साइबर क्राइम पर निबंध (साइबर अपराध) Essay on Cyber Crime in Hindi

इस लेख में साइबर क्राइम पर निबंध (साइबर अपराध) Essay on Cyber Crime in Hindi लिखा गया है। इसमें आप साइबर क्राइम क्या है, प्रकार, मुख्य कारण, रोकने के उपाय, साइबर क्राइम ऐक्ट, रोकने के उपायों के बारें में जानकारी पढ़ेंगे।

साइबर क्राइम पर निबंध Essay on Cyber Crime in Hindi

Contents

साइबर क्राइम आज के डिजिटल युग में एक गंभीर समस्या बन चुकी है। ऐसे में सभी को साइबर अपराध के बारे में जानकारी अवश्य होनी चाहिए।

राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1930 
साइबर क्राइम की अफिशल वेबसाईटhttps://www.cybercrime.gov.in/

साइबर क्राइम क्या है? What is Cyber ​​Crime In Hindi?

हम सभी डिजिटल दुनिया की तरफ तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। तकनीकी नवीनीकरण के क्षेत्र में इंसानों ने अद्वितीय प्रगति कर लिया है, जिसका लाभ हर किसी को मिल रहा है। लेकिन विज्ञान का दुरुपयोग होने के कारण साइबर अपराध भी तीव्रता से अपना पैर पसार रहा है।

लोग आज पैसों से ज्यादा अपने डाटा प्राइवेसी को अहमियत देते हैं। आज डिजिटल युग एक ऐसी परिस्थिति का निर्माण कर चुकी है, जहां कुछ भी छुपाया नहीं जा सकता है। इंटरनेट दुनिया के तमाम देशों में सीमाओं को लांघ ज्ञान, समाचार और विभिन्न मुद्दे से जुड़ी हुई जानकारियों को सांझा करने में सहायता देता है।

इंटरनेट नेटवर्किंग का फायदा उठाते हुए कुछ लोग अपराधिक गतिविधियों को अंजाम देते हैं। ‘इलेक्ट्रॉनिक अपराध’ के नाम से पहचाना जाने वाला साइबर अपराध  आज एक सामान्य बात हो गया है। 

दूसरे शब्दों में कहा जाए तो, साइबर क्राइम वह होता है जहां एक साइबर अपराधी अपनी पहचान छुपा कर किसी उपकरण के सहायता से दूसरों को हानि पहुंचाने के उद्देश्य से उनकी सारी गोपनीय जानकारियां जैसे कि वित्तीय, व्यक्तिगत जानकारियां इत्यादि की चोरी करता है।

साइबर क्राइम किसी भी उद्देश्य से किया जा सकता है। यह एक आम नागरिक से लेकर बड़ी-बड़ी कंपनियों और देश की सरकारों की ऑफिशियल वेबसाइट और दूसरी महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए भी होता रहता है। 

साइबर क्राइम के प्रकार Types of Cybercrime in Hindi

साइबर एक्सपर्ट्स के मुताबिक साइबर क्राइम कई प्रकार से अंजाम दिए जाते हैं। कुछ महत्वपूर्ण साइबर अपराध के प्रकार निम्नलिखित दिए गए हैं-

वेब हाईजैकिंग Web Hijacking

साइबर अपराध का यह प्रकार बहुत प्रख्यात है। ऐसे मामलों में एक साइबर अपराधी दूसरों के ऑफिशियल वेबसाइट को हैक कर वहां से सभी महत्वपूर्ण जानकारियों की चोरी कर लेता है। वेबसाइट के मालिक को अपराधी द्वारा ब्लैकमेल कर हैकिंग के बाद फिरौती की मांग भी की जाती है।

अनधिकृत पहुँच एवं हैकिंग Hacking

साइबर अपराध अंजाम देने के लिए अधिकतर इस पद्धति का प्रयोग किया जाता है। इसमें अपराधी बिना किसी इजाजत के कंप्यूटर के आंतरिक जानकारियों में घुसपैठ करते हैं, और साइबर अटैक करके पूरे कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाते हैं।

