अनेकता में एकता पर भाषण Speech on Unity is Strength in Hindi

अनेकता में एकता पर भाषण Speech on Unity is Strength in Hindi

इस आर्टिकल में हमने भारत देश में एकता के विषय में स्पीच दिया है। इस भाषण से बच्चे अपने स्कूल और कॉलेज के भाषण में मदद ले सकते हैं।

अनेकता में एकता पर भाषण Speech on Unity is Strength in Hindi

आदरणीय प्रिंसिपल सर, सभी शिक्षकगण, सभी सहपाठियों को मेरा नमस्कार। आज मैं आपके समक्ष अनेकता में एकता पर भाषण दूंगा।  भारत में अनेक जाति, धर्म, संप्रदाय के लोग रहते है।

यह एक बहुधार्मिक, बहुनस्लीय, बहुसांस्कृतिक देश है। हिंदु, मुस्लिम, सिख, ईसाई, जैन, बौध, पारसी आदि धर्म के लोग यहाँ रहते है जो बोली, भाषा, खानपान, त्योहारों में अलग है, पर फिर भी सब एक है। एक देश के नागरिक है।

इस तरह भारत में अनेकता में एकता देखने को मिलती है। सभी धर्मों के लोग आपसी भाईचारे, प्रेम और सद्भाव से रहते है। इसलिए भारत में शांति एवं खुशहाली बनी हुई है। सभी धर्मो के लोग अपने-अपने पूजा स्थल-मन्दिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारा में पूजा करते हैं।

भारत में हर धर्म के लोग अपना-अपना त्यौहार मनाते है। हिंदू-होली, दिवाली, रक्षाबंधन, जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, शिवरात्रि, बसंत पंचमी, चार धाम यात्रा, कुंभ जैसे त्यौहार मनाते है। जबकि मुस्लिम धर्म के लोग- ईद, बकरीद, मोहर्रम, रमजान जैसे त्यौहार मनाते है।

बौध धर्म के लोग- बुद्ध पूर्णिमा, परिनिर्वाण दिवस, मधा दिवस, डॉ भीमराव अम्बेडकर दिवस, अशोक विजय दशमी (धम्म विजय एवं दीक्षा दिवस), माघीपूर्णिमा, अश्विन पूर्णिमा, अषॉढी पूर्णिमा (महाभिनिष्क्रमण) जैसे त्यौहार मनाते है। सिख धर्म के लोग- गुरु नानक जयंती, लोहड़ी, बैसाखी, गुरु गोविन्द सिंह जयंती जैसे त्यौहार मनाते है।

सभी देशवासी 15 अगस्त, 26 जनवरी, 2 अक्टूबर जैसे राष्ट्रीय पर्व एक साथ मनाते है। देश में हर राज्य का अपना मुख्य त्यौहार होता है। असम में “बिहू” को धूमधाम से मनाया जाता है। आंध्रप्रदेश का कुचिपुड़ी नृत्य बहुत प्रसिद्ध है। गुजरात का “गरबा” नृत्य बहुत प्रसिद्ध है। तमिलनाडु में “पोंगल” पर्व को लोग बड़े उत्साह से मनाते है।

इसे भी पढ़ें -  हिन्दू वैवाहिक रस्म मेहंदी Hindu Wedding Ritual Mehendi in Hindi

पश्चिम बंगाल में काली पूजा, सरस्वती पूजा, दीपावली, दुर्गा पूजा, होली, शिवरात्रि, क्रिसमस मुख्य त्यौहार है। ओणम केरल का एक प्रमुख त्यौहार है जो 10 दिनों तक चलता है। हम्पी उत्सव, ओणम, मौसुर दसारा, नत्‍यांजलि नृत्‍य उत्‍सव, थिरूस्‍सुर पूरम जैसे त्यौहार तमिलनाडु, केरल जैसे राज्यों में मनाये जाते है।

राजस्थान में तीज, गणगौर, गणेश चतुर्थी, रामनवमी, जन्माष्टमी, दशहरा, दीपावली जैसे त्यौहार मनाये जाते है। इसके अलावा पुष्कर ऊंट मेला, बनेश्वर मेला, जैसलमेर डेसर्ट महोत्सव जैसे उत्सव मनाये जाते है। विभिन्न त्योहारों में भी एकता देखने को मिलती है।

भारत में अनेक भाषाये बोली जाती हैं। जम्मू कश्मीर के लोग कश्मीरी और डोगरी भाषा बोली जाती है, उतराखंड राज्य में गढ़वाली, कुमांउनी, और नेपाली भाषा लोग बोलते है। पंजाब के लोग पंजाबी बोलते है, तो गुजरात के निवासी गुजराती।

उतर प्रदेश राज्य में हिंदी और उर्दू भाषा बोली जाती है। महाराष्ट्र के लोग मराठी में बात करते है, तो कर्नाटक के लोग कन्नड़ भाषा में। करेल राज्य में मलयालम भाषा बोली जाती है जबकि तमिलनाडु में तमिल।

इसी तरह आन्धप्रदेश में तेलुगु भाषा लोग बोलते है, उड़ीसा में उड़िया, संबलपुरी, पश्चिम बंगाल में बंगाली में बात करते है। देश में हिंदी भाषा को राष्ट्र भाषा का दर्जा मिला है। यह सम्पूर्ण देश में बोली जाती है। अनेक भाषा होते हुए भी देश में एकता है।

