विनोबा भावे का जीवन परिचय व सुविचार Vinoba Bhave Biography in Hindi

विनोबा भावे का जीवन परिचय व सुविचार Vinoba Bhave Biography in Hindi

विनायक नरहारी विनोबा भावे, अहिंसा और मानवाधिकारों के एक भारतीय वकील थे। उन्हें विनोबा भावे के नाम से ज्यादातर लोग जानते हैं। उन्हें आचार्य (संस्कृत के शिक्षक) कहा जाता है, वह भूदान आंदोलन के लिए सबसे ज्यादा जाने जाते है, उन्हें भारत के राष्ट्रीय शिक्षक और महात्मा गांधी के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी के रूप में भी जाना जाता है। वह सत्याग्रह के लिये चुने जाने वाले पहले व्यक्ति थे।

विनोबा भावे का जीवन परिचय व सुविचार Vinoba Bhave Biography in Hindi

प्रारंभिक जीवन Early Life

‘आचार्य विनोबा भावे’ का जन्म महाराष्ट्र के कोलाबा में 11 सितंबर, 1895 को हुआ था। उनका असली नाम विनायक राव भावे था। उनके पिता का नाम नरहारी शंभू राव था। उनकी मां का नाम रुक्मणि देवी था। 

वह एक उच्च जाति ब्राह्मण परिवार में पैदा हुये थे, उन्होंने अहमदाबाद के पास साबरमती में गांधी के आश्रम (तपस्वी समुदाय) में शामिल होने के लिए 1916 में अपने हाईस्कूल अध्ययनों को त्याग दिया। गांधी की शिक्षाओं ने भावे को भारतीय गांव के जीवन में सुधार के लिए समर्पित तपस्या के जीवन का नेतृत्व किया।

1920 और 30 के दशक के दौरान भावे को कई बार ब्रिटिश हुकूमत द्वारा जेल हुई थी और ब्रिटिश शासन के लिए अहिंसक प्रतिरोध के लिए 40 के दशक में पांच साल की जेल की सजा सुनाई गई थी।

उन्हें शीर्षक आचार्य (“शिक्षक”) के नाम से सम्मानित किया गया था। विनायक नारहारी शंभू राव और रुक्मिणी देवी के सबसे बड़े पुत्र थे। वह कुल मिलकर पांच भाई बहन थे। उनके माता पिता के चार बेटे और एक बेटी थी, बेटी का नाम विनायक था। (स्नेह में उन्हें विन्या कहा जाता है), उनके पुत्र  बालकृष्ण, शिवाजी और दत्तात्रेय थे।

इसे भी पढ़ें -  चन्द्रगुप्त द्वितीय (विक्रमादित्य) इतिहास Life History of Chandragupta II Vikramaditya in Hindi

उनके पिता, नारहारी शंभू राव एक तर्कसंगत आधुनिक दृष्टिकोण के साथ एक प्रशिक्षित बुनकर थे और वह बड़ौदा में काम किया करते थे। विनायक कर्नाटक की एक धार्मिक महिला और अपनी मां रुक्मिणी देवी से काफी प्रभावित थे। बहुत कम उम्र में भगवत गीता पढ़ने के बाद वह अत्यधिक प्रेरित हुये और वह उसका सार भी समझ गये।

नवनिर्मित बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में गांधी के भाषण के बारे में समाचार पत्रों में छपे एक रिपोर्ट ने विनोबा का ध्यान आकर्षित किया। 1916 में मुंबई के माध्यम से मध्यवर्ती परीक्षा में उपस्थित होने के लिये जा रहे थे पर गाँधी जी के भाषण सुनकर उन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़ दी विनोबा भावे ने अपने स्कूल और कॉलेज प्रमाण पत्रों को आग में डाल दिया।

विनोबा भावे, गाँधी जी से 7 जून 1916 को पहली बार मिले, और वह उनकी बातों से वे इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने अपना समस्त जीवन उनकी राह में चलते हुये, देश की सेवा में लगा दिया।

स्वतंत्रता संग्राम में योगदान His contribution to the freedom struggle

वह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महात्मा गांधी से जुड़े थे। वह कुछ समय के लिए गांधी के साबरमती आश्रम में एक कुटीर बनाकर रहे, जिसका नाम उनके नाम पर रखा गया, ‘विनोबा कुटीर’।

