़ें -  SSC MTS Exam की तैयारी कैसे करें? पाठ्यक्रम, आवेदन, परीक्षा, की पूरी जानकारी

बच्चों की छिपी प्रतिभा को निखारने में मदद मिलती है

हर बच्चे के अंदर कुछ योग्यताएं होती हैं। पर कई बार वे छिपी हुई होती हैं। करियर काउंसलिंग के द्वारा बच्चे के अंदर छिपी हुई योग्यताओं को निखारने में मदद मिलती है। उदाहरण के लिए बहुत से बच्चे बड़े होकर प्रशासनिक अधिकारी (सिविल सर्विसेज) बनना चाहते हैं, पर शुरू में उन्हें स्पष्ट रूप से कुछ समझ नहीं आता है। काउंसलिंग के द्वारा उनकी छिपी योग्यताओं का पता चलता है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.