और पढ़ें -  साइबर सुरक्षा पर निबंध Essay on Cyber Security in Hindi

साइबर स्टॉकिंग Cyber Stalking

साइबर स्टॉकिंग के प्रयोग से एक साईबर अपराधी लोगों को टारगेट करके अवैध तरीके से इंटरनेट की मदद से उनकी सारी जानकारियों को चुरा लेता है। इसके पश्चात सभी गोपनीय जानकारियों को वह अपने फायदे अनुसार इंटरनेट पर वायरल कर पीड़ितों को ब्लैकमेल करता है।

वायरस अटैक Virus Attack

वायरस अटैक आज एक सामान्य बात हो गई है। यह एक ऐसा अपराध है जिसके कारण कंप्यूटर, मोबाइल अथवा अन्य किसी यंत्र में मौजूद आवश्यक जानकारियों से छेड़छाड़ किया जाता है। 

कई बार तो वायरस अटैक के कारण पूरे डेटा को नष्ट कर दिया जाता है। ये साइबर अपराध ऐसे सॉफ्टवेयर के जरिए अंजाम दिए जाते हैं, जो दूसरे खराब सॉफ्टवेयर से जुड़कर उपयोगकर्ता के यंत्र को हानि पहुंचाता है।

सॉफ्टवेयर पायरेसी Software Piracy

साइबर क्राइम का यह वर्गीकरण बहुत विस्तृत है। ऐसे मामलों में एक साइबर अपराधी दूसरों के रियल प्रोग्राम की कॉपी बनाकर वायरल कर देता है, जो कि एक कानूनन अपराध है।

सर्विस अटैक Service Attack

इंटरनेट के जरिए लोग एक दूसरे के इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स विशेषकर कंप्यूटर, मोबाइल इत्यादि में जानबूझकर केवल लोगों को परेशान करने के लिए साइबर अटैक कर देते हैं। जिसके परिणाम स्वरूप यंत्रों की कार्य क्षमता घट जाती है।

पोर्नोग्राफी Pornography

यह कानून की दृष्टि से एक संगीन अपराध है, जिसमें साइबर अपराधी लोगों को पोर्नोग्राफी की ओर धकेलता है, लोगों को शारीरिक तथा मानसिक रूप से हानि पहुचाया जाता है और उन्हें ब्लैकमेल करके गलत काम करवाए जाते हैं।

फिशिंग Phishing

अक्सर लोगों के फोन में ऐसे अपरिचित स्पैम ईमेल आते है, जो किसी बड़े कंपनी या बैंक से होने का दावा करते हैं और सामने वाले व्यक्ति की जरूरी जानकारियों को निकलवाने के बाद लोगों के वित्तीय और अन्य गोपनीय जानकारियों की सहायता से उन्हें हानि पहुंचाया जाता है।

सलामी धोखाधड़ी Salami slicing

यह एक प्रकार से वित्तीय धोखाधड़ी होता है, जो लोगों की पकड़ में बेहद मुश्किल से आता। सलामी अटैक में साइबर अपराधी विभिन्न खाताधारकों से बहुत छोटे रकम की चोरी करता है, जिसे इकट्ठा करके वह एक बड़ा आंकड़ा कमा लेता है।

साइबर बुलिंग Cyber Bullying

शिक्षा के बाद बच्चे अपना सबसे ज्यादा समय इंटरनेट पर व्यतीत करते हैं। ऐसे में कई बार माता पिता के देखरेख के अभाव में इंटरनेट के जरिए विभिन्न प्रकार के दुष्प्रभाव की चपेट में बच्चे आ जाते हैं।

साइबर बुलिंग बच्चों के लिए एक गंभीर समस्या है, जिनके संपर्क में आने से एक बच्चे पर मानसिक और शारीरिक दोनों ही रूपों से गहरा नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

साइबर क्राइम होने के मुख्य कारण Main Reasons for Cyber Crime in Hindi

प्रतिदिन बढ़ते साइबर क्राइम को बढ़ावा देने के लिए कई चीजें जिम्मेदार हैं-

आज भारत सहित दुनिया के तमाम देश डिजिटल अर्थव्यवस्था की तरफ तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। साइबर अटैक्स का महत्वपूर्ण निशाना वित्तीय लाभ ही होता है। हैकर्स की ग्रुप साथ मिलकर देश विदेश के बड़े बड़े बैंकों को ही लूट लेते है। 