वहां उन्होंने गीता पर अपनी मूल भाषा मराठी में अपने साथीयों को कई वार्ताएं दीं। बाद में इन बेहद प्रेरणादायक वार्ता को “टॉक ऑन द गीता(Talk on the Gita)” किताब के रूप में प्रकाशित किया गया था  और इसका अनुवाद भारत और अन्य जगहों पर कई भाषाओं में किया गया।

1940 में गांधी जी ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ पहली व्यक्तिगत रूप से सत्याग्रह में  (एक सामूहिक कार्रवाई के बजाय सत्य के लिए खड़े किये जाने वाले पहले व्यक्ति) के रूप में चुना गया था। ऐसा कहा जाता है कि गांधी ने भावे की ब्रह्मचर्य को, ब्रह्मचर्य सिद्धांत में अपनी धारणा के अनुरूप अपने किशोरावस्था में एक प्रतिज्ञा की और सम्मान दिया। भावे ने भारत छोड़ो आंदोलन में भी भाग लिया।

इसे भी पढ़ें -  मौलाना अबुल कलाम आज़ाद जीवनी Maulana Abul Kalam Azad Biography in Hindi

जेल यात्रा Vinoba Bhave in Prison

जब हमारे देश में अंग्रेजों का शासन हुआ करता था उस समय गाँधी जी जनता को जागृत करने में लगे थे और उन पर देश को आज़ाद कराने जैसी कुछ जिम्मेदारियां भी थी। उनके इन सभी कार्यों में आचर्य भी शामिल थे।

इस समय गांधीजी ने अहिंसा का सहारा लिया। 1920 से 1930 तक उन्हें कई बार जेल का रास्ता देखना पड़ा और वह तब भी अंग्रेजों से बिलकुल नहीं घबराये और 1940 में आचार्य को 5 साल की जेल हो गयी। वहां भी वह अपनी पढाई करते रहे और जेल ही उनका पढ़ाई का कमरा बन गया।

जेल की निकलने के बाद उनका दृढ़ निश्चय काफी मज़बूत हो गया। सविनय अबज्ञा आंदोलन में भी वे शामिल थे। 1940 में महात्मा गाँधी ने उन्हें अहिंसा आंदोलन के लिये चुना और लोगों के सामने उनकी एक मुख्य भूमिका बनने लगी।

बिनोवा भावे के आंदोलन Vinoba Bhave’s movements

भूदान आंदोलन Bhudan Movement

भूदान आंदोलन के तहत उन्होंने गरीब परिवार जिनके पास रहने के लिए जगह नहीं थी उनको अपनी भूमि दान दी फिर गाँव गाँव जाकर उन्होंने हर किसी से उनकी जमीन का छठवां हिस्सा ग़रीबों के लिये माँगा। इस तरह से वे विश्व विख्यात हो गये। इस तरह उन्होंने 6 आश्रमों की स्थापना कर ली।

सर्वोदय आंदोलन Sarvodaya Movement

सर्वोदय आंदोलन का मुख्य काम था, कि समाज के पिछड़ेपन को दूर करना। गरीबों और अमीरी में भेदभाव को कम करना और सबको एकजुट करना।

मृत्यु Death

विनोबा भावे एक विद्वान थे। वह अठारह भाषाओं को जानते थे। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय प्रसिद्धि की कई किताबें लिखीं। 1958 में विनोबा सामुदायिक नेतृत्व के लिए अंतरराष्ट्रीय रेमन मैग्सेसे पुरस्कार के पहले प्राप्तकर्ता थे। उन्हें मरणोपरांत ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया है। विनोबा भावे की मृत्यु 15 नवंबर 1982 को 87 वर्ष की आयु में हुई थी। वह एक आध्यात्मिक दूरदर्शी थे।

इसे भी पढ़ें -  रामकृष्ण परमहंस का जीवन परिचय Ramakrishna Paramahansa Life Story in Hindi

विनोबा भावे के सुविचार Vinoba Bhave Quotes in Hindi

  • हम हमारे बचपने को फिर से नहीं प्राप्त कर सकते है, यह तो ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे किसी ने पेंसिल से कुछ लिखकर पुनः उसे मिटा दिया है।
  • अगर जीवन में सीमायें नहीं होंगी तो स्वतंत्रता का मोल नहीं होता।
  • सत्य को कभी भी किसी के प्रमाण की जरुरत नहीं होती है।
  • अगर हम हर रोज एक ही काम करते है तो वह हमारी आदत में शामिल हो जाता है और तब हम अन्य कार्य करते हुये भी उस कार्य को कर सकते है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.