देश में हर राज्य का अपना अलग खानपान है। हिमाचल और जम्मू कश्मीर के राज्यों में सर्दी पड़ने की वजह से मांसाहारी भोजन को लोग अधिक पसंद करते है। जबकि पंजाब के लोग भोजन में दही, पनीर, घी की अधिक मात्रा का सेवन करते है।

उत्तर प्रदेश के लोग अपने खाने में मांसाहार एवं शाकाहार दोनों का सेवन करते है। गुजराती खाना अक्सर मीठा होता है और खांडवी, ढोकला, खमन, थेपला, फाफड़ा जैसे पकवान खाते है।

जबकि तमिलनाडु राज्य के लोग अपने भोजन में चावल, नारियल, नारियल तेल का बहुत इस्तेमाल करते है। वहां उत्तपम, डोसा, सांभर, इडली, पेरुगु, पोंगल जैसे पकवान पसंद करते है। अनेक प्रकार के भोजन होते हुए भी एकता है।

भारत में कुल 29 राज्य है पर सभी एक देश में आते है। उत्तर भारत में जम्मू कश्मीर, उतराखंड, पंजाब, दिल्ली जैसे राज्य है तो पश्चिमी भारत में राजस्थान और गुजरात है। पूर्वी भारत में असम, मणिपुर, पश्चिम बंगाल, नागालैंड, त्रिपुरा जैसे राज्य है तो दक्षिण भारत में तमिलनाडु, केरला, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना जैसे राज्य है। सभी राज्यों की संस्कृति एक दूसरे से अलग है। इतने राज्य होते हुए भी देश में एकता है।

देश में हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, पारसी, जैन, बौध धर्म के लोग एक साथ मिल जुलकर रहते हैं। सभी अपने अपने धर्मो का पालन करते है। भारत एक धर्म निरपेक्ष राज्य है। यहाँ पर किसी पर कोई पाबंदी नही है। सभी धर्मो के लोगो को अपना धर्म रखने की छूट है।

सभी अपने धर्मो का पालन कर सकते हैं। देश में किसी भी धर्म के साथ कोई भेदभाव नही किया जाता है। यहाँ पर सभी धर्मो का सम्मान किया जाता है। सभी धर्मो को एक समान समझा जाता है। एकता बनी हुई है।

देश के हर राज्य की अपनी पारम्परिक पोशाके है। जम्मू कश्मीर राज्य में बहुत सर्दी पड़ती है इसलिए वहाँ के लोग पेहरन, पठानी सूट पहने है। हिमाचल प्रदेश के लोग पश्मीना शाल पहनना अधिक पसंद करते है।

पंजाब की औरतें शरारा, सलवार कमीज, पंजाबी सूट पहनना पसंद करती है। पंजाबी पुरुष शर्ट पेंट, पठानी सूट, कुर्ता पजामा और सर पर पगड़ी बांधते है। हरियाणा की महिलायें दामन कुर्ती और चुनर पहनती है।

दिल्ली जैसे राज्य में लोग सभी तरह के कपड़े पहनते है। उत्तर प्रदेश राज्य की महिलायें साड़ी और सलवार कमीज पहनना पसंद करती है, जबकि पुरुष धोती कुर्ता, शर्ट पेंट पहनते है। लुंगी भी पुरुषो के बीच प्रसिद्ध है। पश्चिम बंगाल में भी महिलायें साड़ी पहनना पसंद करती है। अनेक तरह की वेशभूषा और पहनावा होने के बाद भी देश में एकता है।

अब मैं “अनेकता में एकता से लाभ” बिंदु पर प्रकाश डालना चाहूँगा। हमारे देश पर अनेक राजाओ, मुगलों, विदेशी आक्रमणकारियों, अंग्रेजो ने समय-समय पर आक्रमण किया पर कोई भी जादा समय तक देश पर राज नही कर सका। जब देश पर कोई संकट आया तो सभी धर्मो, राज्यों, जातियों के लोगो ने मिलकर मुसीबत का सामना किया। देशभक्ति की भावना सभी ने मिलकर दिखाई।  

विभिन्न राज्यों, संस्कृतियों, धर्मो, जातियों, भाषाओं, खान-पान, रहन-सहन वाला देश है। यहाँ पर हर राज्य में भिन्नता देखने को मिलती है। पर भिन्नता के होते हुए भी एकता है। सभी राज्य एक देश “भारत” के अंतर्गत आते है।

यहाँ पर अनेकता में एकता देखी जा सकती है। सभी धर्मो के लोग एक दूसरे के साथ सुख दुःख में मदद करते हैं। सभी भारत माता के आँखों के तारे हैं। यहाँ अनेकता में एकता सिर्फ संस्कृतियों में नही मिलती है बल्कि प्रकृति में भी मिलती है।

कही पहाड़ है तो कही मरुस्थल, कही पठार है तो कही समुद्र तट। देश में अनेक नदियाँ है जो लोगो का पोषण करती है। इस तरह भारत में हर जगह अनेकता में एकता देखनी को मिलती है। इन्ही शब्दों के साथ मैं अपना भाषण समाप्त करता हूँ। धन्यवाद!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.