भला ऐसी परिस्थिति में एक सामान्य व्यक्ति साइबर क्राइम से कैसे बच सकता है। ऑनलाइन ट्रांजैक्शन का फ़ायदा उठा कर बड़े आंकड़ों में अपराधियों द्वारा आर्थिक धांधला किया जाता है।

सोशल नेटवर्किंग द्वारा अफवाह उड़ाना आज एक प्रचलन सा हो गया। धार्मिक, सामाजिक और तमाम प्रकार की अफवाहों को इंटरनेट के जरिए कुछ लिंक को चारों तरफ सोशल मीडिया में फैला दिया जाता है। जिसे क्लिक करने के बाद साइबर अपराधियों का रास्ता अपराध के लिए साफ हो जाता है।

साइबर अटैक करने का एक मकसद लोगो से वित्तीय ठगी के अलावा वैचारिक मतभेद उत्पन्न करने का भी होता है। जिस तरह सोशल मीडिया लोगों को जानकारी तो प्रदान करता है, लेकिन वही साइबर बुलिंग जैसे गंभीर अपराध भी किए जाते हैं। 

और पढ़ें -  JioPhone kya hai iske Design Features Price ki Puri jankari

इंटरनेट के जरिए धमकियां, भद्दे कमेंट्स और साइबर अपराधियों द्वारा ऐसी मनमानी किए जाते हैं, जिससे लोग डिप्रेशन तक में चले जाते हैं। विशेषकर बच्चे जो सोशल मीडिया से काफी फ्रेंडली हो जाते हैं, वे ऐसे साइबर अटैक के चपेट में जल्दी आते हैं।

अपराध का एक कारण यह भी है, कि कुछ लोग दूसरों की छवि को खराब करने के लिए साइबर अपराध को अंजाम देते हैं और गोपनीय जानकारियों को अवैध तरीके से चुरा कर लोगों को ब्लैकमेल करते हैं और अपनी आवश्यकतानुसार लाभ उठाते हैं।

विश्व भर में जितने भी साइबर अपराध की क्रियाएं होती हैं, उनमें सबसे ज्यादा हमारे पड़ोसी देश चाइना के कुल लगभग 40% से भी अधिक साइबर क्रिमिनल्स जिम्मेदार होते हैं। 

कुछ देश ऐसे होते हैं, जो दूसरे देशों के सरकारी ऑफिशियल वेबसाइट से लेकर सारी खुफिया जानकारियों को प्राप्त करने हेतु अपने प्रोफेशनल साइबर क्रिमिनल्स अथवा हैकर्स की टीम बनाते हैं।

ऐसी बात नहीं है कि केवल अमेरिका, ब्रिटेन, चाइना इत्यादि जैसे बड़े-बड़े और विकसित देश ही एथिकल साइबर क्राइम को बढ़ावा देते हैं। गुप्त रूप से लगभग सभी देश अपने रक्षा विभाग को गोपनीय एवं सुरक्षित करने के लिए साइबर एक्टिविटीज का सहारा लेते हैं।

साइबर क्राइम को रोकने के उपाय Measures to Prevent Cyber Crime in Hindi

  • इस दौड़ भाग भरे डिजिटल युग में यदि आपको अपनी सुरक्षा बनाए रखना है, तो हर समय सजग रहना होगा। साइबर क्राइम को रोकना एक सामान्य व्यक्ति की बात नहीं है, लेकिन इससे बचा जरूर जा सकता है। यदि सभी लोग साइबर क्राइम के विरुद्ध जागरूक रहने लगे तो बहुत जल्दी ऐसे क्राइम का आकड़ा गिरता हुआ दिखाई देगा।
  • ऐसे किसी भी स्पैम मेल अथवा कॉल आने पर सतर्क हो जाए जो बिना किसी आधार के आपसे कुछ पर्सनल डिटेल मांगे। खासकर फर्जी बैंकों से फोन आए जो आपको क्रेडिट अथवा डेबिट कार्ड के लिए खुद टाइम निकालकर फोन करें। क्योंकि कभी भी कोई बड़ी बैंक स्वयं के खाताधारकों को यू OTP अथवा पर्सनल डिटेल्स के लिए फोन नहीं करती।
  • किसी भी ऐसे अज्ञात वेबसाइट पर जाने से बचे जो सोशल मीडिया पर शेयर किए गए लिंक से जुड़ी हो। क्योंकि कई बार अनजाने में हम ऐसे लिंक को खोल लेते हैं, जो सीधे हमारे कंप्यूटर के डाटा से अपने आप जुड़ जाता है और वायरस अटैक से कंप्यूटर की कार्यक्षमता कम हो जाती है।
  • कोई भी एप्लीकेशन डाउनलोड करते समय या किसी वेबसाइट पर अपना पर्सनल डिटेल डालते समय सावधानी बरतें, क्योंकि यह वेब साइट्स आपके डाटा को हानि पहुंचा सकती है।
  • सार्वजनिक स्थलों पर इंटरनेट वाईफाई हॉटस्पॉट को कनेक्ट ना करें, क्योंकि ऐसे साइबर अटैक्स इंटरनेट शेयरिंग के जरिए भी किया जा सकता है।
  • पैरेंटल लॉक के जरिए बच्चों के इंटरनेट नेटवर्किंग की पहुंच को सीमित कर हमेशा उनकी ब्राउज़िंग हिस्ट्री की जांच करें।
  • कंप्यूटर में डाटा को सुरक्षित करने के लिए कुछ विश्वसनीय एंटीवायरस सॉफ्टवेयर को जरूर रखें।
  • सभी लोगों को अपने अकाउंट का सिक्योरिटी पासवर्ड जटिल नंबर और वर्ड्स को मिश्रित करके बनाना चाहिए। और हमेशा अकाउंट लॉगइन हिस्ट्री पर नजर रखनी चाहिए।
  • सभी यूट्यूब, इंस्टाग्राम, टि्वटर और फेसबुक उपयोगकर्ताओं को अपने सिक्योरिटी सेटिंग की जांच करते रहना चाहिए।
  • साइबर धोखाधड़ी के मामलों में ठगे गए लोगों के लिए गृह मंत्रालय द्वारा साइबर वित्तिय धोखाधड़ी पर लगाम लगाने के लिए रिपोर्टिंग प्लेटफॉर्म तथा राष्ट्रीय हेल्पलाइन 1930 को प्रारम्भ किया गया है। यदि कोई भी ऐसी परिस्थिति बनती है, तो फौरन कानून की सहायता लें।
और पढ़ें -  HDFC Bank का Balance कैसे Check करें?

साइबर क्राइम ऐक्ट क्या है? What is Cyber ​​Crime Act in Hindi?

साइबर क्राइम किसी भी देश के सबसे अहम चुनौतियों में से होता है। इसलिए भारतीय दंड संहिता में साइबर क्राइम एक्ट अथवा प्रावधानों को जोड़ा गया है।

‘सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000’ ऐसा ही एक साइबर अपराधों से निपटने के लिए प्रावधान है जिसके अंतर्गत 43, 43A, 66, 66B, 66C, 66D, 66E, 66F, 67, 67A, 67B, 70, 72, 72A एवं 74 धाराएँ सम्मिलित की गई हैं।

‘राष्ट्रीय अतिसंवेदनशील सूचना अवसंरचना संरक्षण केंद्र (National Critical Information Infrastructure protection centre-NCIIPC) जो भारत सरकार द्वारा ‘राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा नीति, 2013’ के तहत बनाया गया।

लोगों के व्यक्तिगत, गोपनीय एवं संवेदनशील सूचनाओं के संरक्षण के लिए इसका गठन किया है, जिसमें साइबर अपराधियों को 2 साल से लेकर उम्र कैद की सजा एवं भारी जुर्माना का भी प्रावधान है।

भारत में बढ़ते साइबर क्राइम्स को रोकने के के उद्देश्य से डिजिटल इंडिया मुहिम के अंतर्गत ‘साइबर स्वच्छता केंद्र’ बनाया गया है। इनमें कई प्रावधान किए गए हैं, जिसमें ‘सूचना सुरक्षा शिक्षा और जागरूकता’ (Information Security Education and Awareness: ISEA), ‘भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र’ (Indian Cyber Crime Coordination Centre-I4C) इत्यादि को शामिल किया गया है।

इतिहास में हुए कुछ बड़े साइबर क्राइम और अटैक Some of the Biggest Cybercrimes and Attacks in History in Hindi

साइबर क्राइम प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। हर रोज साइबर क्रिमिनल्स किसी न किसी साइबर अपराध को अंजाम देते ही रहते हैं, लेकिन इतिहास में कुछ ऐसे बड़े साइबर अपराध हुए हैं, जिन्होंने पूरी दुनिया को आश्चर्यचकित कर दिया है। 

वॉनाक्राय रैनसमवेयर अटैक Wanna Cry Ransomware Attack

रैनसम अर्थात ‘फिरौती’ ,जोकि साइबर क्राइम की दुनिया में बिल्कुल आम बात है। वैसे तो लगभग सभी अपराधी डेटा को वापस सुरक्षित प्रधान करने के लिए फिरौती मांगते हैं। लेकिन 12 मई 2017 के दिन जो ऐतिहासिक साइबर अटैक हुए थे, उसने पुरी दुनियां मे खलबली मचा दी थी।

रैनसमवेयर अटैक किसी एक या दो देशाें में नहीं बल्कि लगभग पुरी दुनियां मे हुए, जिसके बाद लगभग लाखों कंप्यूटरों ने काम करना बंद कर दिया था। और साइबर अपराधियों ने सिस्टम को पुनः शुरु करने के लिए फिरौती में बिटकॉइन के रुप में करीब 300-600 डॉलर की मांग की थी।

मेलिसा वायरस Melissa Virus

सन 1999 में इतिहास के सबसे बड़े साइबर अपराधो में दर्ज़ मेलिसा वायरस अटैक है। जब एक प्रोग्रामर डेविड ली स्मिथ ने माइक्रोसॉफ्ट वर्ड के ज़रिए खुलने वाली फाइलों को उपयोगकर्ताओं तक भेजकर सारा सिस्टम हैक कर लिया था। इस साइबर अटैक ने माइक्रोसॉफ्ट सहित कई बड़े कंपनियों को बेहद बुरी तरह से बर्बाद कर दिया था। 

नासा और पेंटागन साइबर अटैक NASA and Pentagon Cyber Attack

दुनियां की सबसे बडी और सुरक्षित माने जाने वाली अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा को एक 15 साल के बच्चे जेम्स जोनाथन ने 1999 में कुल 21 दिनों तक कंप्यूटरों को हैक करके बंद करवा दिया था। इस हमले में नासा को बहुत बडा नुक्सान पहुंचा था। 

ये थे इतिहास के कुछ बेहद प्रख्यात साइबर क्राइम। इसके अलावा 2007 का एस्टोनिया साइबर अटैक, एडोब साइबर अटैक, यूक्रेन का पावर ग्रिड हमला इत्यादि जैसे ढेरों ऐसे साइबर अपराध हुए हैं, जिन्हें दुनियां कभी भूल नहीं सकती।

निष्कर्ष Conclusion

आज के दिन में साइबर अटैक बढ़त जा रहा है। इंटरनेट का उपयोग करने वाले सभी लोगों को इसके विषय में जानकारी रखना और इससे बचने की जानकारियों से अवगत रहना चाहिए। 

इस लेख में आपने हिन्दी में साइबर क्राइम पर निबंध (cyber crime essay in Hindi) पढ़ा। आशा है यह लेख आपको जानकारी से भरपूर लगा होगा। अगर यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें।

2 thoughts on “साइबर क्राइम पर निबंध (साइबर अपराध) Essay on Cyber Crime in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.